परवन नदी की रपट से गुजरना खतरे से कम नहीं, बेखौफ ग्रामीण कर रहे हैं नदी पार

परवन नदी की रपट से गुजरना खतरे से कम नहीं, बेखौफ ग्रामीण कर रहे हैं नदी पार

छीपाबड़ौद (बारां): राष्ट्रीय राजमार्ग 90 बारां-अकलेरा मार्ग पर सारथल के समीप आने वाली परवन नदी की रपट से गुजरना किसी खतरे से कम नही है. परवन नदी की पुलिया पर वर्तमान में लगातार आधा फुट पानी का बहाव चल रहा है. जो घटता बढ़ता रहता है. परन्तु टूटी फूटी पुलिया पर जान जोखिम में डालकर अनगिनत गड्ढों से जद्दोजेहद करते क्षेत्र के मुसाफ़िर भगवान भरोसे नदी पार कर रह है. 

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, कोरोना काल में पीएम मोदी का नेतृत्व दुनिया को दृष्टि और दिशा देने वाला

पुलिया पर बहाव में लग जाती है वाहनों की लंबी लाइनें:
वहीं परवन नदी की पुलिया के गड्ढों में फंसे भारी वाहनों से पुलिया पर बहाव में वाहनों की लंबी कतार लग जाती है. क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों की अनदेखी और सम्बंधित विभाग की लापरवाही क्षेत्र की जनता के लिये श्राप के समान है. परवन नदी पर बन रहे नये ब्रिज के कार्य को दो वर्ष में पूरा होना था परन्तु तय समय से विलम्ब चल रहे कार्य से इस वर्ष भी क्षेत्र की जनता को जान जोखिम में डालकर नदी पार करनी पड़ रही है. 

नदी की रपट को बनाया था आने जाने के लायक: 
पिछले वर्ष क्षेत्र के ग्रामीणों के आपसी सहयोग से नदी की पुलिया के गड्ढों में पत्थर मिट्टी आदि डालकर नदी की रपट को आने जाने के लायक बनाया था. परन्तु नदी में आये बहाव के कारण मिट्टी बह जाने से पुलिया में एक से दो फिट गहरे और दस फिट तक चौड़े गड्ढे बन गए है. जिनमें ग्रामीण पत्थर आदि डालकर पुलिया पर रास्ता बनाते रहते है. वहीं नदी के दोनों मुहानों पर ब्रिज निर्माणधीन कम्पनी द्वारा मिट्टी डाले जाने से बारिश से गीली हुई मिट्टी से फिसलन घाव पर नमक छिड़कने का काम कर रही है.

सरकार बताए राज्य के सफाई कर्मचारियों के लिए क्या कदम उठाए, हाईकोर्ट ने एडिशनल एफिडेविट पेश करने के दिए आदेश

और पढ़ें