सैपऊ के अस्पतालों में मरीजों को नहीं मिल रही सुविधाएं

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/07/22 12:46

सैपऊ (धौलपुर)। भले ही राज्य और केंद्र सरकार के द्वारा ग्रामीण अंचल में बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के दावे किए जा रहे हो लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। सैपऊ उपखंड क्षेत्र में एएनएम के भरोसे उप स्वास्थ्य केंद्र संचालित हो रहा है तो पीएचसी चिकित्सक विहीन बनी हुई है। वही उपखंड मुख्यालय के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की बात करें तो यहां आने वाले मरीजों के लिए सुविधाओं का टोटा बना हुआ है। 

गौरतलब है कि जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर दूर सैपऊ उपखंड मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर 6 चिकित्सकों के पद स्वीकृत हैं। जिनमें से 3 चिकित्सकों के पद रिक्त है। यहां एक भी विशेषज्ञ चिकित्सक नहीं है, लेकिन प्रतिदिन 500 से 600 ओपीडी मरीजों की संख्या बनी रहती है। यहां प्रतिमाह करीब 200 प्रसव होते है, जिन्हें नर्सिंग स्टाफ ही करवाता है। विशेषज्ञ चिकित्सक नहीं होने के कारण आपातकाल में यहां से मरीजों को रेफर करने पर 25 किलोमीटर दूर जिला मुख्यालय जाने के लिए मजबूर होना पड़ता है। 

सीएचसी पर कार्यरत डॉक्टर नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि, "हॉस्पिटल में जनरेटर नहीं होने के कारण विद्युत गुल होने पर मरीज गर्मी से बेहाल हो जाते है, जिससे वार्ड में भर्ती मरीज मजबूरी में पेड़ों के नीचे जमीन पर लेटकर या फिर बरामदे में कुर्सियों पर बैठकर उपचार कराते हैं। वहीं सीएचसी पर छत विहीन मोर्चरी होने के कारण यहां पोस्टमार्टम के लिए आने शवों को रखने वाले जगह के इर्द-गिर्द बंदर और कुत्तों का जमावड़ा रहता है। जिसके चलते शवों के क्षत-विक्षत होने का भय बना रहता है। 

तसीमो स्थित पीएचसी की बात करें तो इस अस्पताल को आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का दर्जा दिया गया है। लेकिन यहां करीब 2 माह से कोई भी चिकित्सक नहीं है। पीएचसी पर चिकित्सक नहीं होने के कारण एक कंपाउंडर के भरोसे  हॉस्पिटल संचालित हो रहा है। वहीं ग्रामीण दिनेश परमार ने बताया कि,"यहां एक भामाशाह के द्वारा हॉस्पिटल के भवन को बनवाया गया है।"

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in