जमाबंदी की नकल के बदले पटवारी ने मांगी रिश्वत, वीडियो वायरल

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/07/14 01:45

रावतसर(हनुमानगढ़)। रावतसर तहसील क्षेत्र में पटवारियों से अगर कोई काम करवाना हो तो बिना जेब ढीली किए काश्तकार का काम होना नामुमकिन है। ताजा मामला पटवार हल्का 4 DWM पटवारी हेमलता मीणा का प्रकाश में आया है। पटवारी मीणा ने किसान से जमाबंदी की नकल देने के बदले 400 रुपए की रिश्वत ली। किसान द्वारा जब इस राशि की रसीद मांगी गई तो पटवारी मीणा भड़क गई तथा तैश में आकर किसान को नौ दो ग्यारह होने एवं दोबारा शक्ल ना दिखाने का कहते हुए हड़काया। 

इस पूरे घटनाक्रम का मोबाइल से वीडियो बना लिया गया था जिसके सामने आते ही तहसील में हड़कंप मच गया। गौरतलब है कि पटवारी हेमलता मीणा पर पहले भी भ्रष्टाचार के काफी आरोप लगे थे। इतना ही नहीं राजकोष की राशि के गबन करने के मामले में तत्कालीन तहसीलदार ने पटवारी हेमलता मीणा को नोटिस भी दिया था। SDM द्वारा भी पटवारी के खिलाफ 17 सीसीए नियमों के तहत कार्रवाई की गई थी पर ऊंची राजनीतिक पहुंच के चलते मामले दबा दिए गए। इसके बाद पटवारी का भ्रष्ट आचरण बदस्तूर जारी है वहीं दूसरी तरफ ताजा मामला गरमाता देख तहसीलदार कस्तूरी लाल  ने पटवार मंडल का चार्ज अन्य पटवारी को दिला कर प्रकरण दबाने का प्रयास किया है। 

मामले की विस्तृत निष्पक्ष जांच होने से भ्रष्टाचार की बड़ी परते खुल सकती है। पटवारी अपने पटवार मंडल के मुख्यालय पर कभी नहीं मिलती। उसने तहसील कार्यालय के समक्ष एक किराए के मकान में कमरा ले रखा है जहां राजस्व रिकॉर्ड रखती है। इस कारण अमूल्य रिकॉर्ड की सुरक्षा भी भगवान भरोसे ही है। लेकिन तहसील से चंद फर्लांग दूर स्थित इस गड़बड़झाले के प्रति प्रशासन ने आंखें मूंद रखी हैं।
 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in