Live News »

डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर लोगों ने किया उन्हें याद, लॉकडाउन की वजह से सारे कार्यक्रम हुए स्थगित

डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर लोगों ने किया उन्हें याद, लॉकडाउन की वजह से सारे कार्यक्रम हुए स्थगित

अजमेर: आज डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 129 वीं जयंती है. लोग बाबा साहब को इस मौके पर याद कर रहे है. लेकिन कोरोना और लॉकडाउन की वजह से देशभर में बडा कार्यक्रम आयोजित नहीं हुआ. इस मौके पर प्रदेश के अजमेर जिले में बाबा साहब की जयंती पर मंगलवार को लोग उन्हें याद करने में जुटे हैं. कोरोना लॉकडाउन के चलते शहर में वाहन रैली और शोभायात्रा जैसे कार्यक्रम नहीं हो सकते हैं.

डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर लोगों ने किया उन्हें याद, लॉकडाउन की वजह से सारे कार्यक्रम हुए स्थगित

लॉकडाउन और कोरोना की वजह से कार्यक्रम हुआ​ स्थगित:
विभिन्न सामाजिक और राजनीतिक संगठनों के पदाधिकारी, सरकारी और निजी संस्थाओं के कर्मचारी ऑनलाइन ही डॉ. अम्बेडकर को पुष्पांजलि दे रहे है. हर साल शहर में कई जगह डॉ. भीमराव अम्बेडकर की शोभायात्रा निकाली जाती है. इस शोभायात्रा में कई झांकियां शामिल होती हैं. इस बार कोरोना लॉकडाउन के चलते शोभायात्रा नहीं निकाली जा सकती हैं. ना कोई सार्वजनिक कार्यक्रम हो सकते हैं. डॉ. अम्बेडकर की मूर्ति पर प्रतिवर्ष एकत्रित होने वाले लोग सोशल मीडिया पर ही उन्हें याद कर रहे हैं.

COVID 19: पीएम मोदी का संबोधन, भारत वासियों को 3 मई तक लॉकडाउन में रहना होगा,अनुशासन का करना होगा पालन

और पढ़ें

Most Related Stories

अजमेर: पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत

अजमेर: पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत

अजमेर: जिले में पिछले 12 घंटे में दो कोरोना पॉजीटीव मरीजों की मौत होने के बाद प्रशासन हड़कंप में मच गया. वहीं मेडिकल टीमों के लिए भी चिंता बढ़ गई. बताया जा रहा है कि एक बुजुर्ग की देर रात्रि में मौत हो गई वहीं एक पॉजीटीव मरीज की मौत सुबह हुई. 

Coronavirus: भारत कोरोन संक्रमित देशों की सूची में टॉप-10 में शामिल, लगातार चौथे दिन सबसे ज्यादा बढोत्तरी 

दोनों मृतकों को अन्य गंभीर बीमारियां भी थी: 
डॉ संजीव माहेश्वरी ने जानकारी देते हुए बताया कि देर रात्रि में बुजुर्ग पूर्व में मृत विनोद जो कि कोरोना पॉजिटिव था उनका ही पिता है. उनकी स्थिति ज्यादा गंभीर थी क्योंकि उनकी किडनी भी खराब हो चुकी थी और अन्य बीमारियां भी उन्हें थी जिस कारण से उनकी मौत हुई है. वहीं दूसरे मरीज में भी काफी बीमारियां थी जो कि आज सुबह मृत घोषित किया गया है. वहीं दोनों शवों को चीरघर में रखवा  दिया है. दोनों का नगर निगम के द्वारा रिष घाटी स्तिथ शमसान पर क्रियाकर्म किया जाएगा. 

जलती गर्मी में लू से बचने के लिए अपनाएं ये टिप्स  

अजमेर कृषि उपज मंडी की दुकानों में लगी आग, बारदाने की दुकानें जलकर हुई राख

अजमेर कृषि उपज मंडी की दुकानों में लगी आग, बारदाने की दुकानें जलकर हुई राख

अजमेर: जिले की रामगंज स्थित कृषि उपज मंडी में रविवार सुबह अचानक दुकानों में आग लग गई. आग की खबर लगते ही इलाके में हड़कम्प मच गया. सूचना मिलने पर रामगंज थाना पुलिस और अग्निशमन की गाड़ियां मौके पर पहुंची. काफी मशक्त के बाद आग को बुझाया गया. मंडी की करीब 6 से 7 दुकाने जलकर खाक हो चुकी थी. ये सभी दुकानें बारदाने की बताई जा रही है. 

COVID-19: देश में 24 घंटे में 6767 नए केस और 140 मरीजों की मौत, कुल मरीजों की संख्या हुई 1 लाख 31 हजार 868

फायर बिग्रेड ने बुझाई आग:
जानकारी के मुताबिक अजमेर जिले ओर आसपास के क्षेत्रों में अनाज की पूर्ति करने वाली कृषि अनाज मंडी में रविवार सुबह तड़के भीषण आग लग गई. आग की सूचना मिलते ही दुकानदार, मंडी के पदाधिकारी, फायर बिग्रेड  और पुलिस मौके पर पहुंची. आग ने धीरे धीरे विकराल रूप धारण कर लिया. वहीं फायर बिग्रेड के द्वारा आग को बुझाया गया. 

आग लगने के कारणों को नहीं हुआ खुलासा:
वहीं करीब 6 से 7 दुकानें जलकर खाक हो गई. सभी दुकानें वारदाने की बताई जा रही है. जानकारी के मुताबिक दुकान में वारदाने का सामान होने की वजह से आग की लपटें तेज होती नजर आई. वहीं फायर बिग्रेड के द्वारा दुकान की पीछे की दीवार को तोड़कर आग बुझाई गई. हालांकि अभी तक आग लगने के कारणों का खुलासा नहीं हुआ है. 

एक पिता की अनूठी पहल, प्रवासी बेटे के आइसोलेशन के लिए बना दिया सर्व सुविधाओं युक्त ढाई दिन का झोपड़ा

अलीपुरा में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही मचा हड़कम्प, मुंबई से लौटा युवक पाया गया संक्रमित 

अलीपुरा में कोरोना पॉजिटिव मिलते ही मचा हड़कम्प, मुंबई से लौटा युवक पाया गया संक्रमित 

अजमेर: पीसांगन उपखण्ड क्षेत्र के अलीपुरा में मुंबई-महाराष्ट्र से लौटे युवक के कोरोना पॉजिटिव आते ही प्रशासन हरकत में आया. प्रशासन ने सीमित क्षेत्र को सील करते हुए सम्पर्क में आए लोगों की स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ प्रभावित इलाके में हाइपो क्लोराइड का छिड़काव शुरू कर दिया.

प्रसव पीड़ा से तड़प रही प्रसूता के लिए हड्डियों का डॉक्टर बना देवदूत, वार्ड में पहुंचने से पहले ही कराया प्रसव 

चिकित्सा टीम पहुंची मौके पर:
मुख्य ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ. घनश्याम ने बताया कि अलीपुरा में 42 वर्षीय मुंबई से लौटा प्रवासी कोरोना जांच में पॉजिटिव पाया गया. युवक के पॉजिटिव निकलने के साथ ही उपखण्ड अधिकारी समदरसिंह भाटी, पुलिस उप अधीक्षक ग्रामीण विनोदकुमार सिप्पा, थानाधिकारी नरेंद्रसिंह राठौड़ मय जाब्ता चिकित्सा टीम के साथ मौके पर पहुंचे.

युवक की खंगाली जा रही है ट्रेवल हिस्ट्री:
पीड़ित युवक की ट्रेवल हिस्ट्री और सम्पर्क में आए शख्सों की सूची तैयार कर स्वास्थ्य परीक्षण किया, साथ ही सम्पर्क में आए 9 और गुजरात से लौटे 11 प्रवासियों को सेंपल के लिए अजमेर भेजा, सरपंच प्रतिनिधि रमजान खान ने प्रभावित इलाके में सोडियम हाइपो क्लोराइड का छिड़काव शुरू करवाया.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कुल 6 हजार 657 कोरोना संक्रमित, अब तक 156 मरीजों की मौत, 163 नए मामले आये सामने

सामूहिक दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र का मामला

सामूहिक दुष्कर्म का आरोपी निकला कोरोना पॉजिटिव, अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र का मामला

अजमेर: राजस्थान के अजमेर जिले में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. वहीं राहत की खबर यह भी है कि अब अजमेर जेएलएन अस्पताल में कोरोनावायरस मरीज भी नेगेटिव ज्यादा होने लगे हैं, वहीं डॉक्टरों द्वारा पॉजिटिव मरीजों का सफल इलाज करके अधिकतर मरीजो को छुट्टी भी दे दी गई है.

कलयुगी बाबा की करतूत..! इलाज के बहाने पिलाई महिला को नशे की दवा, फिर किया दुष्कर्म

दरगाह क्षेत्र में मचा हड़कंप: 
वहीं गुरुवार को अजमेर के दरगाह थाना क्षेत्र से एक आरोपी भी कोरोना पोजीव मिला है.  जानकारी के मुताबिक दो दिन पूर्व दरगाह थाना पुलिस ने दो आरोपियों को सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार किया था, जिसमें से एक आरोपी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद दरगाह क्षेत्र में हड़कंप मच गया.

खंगाली जा रही है मरीज की कांटेक्ट हिस्ट्री: 
वहीं आरोपी के पॉजिटिव आने के बाद दरगाह थाना पुलिस भी सख्ती में आ गई. वहीं  मेडिकल की टीम भी दरगाह थाना पहुंची ओर थाने में संपर्क में आये पुलिस कर्मियों की भी जांच शुरू करवा दी है. जानकारी के मुताबिक पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में करीब 5 पुलिस कर्मी आये थे. उन्हें क्वारंटाइन भी किया जा सकता है. वहीं मरीज कि अब कांटेक्ट हिस्ट्री का भी पता लगाया जा रहा है. वहीं आरोपी को जेएलएन अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया है, जहां पर उसका उपचार जारी है.

8 माह की गर्भवती सूरत से पैदल चलकर पहुंची यूपी बॉर्डर, कहा-रास्ते में किसी नहीं की मदद  

अजमेर में कोरोना संदिग्ध ने लगाई अस्पताल में फांसी, उत्तर प्रदेश का रहने वाला था संदिग्ध मरीज

अजमेर में कोरोना संदिग्ध ने लगाई अस्पताल में फांसी, उत्तर प्रदेश का रहने वाला था संदिग्ध मरीज

अजमेर: राजस्थान के अजमेर जिले के जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय में सोमवार को एक कोरोना संदिग्ध मरीज ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मरीज टॉयलेट में रस्सी से फांसी का फंदा बना कर उस पर झूल गया. वह उत्तरप्रदेश का रहने वाला था. वे पिछले दो दिन से अस्पताल में भर्ती था. इस घटना से अस्पताल में भर्ती मरीज परेशान हैं.जानकारी के मुताबिक जेएलएन में बनाए गए कोविड-19 सस्पेक्टेड वार्ड में भर्ती बरेली निवासी एक युवक ने वार्ड के शौचालय में फांसी लगाकर जान दे दी. 

केंद्रीय गृह सचिव ने सभी राज्यों को दिए निर्देश, मेडिकल स्टाफ के साथ निजी क्लीनिकों को खोलने की दें अनुमति 

अस्पताल के टॉयलेट में लगाई फांसी:
वह सुबह टॉयलेट गया था. काफी देर तक बाहर नहीं आया तो वहां भर्ती मरीजों ने नर्सिंग स्टाफ को इस बारे में बताया. स्टाफ ने भी आवाज दी, लेकिन भीतर से कोई जवाब नहीं मिला. इस पर स्टाफ ने मशक्कत के बाद गेट को तोड़ा तो भीतर का नजारा देखकर सब सन्न रह गए.टॉयलेट में मरीज फांसी पर लटका था. अस्पताल प्रशासन ने इसकी सूचना पुलिस को दी. 

दो दिन पहले कराया था भर्ती :
तबीयत बिगड़ने पर मरीज को दो दिन पहले ही भर्ती कराया गया था. उसका सैंपल जांच के लिए भेजा गया था. कोरोना की रिपोर्ट अभी आई नहीं है, लेकिन वह तनाव में था. सुबह ही उसने आत्महत्या कर ली. मरीज ने रस्सी से फांसी का फंदा लगाया. सवाल यह उठ रहा है कि अस्पताल में रस्सी कहां से आई. अस्पताल प्रशासन अब जांच करवाने का मानस बना रहा है. अस्पताल के लिए यह चिंता की बात है क्योंकि इस बीमारी से कई लोग डिप्रैशन में भी चले जाते हैं.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कुल 3940 कोरोना संक्रमित, अब तक 110 लोगों की मौत, 126 नए पॉजिटिव आये सामने

अजमेर में 2 गर्भवती महिलाओं की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव, कुल केस पहुंचे 196 

अजमेर में 2 गर्भवती महिलाओं की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव, कुल केस पहुंचे 196 

अजमेर: राजस्थान के अजमेर में कोरोनावायरस बढ़ता ही जा रहा है और रोज नए मामले सामने आते जा रहे हैं. शुक्रवार को भी अजमेर में सुबह 2 गर्भवती महिलाओं की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. वहीं दोपहर में 7 नए मरीज भी सामने आये है. अजमेर में आंकड़ा बढ़कर 196 तक पहुंच चुका है. 

सैटेलाइट अस्पताल में उपचार जारी:
अजमेर में पर्वतपुरा और उसके नजदीकी गांव की जो गर्भवती महिलाएं पॉजिटिव आई थी दोनों ही महिलाओं का सेटेलाइट अस्पताल में उपचार चल रहा था. वहीं दोपहर को 7 नए मरीज और सामने आए. जिला चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर ने जानकारी देते हुए बताया कि 3 नसीराबाद के हैं. 

सचिवालय कंप्यूटर ऑपरेटरों का प्रदर्शन, पिछले 3 महिने से नहीं मिला वेतन, आत्मदाह की दी चेतावनी

मरीजों की कांटेक्ट हिस्ट्री खंगाली:
2 मरीज होलिदडा के, 1 बाबु मोहल्ला और 1 युवक गेगल का है. साथ ही अजमेर जेएलएन अस्पताल एम फुलेरा का भी मरीज पॉजिटव मिला है. जिसका उपचार जारी है. वहीं अजमेर के बढ़ते आंकडे अब प्रशासन और चिकित्सा विभाग के लिए चिंता का विषय बने हुए है. चिकित्सा प्रशासन द्वारा सभी जगह स्क्रीनिंग करवाई जा रही. पॉजिटिव मिले  सभी लोगों की भी कांटेक्ट हिस्ट्री का पता कर लोगों की सैंपलिंग ली जा रही है. 

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान के 33 जिलों में से 31 में पहुंचा संक्रमण, कुल संक्रमित 3491, जयपुर में सबसे ज्यादा केस 

एसडीएम अभद्र व्यवहार मामला: राजस्थान में चिकित्सक मना रहे है ब्लैक फ्राइडे, काली पट्टी बांधकर जताया विरोध

एसडीएम अभद्र व्यवहार मामला: राजस्थान में चिकित्सक मना रहे है ब्लैक फ्राइडे, काली पट्टी बांधकर जताया विरोध

जयपुर: चिकित्सक के साथ 21 अप्रैल को अजमेर एसडीएम द्वारा अभद्र व्यवहार करने के विरोध में शुक्रवार को प्रदेशभर में चिकित्सक ब्लैक फ्राइडे मना रहे है. सरकारी और प्राइवेट चिकित्सक शुक्रवार को ब्लैक फ्राइडे मना रहे है. प्रदेश के सभी सरकारी और प्राइवेट चिकित्सकों का यह सांकेतिक विरोध है. अधिकांश अस्पतालों में काली पट्टी बांधकर चिकित्सक रोगियों का उपचार कर रहे है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन एवं अखिल राजस्थान सेवारत चिकित्सक संघ के आह्वान पर  ब्लैक फ्राइडे मनाया जा रहा है. अजमेर एसडीएम द्वारा अभद्र व्यवहार करने चिकित्सक आक्रोशित है. इस पूरे मामले में कार्रवाई नहीं होने के चलते चिकित्सक सांकेतिक विरोध जता रहे है. हालांकि, विरोध प्रदर्शन से आमजन को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नही होने देने की अपील की है. एकता प्रदर्शन के लिए चिकित्सकों ने अपनी व्हाट्सएप डीपी, फेसबुक प्रोफाइल कवर प्रोफ़ाइल पिक्चर, फेसबुक स्टोरी पर ब्लैक फ्राइडे का पोस्टर लगाया है.

COVID-19: देश में कुल 56 हजार 342 केस, पिछले 24 घंटों में 3390 नए संक्रमित मामले आये सामने, 103 लोगों की मौत

चिकित्सकों ने काले कपड़े पहनकर मनाया ब्लैक फ्राइडे
राजस्थान के अजमेर के सभी चिकित्सा संस्थानों के बाहर शुक्रवार को ओपीडी शुरू होते ही सांकेतिक रूप से दो-चार के समूह में काला झंडा हवा में 5 मिनट तक लहराया गया और जिला चिक्ट्स अधिकारी को ज्ञापन सौंप कर जल्द से जल्द कार्यवाही करने की मांग की. वहीं शुक्रवार को सभी डॉक्टरों ने काले कपड़े पहने कर ब्लैक फ्राइडे के रूप में इसे बनाया है.महिला चिकित्सक ज्योत्सना रंगा ने जानकारी देते हुए बताया कि एक और तो हम भारत में रहने वाले सभी के लिए एक से कानून लागू होने की बात करते हैं तो फिर एसडीएम के लिए अलग कानून क्यों है पूरा जिला प्रशासन एसडीएम को बचाने में लगा है.

एसडीएम को सस्पेंड करने की मांग
चिकित्सकों के लिए अब प्रशासनिक अधिकारियों से केवल सड़क पर पीटना ही बचा है. क्योंकि कभी किसी एसडीएम को कोई चिकित्सक नहीं लगाता है तो उसे थप्पड़ मार दिया जाता है, तो कोई चिकित्सक को कुर्सी से उठा देता है अब डंडे से पीटना बचा है. डॉक्टर रंगा ने मांग की है कि जल्द एसडीएम अर्तिका शुक्ला को सस्पेंड किया जाए और जब तक सस्पेंशन आर्डर नहीं आ जाते हम अपनी लड़ाई लड़ते रहेंगे. 

अनोखी शादी:  मास्क लगाकर दूल्हा-दुल्हन ने थामा एक-दूसरे का हाथ, विदाई में दिए मास्क और सैनिटाइजर

अप्रवासी राजस्थानियों की वापसी को लेकर सरकार गंभीर, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा कर रहे पल-पल की मॉनिटरिंग

अप्रवासी राजस्थानियों की वापसी को लेकर सरकार गंभीर, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा कर रहे पल-पल की मॉनिटरिंग

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पहल पर लॉकडाउन के दौरान दूसरे राज्यों में फंसे राजस्थानी अप्रवासियों की घर वापसी की राह भले ही खुल गई हो, लेकिन इस दौरान संक्रमण की रोकथाम को लेकर किसी भी तरह का समझौता फील्ड में नहीं होगा. फिर चाहे अप्रवासी राजस्थानी हो या श्रमिक, हर किसी को 14 दिन के क्वारेंटाइन पीरियड की कड़ाई से पालना करनी होगी. किसी भी कीमत पर क्वारेंटाइन में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी. अप्रवासी राजस्थानियों की घर वापसी के साथ ही चिकित्सा विभाग समेत अन्य एजेंसियां अलर्ट मोड पर आ गई है.

VIDEO: प्रदेशभर के अपार्टमेंट वासियों के लिए बड़ी खबर, जल्द लागू होगा अपार्टमेंट ऑनरशिप एक्ट 

बिना लक्षण के भी मरीज पॉजीटिव आ रहे:  
अप्रवासी राजस्थानियों की घर वापसी को लेकर सीएम अशोक गहलोत से लेकर चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने मोर्चा संभाल रखा है. चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने बताया कि देश के बाहर रहने वाले करीब 10 लाख लोगों ने राजस्थान में आने के लिए सरकार द्वारा जारी नंबर और पोर्टल के जरिए अनुमति मांगी है. बाहर से आने वाले प्रवासियों की स्क्रीनिंग से भी उनके पॉजीटिव होने का पता लगा मुश्किल है क्योंकि बिना लक्षण के भी मरीज पॉजीटिव आ रहे हैं. ऐसे में सभी जिला कलेक्टर्स को निर्देश दिए गए है कि वे उनकी होम क्वारेंटाइन या सरकारी क्वारेंटाइन करने की व्यवस्था करें.

- सीएम गहलोत के प्रयास से अप्रवासी राजस्थानियों की घर वापसी की खुली राह
- चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने दी राजस्थान की प्लानिंग की जानकारी
- भारत सरकार ने अप्रवासियों को लाने के लिए स्पेशन ट्रेनों की दी है मंजूरी
- प्रदेश के मुख्य सचिव रेलवे के अधिकारियों के साथ कॉर्डिनेशन कर रहे है
- ताकि सभी अप्रवासियों को डेस्टिनेशन टू डेस्टिनेशन लाया जा सके
- चिकित्सा मंत्री ने साफ कहा कि किसी भी गांव में लोगों को यदि आपत्ति है
- तो स्थानीय प्रशासन सभी अप्रवासियों को गांव के बाहर सरकारी भवन में क्वारेंटाइन में रखेंगे
- जो गरीब और बेसहारा हैं उनके लिए भी सरकारी क्वारेंटाइन की व्यवस्था करने के निर्देश दिए गए है
- बाहर से आने वाले सभी व्यक्ति को 14 दिन का होम या सरकारी क्वारेंटाइन पीरियड की पालन करनी होगा
- ताकि इस पहल के साइड इफेक्ट संक्रमण फैलने के रूप में नहीं आए

अप्रवासियों को लेकर सरकार की सख्ती के पीछे की वजह ये है कि राजस्थान में भले ही स्थिति नियंत्रण में बताई जा रही है, लेकिन फिर भी आठ जिलों को रेड जोन में रखा गया है. यानी इन जिलों में कोरोना का खतरा काफी ज्यादा है, जबकि 19 जिलों को आरेंज और छह जिलों को ग्रीन जोन यानी की सेफ जोन में रखा गया है. केन्द्र सरकार की 130 जिलों की सूची के बाद चिकित्सा विभाग की अलर्ट मोड पर आ गया है. इन जिलों को लेकर अलग से प्लानिंग शुरू कर दी गई है. 

रेड जोन में राजस्थान के 8 जिले !
- केंद्रीय मंत्रालय की सूची के बाद चिकित्सा विभाग अलर्ट
- देशभर के रेड जोन के 130 जिलों जारी की गई है सूची
- इस सूची में राजस्थान के आठ जिलों को रखा रेड जोन में
- 19 जिले ऑरेंज, जबकि 6 जिले रखे गए है ग्रीन जोन में
- राजस्थान में जयपुर,जोधपुर,कोटा,अजमेर ,
- भरतपुर ,नागौर,बांसवाडा ,झालावाड़ रेड जोन में
- टोंक ,जैसलमेर,दौसा ,झुंझुनू ,हनुमानगढ़
- भीलवाड़ा,सवाईमाधोपुर.चित्तौड़गढ़ ,डूंगरपुर
- उदयपुर,धौलपुर,सीकर ,अलवर ,बीकानेर ,चुरू ,पाली
- बाड़मेर ,करौली ,राजसमंद ,ये सभी ओरेंजे जोन में    
- बारां ,बूंदी ,गंगानगर ,जालौर ,सिरोही,प्रतापगढ़ ग्रीन जोन में
- चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने इस सूची को लेकर कहा
- राजस्थान में कोरोना की रोकथाम के लिए हरसंभव प्रयास
- सूची जारी होने से पहले ही हमने कर रखे पूरे इंतजाम
- सर्वाधिक खतरनाक इलाकों में लगा हुआ है कर्फ्यू
- इसके साथ ही संक्रमण रोकने  के लिए पूरे है इंतजाम

चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा ने निजी अस्पतालों की मनमानी पर भी सख्ती दिखाई है. चिकित्सा मंत्री ने कहा है कि यदि प्रदेश का कोई निजी चिकित्सालय ओपीडी, आईपीडी या इमरजेंसी में मरीजों को आवश्यक चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं कराता या कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों से ईलाज की एवज में राशि वसूलता पाया जाता है. तो न केवल उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्यवाही की जा सकती है बल्कि उसकी संबद्धता भी निरस्त की जा सकती है. 

आज रात 10 बजे जयपुर जंक्शन से पटना के लिए चलेगी स्पेशल ट्रेन, करीब 1200 मजदूर भेजे जाएंगे 

घर वापसी के बाद क्वारेंटाइन की सख्ती से पालना जरूरी:
राजस्थान में लॉक डाउन को लेकर फैसला होना अभी बाकी है, लेकिन आगे आने वाला एक पखवाड़ा सभी जिला कलक्टरों व सकार के लिए अग्निपरीक्षा से कम नहीं है. अप्रवासी राजस्थानियों की घर वापसी के बाद क्वारेंटाइन की सख्ती से पालना जरूरी है. अन्यथा स्थिति बिगड़ने में देर नहीं लगेगी. अब देखना ये होगा कि जिलों में कलक्टर इस महामारी की रोकथाम में अपनी भूमिका कितनी सही साबित कर पाते हैं. 

Open Covid-19