नई दिल्ली नोएडा में ट्विन टावर ध्वस्त किये जाने पर लोगों ने कहा- जमींदोज हुईं 'भ्रष्टाचार की इमारतें'

नोएडा में ट्विन टावर ध्वस्त किये जाने पर लोगों ने कहा- जमींदोज हुईं 'भ्रष्टाचार की इमारतें'

नोएडा में ट्विन टावर ध्वस्त किये जाने पर लोगों ने कहा- जमींदोज हुईं 'भ्रष्टाचार की इमारतें'

नई दिल्ली: नोएडा में रविवार को सैंकड़ों लोग सुपरटेक के 100 मीटर ऊंचे ट्विन टावर को ध्वस्त किये जाने के गवाह बने. लोगों ने अवैध रूप से निर्मित इन ढांचों के खिलाफ की गई कार्रवाई को सही ठहराते हुए इस कदम की प्रशंसा की. कुछ लोगों ने कहा कि यह कार्रवाई संदेश देता है कि देश में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, वहीं अन्य लोगों ने कहा कि यह कार्रवाई जरूरी थी.

इन इमारतों को विस्फोट कर ध्वस्त किये जाने से पहले, ट्विन टावर के चारों ओर 500 मीटर के दायरे को 'निषिद्ध क्षेत्र' घोषित कर दिया गया, जहां आम लोगों को जाने की अनुमति नहीं थी. इलाके में भारी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात किये गये थे. नोएडा और आसपास के शहरों के लोग इस कार्रवाई को देखने के लिए जेपी फ्लाईओवर मैदान के पास जमा हुए. कई लोग दोपहर ढाई बजे ट्विन टावर को ध्वस्त किये जाने से कुछ घंटे पहले एक ऐसी जगह ढूंढते नजर आए, जहां से ढांचों को ढहाए जाने के दृश्य बिल्कुल साफ नजर आए. पुरुषोत्तम मिश्रा (42) नामक व्यक्ति ने कहा, 'ऐसा लगा कि जैसे भ्रष्टाचार की इमारतें जमींदोज हो गईं हों.'

उन्होंने कहा कि यह अद्भुत था. हम यह देखने के लिए दो घंटे से इंतजार कर रहे थे. यह रसूखदार लोगों को एक कड़ा संदेश देगा.' मिश्रा ने कहा कि टावर ताश के पत्तों की तरह बिखर गया. कितनी जल्दी यह सब हो गया. दिल्ली के उत्तम नगर से आए आशीष सुमन ने कहा, 'यह इसी का हकदार था. उन्होंने कहा कि यह कई दिनों तक खबरों में रहा. आखिरकार अब यह सब खत्म हो गया. इससे सभी को एक कड़ा संदेश मिला है कि भारत में भ्रष्टाचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. सोर्स- भाषा

और पढ़ें