Live News »

नागौर कलेक्ट्रेट के बाहर आरएलपी कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

नागौर कलेक्ट्रेट के बाहर आरएलपी कार्यकर्ताओं ने किया प्रदर्शन

नागौर: राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी द्वारा आज प्रदेश स्तरीय धरना प्रदर्शन कर जिला स्तर पर जिला कलक्टर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपें. राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी द्वारा आज नागौर जिला मुख्यालय पर भी धरना प्रदर्शन किया गया और इस दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का पुतला भी दहन किया गया. धरना प्रदर्शन से पहले राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा हनुमान बेनीवाल के आवास से एक रैली भी निकाली गई.

इस दौरान राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के नेता नारायण बेनीवाल ने कहा कि अलवर के थानागाजी में दलित महिला के साथ हुए गैंगरेप और प्रदेश में बिगड़ी कानून व्यवस्था सहित अन्य मुद्दों को लेकर आज राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी द्वारा प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर प्रदेशव्यापी धरना प्रदर्शन किया जा रहा है. साथ ही महामहीम राज्यपाल के नाम जिला कलक्टर के माध्यम से ज्ञापन भी दिया गया है. 

अलवर गैंगरेप प्रकरण के दोषियों को फांसी की मांग
बेनीवाल ने कहा की अलवर गैंगरेप प्रकरण के दोषियों को फांसी की सजा दिलाने व भविष्य में फिर से ऐसी घटना न हो इस हेतु कड़ाई से कानून की पालना करने, नागौर जिले में दलित सिपाही गेनाराम मेघवाल आत्महत्या प्रकरण में पूरे परिवार को आत्महत्या हेतु मजबूर करने वाले दलित विरोधी मानसिकता रखने वाले अलवर एसपी अनिल परिस देशमुख को तुरंत प्रभाव से हटाने, पीड़िता को सुरक्षा व आर्थिक सहायता देने, सीएमओ के आदेश पर गम्भीर घटना को दबाने पर डीजीपी को बर्खास्त करने के साथ साथ दौसा में पुलिस द्वारा किए गए लाठीचार्ज में दोषी पुलिस कार्मिको व अधिकारियों पर कार्रवाई, तथा अलवर प्रकरण को वोट बैंक की राजनीति के चलते चुनाव तक दबाने के मुख्य जिम्मेदार सूबे के मुख्यमंत्री के त्यागपत्र की भी मांग है.

दलित हितों पर कुठाराघात सहन नही होगा
नारायण बेनीवाल ने कहा कि राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी प्रदेश के दलित, पिछड़े, आदिवासी समुदाय के हितों के लिए सदैव संघर्षरत है. किसी भी सूरत में दलित हितों पर कुठाराघात सहन नही होगा. 

....नरपत ज़ोया संवाददाता 1st इंडिया न्यूज नागौर 

और पढ़ें

Most Related Stories

भगवान महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव मनाया गया, जरूरतमंदों की सहायता की गई

भगवान महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव मनाया गया, जरूरतमंदों की सहायता की गई

नागौर: कोरोना वायरस के चलते शहर में जैन समाज द्वारा भगवान महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव और कोरोना महामारी के भीषण प्रकोप को दृष्टिगत रखकर जयगच्छाधिपति आचार्य पार्श्वचंद्र महाराज, डां पदमचंद्र महाराज की प्रेरणा से नागौर में आपदा पीड़ितों की सहायतार्थ अखिल भारतीय श्वेतांबर स्थानकवासी जैन श्रावक संघ और जेपीपी अंहिसा रिसर्च फाउंडेशन इंडिया की तरफ से आपदा पीड़ितों को खाद्य सामग्री के 55 किट नागौर में वितरित किए जा रहे है.

Coronavirus Updates: देश में लगातार बढ़ रहे है कोरोना के मामले, पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा पहुंचा 4 हजार पार, अब तक 114 लोगों की मौत

ध्वज अहिंसा परमो धर्म:
इस किट में 10 किलो आटा, 1 किलो चावल, 1 किलो शक्कर, 1 लीटर तेल, 1 किलो मिक्स दाल, 1 किलो नमक, 200 ग्राम मिर्ची, 100 ग्राम धनिया, 100 ग्राम हल्दी, चायपत्ती और साबुन है. वहीं श्वेतांबर स्थानकवासी जयमल जैन श्रावक संघ नागौर शाखा द्वारा मूक पशु-पक्षियों के लिए दाना, पानी, चारा, गुड़ की व्यवस्था अलग-अलग क्षेत्रों में घूमकर प्रतिदिन की जा रही है. महावीर जन्म कल्याणक महोत्सव के उपलक्ष्य में बांठियों की पोल के बच्चों ने छत पर जैन धर्म का ध्वज लहराया. ध्वज अहिंसा परमो धर्म: का संदेश दे रहा है.

सीएम गहलोत के निर्देश, कोरोना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए युद्ध स्तर पर करें काम, जयपुर के रामगंज में स्थिति नाजुक

विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद लगाई फांसी, अधमरा छोड़ भागे आरोपी

विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद लगाई फांसी, अधमरा छोड़ भागे आरोपी

मकराना(नागौर): मकराना उपखंड के गच्छीपुरा थाना क्षेत्र के ग्राम गिंगालिया में एक विवाहिता के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद फांसी लगाने का मामला सामने आया है. पीड़िता के गले में गहरी चोट आई, पीड़िता ने परिजनों के साथ पुलिस मे रिपोर्ट दी है.

Rajasthan Corona Update: प्रदेश में कोरोना की चपेट में आने से 5वीं मौत, पॉजिटिव केस का आंकड़ा हुआ 210 

ननदोई ने किया जबरदस्ती दुष्कर्म:
जानकारी के मुताबिक बडू निवासी एक विवाहिता हाल निवासी गिगालिया ने रिपोर्ट पेश कर बताया कि 4 महीने पूर्व उसका विवाह हुआ था. विवाह के डेढ़ महीने बाद जब वह पीहर लौटी तो कुछ दिन रुकने के बाद उसका पति उसे 28 फरवरी 2020 को जोधपुर ले गया. जोधपुर जाने के बाद उसका पति उसके साथ शराब पीकर मारपीट करने लगा. कुछ दिनों पूर्व जब उसके पति किसी काम से बाहर गए हुए थे, तब उसके ननदोई सेठुराम ने जबरदस्ती उसके साथ बलात्कार किया. ननदोई ने उसका मुंह कपड़े से बांधकर बलात्कार किया. 

पीएम मोदी की अपील पर देशवासी आज रात जलाएंगे एक दीया, कोरोना के अंधकार से मिलेगा छुटकारा

शराब पीकर बारी बारी से किया दुष्कर्म:
21 मार्च 2020 को उसके पति ने कोरोनावायरस के डर  से विवाहिता को गांव छोड़ दिया. पति उसी दिन मेड़ता रोड तक ट्रेन से आए तथा उसके बाद मेड़ता से पैदल गांव गिंगालिया के लिए रवाना हो गए. उसी  समय उसके पति के परिचित जीतू जो गच्छीपुरा क्षेत्र का निवासी है वो भी आ गया. रास्ते में अंधेरा होने पर विवाहिता के पति और अन्य दो व्यक्तियों ने शराब पीकर उसके साथ में बारी-बारी से बलात्कार किया. विवाहिता ने बताया गांव आते समय ही उसके दूसरे नणदोई गड्डी निवासी मोतीराम मेघवाल ने माणवा गांव की नाड़ी में पति के साथ मिलकर रस्सी से उसका गला दबाया जिससे वह बेहोश हो गई. विवाहिता को मरा समझ कर सब वहां से भाग गये. सूचना पर विवाहिता के परिजनों ने उसे संभाला और उसका उपचार करवाया. स्वस्थ होने के बाद में पीड़िता ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दी. पुलिस ने देर रात मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

लॉक डाउन के साइड इफेक्ट, 11 दिन की नवजात के साथ महाराष्ट्र सीमा पर फंसी प्रसूता

लॉक डाउन के साइड इफेक्ट, 11 दिन की नवजात के साथ महाराष्ट्र सीमा पर फंसी प्रसूता

डीडवाना(नागौर): कोरोना को लेकर लगाए गए लॉक डाउन के साइड इफेक्ट भी देखने को मिल रहे हैं. नागौर जिले के हरनावा कुचेटिया गांव की नव प्रसूता महाराष्ट्र के हिंगोली ज़िले के बॉर्डर पर फंसी हुई है. प्रसूता के पति से मिली जानकारी के अनुसार लॉक डाउन के बाद निजी कार किराए पर लेकर गांव आ रहे थे इसी दौरान हिंगोली बोर्डर पर पुलिस ने रोक लिया और कार चालक को भगा दिया और प्रसूता को 11 दिन की मासूम के साथ बीच सड़क पर उतार दिया.

VIDEO- Rajasthan Corona Update: प्रदेश में पिछले 12 घंटे में 4 नए मरीज और आए सामने, कुल पॉजिटिव संख्या पहुंची 83 

परिजनों ने नागौर ज़िला प्रशासन से भी गुहार लगाई:
प्रसव के दौरान जच्चा बच्चा को जो स्वास्थ्य सुविधाएं और खाना मिलना चाहिये वो नही मिल पा रहा हैं. ऐसे में प्रसूता और नवजात की जान को बिना कोरोना संक्रमण के भी खतरा हो सकता है. मासूम जहाँ कुपोषण की शिकार हो सकती है तो प्रसूता को भी खतरा हो सकता है. परिजनों ने नागौर ज़िला प्रशासन से भी गुहार लगाई हैं वहीं परबतसर विधायक रामनिवास गावड़िया ने भी प्रसूता को सकुशल यहां गांव के स्कूल में आइसोलेट करने की मांग जिला कलक्टर से की है.  

सचिन पायलट की पहल, पंचायती राज संस्थाओं को मिलेंगे 60 करोड़ रुपए,  मास्क, सेनेटाइजर और ग्लव्ज कराएंगे उपलब्ध

...फर्स्ट इंडिया के लिए डीडवाना से नरपत ज़ोया की रिपोर्ट
 

कोरोना को लेकर जल्द टलेगा खतरा, काली माता अखाड़े के पांडुलिपि में उल्लेख

कोरोना को लेकर जल्द टलेगा खतरा, काली माता अखाड़े के पांडुलिपि में उल्लेख

नागौर: कोरोना महामारी घोषित की जा चुकी है और कोरोना का कहर धीरे धीरे कई देशों तक फैलकर लोगों की जाने ले चुका है भारत भी इससे अछूता नही है. भारत में अब तक कोविड 19 यानी कोरोना की वजह से 15 मौतें हो चुकी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशभर में 21 दिनों के लिए लोक डाउन कर दिया है लोगों को स्टे एट होम के निर्देश दिए गए है ताकि संक्रमण का खतरा ताला जा सके और भारत मे कम से कम लोगो की जान जाए और जो संक्रमित है उनकी जाने बचाई जा सके. वहीं कोरोना को लेकर संवत्सरी पांडुलिपि में कई गई भविष्यवाणी के अनुसार खतरा जल्द टलेगा मगर सरकार की एडवाइजरी को नागरिकों को मानना होगा ताकि संक्रमण से बचा जा सके. 

.एसएमएस अस्पताल में भर्ती कोरोना पीड़ितों की सेवा करेगा रोबोट, मरीजों को पहुंचाएगा दवा और भोजन 

संवत्सरी नाम की इस पांडुलिपि में भविष्यवाणी की गई: 
नागौर जिले के डीडवाना के भाटी बास स्थित प्राचीन काली माता अखाड़े में कई पुराने और प्राचीन ग्रंथ रखे है जिनमे लगभग 200 साल पुरानी एक पांडुलिपि भी है. संवत्सरी नाम की इस पांडुलिपि में भविष्यवाणी की गई है कि भारतिय संवत्सर 2076 में वायरस जनित बीमारी से महामारी फैलेगी और इससे विश्वभर में लगभग एक लाख पच्चास हजार मौतें हो सकती है! पांडुलिपि की भविष्यवाणीया लगभग सटीक निकलती है.

VIDEO: फिर इतिहास दोहराएंगे कांग्रेसी! कोरोना की जंग में मदद को आये आगे 

कोरोना को देखते हुए जारी एडवायजरी की पूर्ण पालना कि जाए:
काली माता मंदिर के महंत योगी सोहननाथ के अनुसार कोरोना वायरस जनित संक्रमण वाला रोग है इससे सबको बचना होगा. काली माता मंदिर में आज चैत्र नवरात्रि में भी सिर्फ अकेले ही पूजा की गई है. भक्तों और श्रद्धालुओं को दर्शन के लिए मनाही है. योगी ने लोगों से अपील की है कि कोरोना को देखते हुए जारी एडवायजरी की पूर्ण पालना कि जाए नियमों का पालन किया जाए ताकि संक्रमण से बचा जा सके. योगी ने यह भी कहा है कि संवत्सर 2076 में शुरू हुई यह बीमारी 2077 के शुरुआती दौर में खत्म हो जाएगी और आने वाला नव संवत्सर देशवासियों के लिए मंगलकारी होगा और खुशहाली लेकर आएगा.

विश्व जल दिवस आज, सयुंक्त राष्ट्र संघ द्वारा इस बार का थीम क्लाइमेंट चेंज

विश्व जल दिवस आज, सयुंक्त राष्ट्र संघ द्वारा इस बार का थीम क्लाइमेंट चेंज

नागौर: जलवायु परिवर्तन से मौसम तंत्र में आश्चर्यजनक बदलाव हो रहे हैं. इससे मानसून भी प्रभावित हो रहा है. साथ ही जल दोहन की बढ़ोतरी के कारण प्रदेश में जल संकट गहराता जा रहा है. जल संकट एक बड़ी चुनौती के रूप में उभर रहा है. इस समस्या का निदान जन जागरूकता एवं जल संरक्षण ही एकमात्र एक उपाय है. आम जन को अब समझना होगा की जल है तो कल है. आज हम पेयजल के लिए नलकूप पर आश्रित हो गये है, जिससे हमारी पनघट भी सुनी सुनी सी हो गयी है अब कुए तालाब और बावडिया बिना पनघट वीरान सी हो गयी है. जल संकट को लेकर विश्व जल दिवस पर पेश है एक विशेष रिपोर्ट.

Janta Curfew: जनता कर्फ्यू का पूरे देशभर में असर, सड़कों पर पसरा सन्नाटा, इमरजेंसी सेवा को छोडकर सभी बंद

क्लाइमेंट चेंज की वजह से भी जल संकट:
क्लाइमेंट चेंज की वजह से भी जल संकट आने वाले समय मे खड़ा हो सकता है. जल संकट को देखते हुए जल संरक्षण जरुरी हो गया है और आज जरुरत इस बात की है की जल सरंक्षण में आमजन की भागीदारी आवश्यक हो गई है आम आदमी को  जल सरंक्षण के लिए आगे आना होगा. क्यों की मानूसन का मिजाज भी साल दर साल बदल रहा है जिससे से हालात विकट होते जा रहे है. इसका सबसे ज्यादा नुकसान किसानों को हो रहा जिससे कृषि में नुकसान होता है और इससे भारत की अर्थ व्यवस्था पर भी असर पड़ रहा हैं. इस बार विश्व जल दिवस पर यूएन द्वारा भी क्लाइमेंट चेंज थीम रखी गई है. 

राजस्थान में भी काफी बदलाव:
क्लाइमेंट चेंज की वजह से राजस्थान में भी काफी बदलाव हो रहे है. इस बार बीना मौसम ओलावृष्टि और बर्फ का गिरना, कभी अतिवृष्टि और कभी अल्पवृष्टि भी क्लाइमेंट चेंज की वजह से हो रही है. इससे किसानो को बड़ा नुकसान होता है और इसमें अर्थ व्यवस्था गड़बड़ा जाती है. मौसम विभाग समय समय पर पूर्वानुमान की सूचनाएं देता रहता है मगर किसानों तक सही समय पर सूचनाएं पंहुचे इसको लेकर काम करने की जरूरत है. ताकि किसान बदलते मौसम की वजह से नुकसान से बच सके. साथ ही बरसात के मौसम में होने वाले रन ऑफ़ को रोककर जल संग्रहण करने के साथ भूमिगत जलभूत चट्टानों में वर्षा जल को पहुँचाकर भूजल को रिचार्ज करना होगा अत्यधिक अंधांधुंध जल दोहन की वजह से जल की क्वालिटी भी जा रही है 85 फीसदी रोग जल जनित होते है ऐसे में शुद्ध पेयजल की उपलबधता काफी मायने रखती है .  

पेयजल योजनाएं भूजल आधारित:
प्रदेश की 10 फीसदी से अधिक पेयजल योजनाएं भूजल आधारित है तथा कृषि व उद्योग में भी भूजल का अत्यधिक उपयोग होने सेभूजल स्तर प्रदेश में लगातार गिरा है व भूजल गुणवत्ता भी प्रभावित हुई है. नागौर जिले में भूजल स्तर गत 25 वर्षों में 50  फीट गहराई में नीचे चला गया है. प्रदेश के ज्यादातर ब्लाकों की स्थिति खराब है नागौर जिला भी डार्क जोन में है और यहा फिर भी भूजल का अँधाधुंध दोहन हो रहा है, जो आने वाले समय के लिए खतरे की घंटी है. आज जरुरत इस बात की है की आम आदमी को पानी का मूल्य समझाना होगा ! क्यों की जल है तो कल है.

CORONA: मिल गया कोरोना का तोड़, सुपर कंप्यूटर बना मददगार, दवा बनाने में मिलेगी मदद !

बावड़ी और तालाब को भूल चुके है:
आज हम कुवे बावड़ी और तालाब को भूल चुके है जो बदहाल है और देख रेख के आभाव में ज्यादातर रित चुके है या रीतने के कगार पर है. भू जल को अधिक से अधिक पुनर्भरण करने की जरुरत है. हमें परम्परागत जल स्रोतों की और फिर से मुड़ना होगा और अपनी पुराणी और परम्परागत कुवे बावड़ी और तालाब की और लोटना होगा ।ताकि जल संकट की एक जंग को जीत सके. नदियों को जोडक़र नहर परियोजना से जल प्रबन्धन समय की आवश्यकता है.

...फर्स्ट इंडिया के लिए नरपत जोया की रिपोर्ट

कोरोना वायरस को लेकर चिकित्सा अधिकारी सतर्क, आमजन को किया जा रहा है जागरूक 

कोरोना वायरस को लेकर चिकित्सा अधिकारी सतर्क, आमजन को किया जा रहा है जागरूक 

मूण्डवा( नागौर): देशभर में कोरोना वायरस को लेकर सभी चिंतित है तो वहीं नागौर जिले के मूण्डवा खण्ड चिकित्सालय में कोरोना वायरस से बचाव के लिए अलग अलग प्रयास किए जा रहे है. यहां चिकित्सा कर्मी, आशा सहयोगीनी, नर्सिंग स्टाफ द्वारा घर घर जाकर लोगों को कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रेरित किया जा रहा है. वहीं मूण्डवा चिकित्सालय में भी कोरोना वायरस को लेकर आने वाले मरीजों के हाथ धुलाकर परिसर मे प्रवेश दिया जा रहा है. 

कनिका कपूर की पार्टी में शामिल हुई थीं राजस्थान की पूर्व सीएम वसुंधरा राजे, कराया खुद को आइसोलेट 

कोरोना की बीमारी का बचाव ही इलाज:
साथ ही चिकित्सालय में सभी स्टाफ कोरोना वायरस से बचाव को ध्यान मे रखते हुए मार्स्क लगाए हुए नजर आये. इसके साथ ही मूण्डवा बीसीएमओ राजेश बुगासरा ने बताया कि कोरोना वायरस की बीमारी का बचाव ही इलाज है. सभी को इस समय अपने घरों में ही रहना चाहिए और जब भी घरों से बाहर निकलो तो अपने मुंह पर मार्स्क या रूमाल लगा कर निकले और समय समय पर साबुन से हाथ धोये. अधिक भीड भाड वाले इलाके में जाने से बचे. साथ ही सर्दी जा जुकाम होने पर अपने नजदीकी अस्पताल या चिकित्सक के पास जाकर सलाह लें. 

सिंगर कनिका कपूर को कोरोना वायरस, लंदन से कुछ ही दिनों पहले लौटी थीं

फिलीपींस में फंसे स्टूडेंट्स ने लगाई सरकार से मदद की गुहार, सुरक्षित भारत वापसी की गुहार

 फिलीपींस में फंसे स्टूडेंट्स ने लगाई सरकार से मदद की गुहार, सुरक्षित भारत वापसी की गुहार

नागौर: नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के बीच फिलीपींस में फंसे 1000 से ज्यादा मेडिकल स्टूडेंट की स्वदेश वापसी की सरकार से मांग की है. बेनीवाल ने विदेश मंत्री को पत्र लिखकर कहा कि जल्द से जल्द सभी विधार्थियो की वतन वापसी हो. वहीं दूसरी और फिलीपींस में फंसे नागौर के तीन छात्रों के परिजनों ने बुधवार को नागौर जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव को प्रधानमंत्री,विदेश मंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौपा और मदद की गुहार लगाई है.

नागौर के करीब 50 मेडिकल स्टूडेंट फंसे हुए हैं फिलीपींस में:
परिजनों ने बताया कि नागौर के दोनों छात्रों की भारत के बाकी छात्रों के साथ 19 मार्च की भारत वापसी की टिकट थी, लेकिन भारत सरकार ने 17 मार्च को ही फिलीपींस से आने वाली उड़ान पर रोक लगा दी और उनके बच्चे वहीं फंस गए हैं. आपको बता दें  नागौर के करीब 50 मेडिकल स्टूडेंट फिलीपींस में फंसे हुए हैं, जिनमें से दो नागौर शहर के दो स्टूडेंट नितिन भाकल और प्रवीण मिर्धा है. जिनके लिए परिजनों ने जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव को ज्ञापन सौपते हुए केंद्र सरकार से गुहार लगाई है कि उनके बच्चों को सुरक्षित घर लाया जाए. 

ईरान से तीसरी बार भारतीयों का दल पहुंचा जैसलमेर, एयरपोर्ट पर हुई सभी की स्क्रीनिंग

मेडिकल की पढ़ाई करने गया था फिलीपींस:
नागौर शहर के रहने वाले नितिन भाकल की मां वसुंधरा भाकल ने बताया कि नितिन तीन साल पहले मेडिकल की पढ़ाई करने फिलीपींस गया था. मार्च में परीक्षा होने पर वह नागौर आने वाला था, लेकिन इसी बीच कोरोना वायरस का खतरा आ गया और वहां की सरकार ने तीन दिन में देश छोड़कर जाने को कह दिया. नितिन और पुष्पेंद्र डूडी, रवि बसवाना, प्रदीप मेघवाल, नरेंद्र जाणी, सुरेश सारण ने 19 मार्च के टिकट भी बनवा रखे थे, लेकिन 17 मार्च को ही सरकार ने फिलीपींस से भारत आने वाली उड़ान पर रोक लगा दी. 

अब बायोमेट्रिक से नहीं ओटीपी से मिलेगा राशन! कोरोना के संक्रमण को देखते हुए व्यवस्था में बदलाव

खाने-पीने का भी पर्याप्त राशन नहीं:
वहीं नितिन के मामा का कहना है कि फिलीपींस में फंसे हुए स्टूडेंट्स के पास खाने-पीने का भी पर्याप्त राशन नहीं है. ऐसे में वे वहां परेशान हो रहे हैं. उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि फिलीपींस में फंसे स्टूडेंट्स को एयरलिफ्ट कर भारत वापस लाया जाए. नितिन के पिता सुखदेव भाकल सीआरपीएफ में इंस्पेक्टर हैं और अभी छत्तीसगढ़ में तैनात हैं. वहीं नागौर जिला कलेक्टर दिनेश कुमार यादव का कहना है कि परिजनों के शॉप पर ज्ञापन को गृह मंत्रालय को प्रेषित किया जा रहा है. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए यूनुस की रिपोर्ट

कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता, नगरपालिका ने शहर में करवाई फॉगिंग

कोरोना वायरस को लेकर सतर्कता, नगरपालिका ने शहर में करवाई फॉगिंग

डीडवाना(नागौर): विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है. वहीं  भारत में कोरोना से बचाव को लेकर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. प्रदेश सरकार भी कोरोना के खतरे को लेकर गंभीर है, स्वास्थ्य महकमा अलर्ट मॉड पर है. मंगलवार को  नागौर जिले के डीडवाना में नगरपालिका द्वारा शहर के भीड़भाड़ वाले इलाकों में फॉगिंग करवाई गई है.

प्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 50 RAS अधिकारियों के तबादले, कार्मिक विभाग ने जारी किए आदेश

बनाया गया आइसोलेशन वार्ड:
पालिका की टीम ने मंगलवार को कचहरी परिसर में अधिवक्ताओं के चेम्बरों के साथ-साथ कोर्ट परिसर, मुख्य बस स्टैंड, निजी बस स्टैंड और अस्पताल परिसर में फॉगिंग करवाई गई. डीडवाना में प्रशासन द्वारा शहर के बांगड़ अस्पताल में भी कोरोना को देखते हुए 6 बेड का आईशोलेशन वार्ड बनाया गया है और इटली इंग्लैंड और जापान से प्रवास कर आए नागरिकों की भी जांच कर उन्हें निर्देश दिए गए है. प्रवासी नागरिकों पर विशेष निगरानी भी रखी जा रही है. 

Corona in Rajasthan: 31 मार्च तक सभी पर्यटक स्थल और स्मारक बंद, 5 मेले किए रद्द 

Open Covid-19