Live News »

राजस्थान में रेस्टोरेंट,भोजनालय और मिठाई की दुकानें खोलने की अनुमति, हॉटस्पॉट इलाके में नहीं मिलेगी छूट

जयपुर: कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच राजस्थान सरकार ने एक नया फरमान जारी किया है. राजस्थान में अब रेस्टोरेंट, भोजनालय, मिठाई की दुकानें खोलने की अनुमति दी है. हालांकि हॉटस्पॉट इलाके में यह अनुमति नहीं मिलेगी. सिर्फ टेक-अवे और होम डिलीवरी के लिए आदेश जारी किया गया है. वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों पर बने ढाबे खोलने की भी अनुमति दी गई है. हार्डवेयर की निर्माण सामग्री की दुकानें खोलने के भी आदेश जारी हुए हैं. अब प्रदेश में वाहनों के शो रूम, एसी-कुलर, टीवी, इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकानें भी खुल सकेंगी.

मंत्री मा. भंवरलाल मेघवाल की तबीयत नासाज, सीएम गहलोत ने पूछी कुशलक्षेम

अर्थव्यवस्था लौटेगी पटरी पर:
आपको बता दें कि राजस्थान में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए दुकानों को खोलने का आदेश दिया गया है. बुधवार को राजस्थान में कोरोना वायरस के 202 मामले सामने आए. यह अब तक राजस्थान में एक दिन में आए कोरोना मरीजों की सबसे ज्यादा संख्या है. जयपुर में सबसे अधिक 61 मामले सामने आये. इसके अलावा कोरोना वायरस के 33 मामले उदयपुर, 28 मामले जालौर, 27 मामले पाली, 8 मामले जोधपुर और 6 मामले सवाई माधोपुर से सामने आए हैं.

राजस्थान में कुल मरीज 4328:
राजस्थान में कुल मरीजों की संख्या 4328 तक पहुंच गई है. वहीं अब तक कोरोना की वजह से 121 लोगों की मौत हो चुकी है. फिलहाल राजस्थान में कोरोना वायरस के 1699 मामले एक्टिव हैं, जबकि कई लोगों का इलाज हो चुका है और उनको अस्पताल से छुट्टी भी मिल चुकी है.

जयपुर, जोधपुर, कोटा में नवगठित 2-2 नगर निगम मामले की सुनवाई 29 को

और पढ़ें

Most Related Stories

लखनऊ नगर निगम के बॉन्ड की 2 दिसंबर को होगी लिस्टिंग, सीएम योगी जाएंगे मुंबई 

लखनऊ नगर निगम के बॉन्ड की 2 दिसंबर को होगी लिस्टिंग, सीएम योगी जाएंगे मुंबई 

लखनऊ: यूपी की राजधानी लखनऊ के नगर निगम की जल्द सूरत बदलने वाली है. लखनऊ नगर निगम (Lucknow Nagar Nigam) के बॉम्बे स्‍टॉक एक्‍सचेंज (BSE) में लॉन्‍च बॉन्ड (Launch bond) की लिस्‍ट‍िंग होने वाली है. यह लिस्टिंग मुंबई में 2 दिसंबर को होगी और इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) भी मौजूद होंगे. उनके साथ नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन भी मौजूद रहेंगे.

नगर निगम (Nagar Nigam) की इस उपलब्धि की देश और दुनिया कई औद्योगिक हस्तियां गवाह बनेंगी. बता दें कि नवंबर के शुरुआती सप्ताह में लखनऊ नगर निगम (Lucknow Nagar Nigam) ने BSE बॉन्ड मंच के माध्यम से नगरपालिका बॉन्ड जारी करके 200 करोड़ रुपए जुटाए हैं. नगर निगम ने BSE बॉन्ड प्लेटफॉर्म पर 450 करोड़ रुपए के लिए 21 बोलियां प्राप्त कीं, जो कि इश्यू के आकार का 4.5 गुना है. 

{related}

बॉन्ड को पैसे जुटाने का बेहतर माध्यम माना जाता है. नगर निगम बॉन्ड भी शहरी लोकल बॉडी के लिए होता है. कहने का मतलब यह है कि नगर निगम को पैसे की जरूरत होती है तो बॉन्ड का माध्यम अपनाया जाता है.BSE के अनुसार कुल 11 नगरपालिका बॉन्ड जारी किए गए हैं, जो कुल मिलाकर 3,690 करोड़ रुपए के हैं. इनमें से BSE बॉन्ड मंच का योगदान 3,175 करोड़ रुपए है. इस तरह नगरपालिका बॉन्ड बाजार में BSE की हिस्सेदारी 86 फीसदी पर है.

Petrol Diesel Price: लगातार 8वें दिन लगी पेट्रोल-डीजल में आग, जानिए आज के रेट

Petrol Diesel Price: लगातार 8वें दिन लगी पेट्रोल-डीजल में आग, जानिए आज के रेट

जयपुर: 2 महीने की शांति के बाद पेट्रोल-डीजल ने पिछले 8 दिन से तेवर दिखाना शुरू कर दिया. आज पेट्रोल 25 पैसे और डीजल 30 पैसे की बढ़त के साथ शुरू हुआ. सर्दी और कोरोना संकट के दौर में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि जारी है इससे आमजन मुश्किल में पड़ गया है. 

पेट्रोल-डीजल आम आदमी की पकड़ से बाहर होता जा रहा:  
संकट के इस दौर में पेट्रोल-डीजल आम आदमी की पकड़ से बाहर होता जा रहा है. एक तरफ तो पिछले 8 दिन में कीमतों में वृद्धि का दौर जारी है दूसरी तरफ राज्य सरकार भी लॉकडाउन अवधि में 2 बार पेट्रोल और डीजल पर वैट बढ़ा चुकी है. कोरोना संकट के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बाद भी देश और प्रदेश में पेट्रोल डीजल के दाम में वृद्धि का दौर जारी है. पिछले 8 दिनों में जिस तरह से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि हो रही है उससे ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार का तेल कंपनियों पर नियंत्रण पूरी तरह समाप्त हो चुका है. 

{related}

तेल कंपनियों ने अपना मार्जिन बढ़ाने के लिए शुरू किया वृद्धि का दौर:
तेल कंपनियां ढाई महीने शांत बैठने के बाद अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कम होने के बाद भी अपना मार्जिन बढ़ाने के लिए पिछले 8 दिन से कीमतों में वृद्धि का दौर शुरू कर चुकी हैं. 20 नवम्बर को पेट्रोल-डीजल में वृद्धि का दौर शुरू हुआ जो आज  तक जारी है. इस अवधि में पिछले 8 दिन में पेट्रोल जहां एल रुपए 20 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ है वहीं डीजल की कीमतों में भी 1.88 रुपए की वृद्धि हुई है. पेट्रोल के दाम 89.41 रुपए के स्तर पर पहुंच गए हैं. वहीं डीजल के दाम में भी 81.15 रुपए का मुकाम हासिल किया है. 

पेट्रोल-डीजल की दरें तोड़ रही आम आदमी की कमर:
इसका सीधा मतलब है कि  कोरोना संकट के दौर में जहां लोगों के रोजगार छिन रहे हैं, वेतन भत्तों में कमी आई है उस दौर में पेट्रोल-डीजल की दरें बढ़ाकर आम आदमी की मानों कमर तोड़ दी गई है.

20 करोड़ रूपये की डकैती के मामले में मणप्पुरम फाईनेंस लिमिटेड का ब्रांच मैनेजर गिरफ्तार

20 करोड़ रूपये की डकैती के मामले  में मणप्पुरम फाईनेंस लिमिटेड का ब्रांच मैनेजर गिरफ्तार

कटक: हाल ही में मणप्पुरम फाईनेंस लिमिटेड के शाखा प्रबंधक को कटक में आईआईएफएल की शाखा से करीब 20 करोड़ रूपये के सोने और अन्य बेशकीमती चीजों की डकैती के  मामले में हिरासत में लिया गया है. पुलिस उपायुक्त प्रतीक सिंह ने बताया है कि शाखा प्रबंधक से इस डकैती के सिलसिले में जांचकर्ता पूछताछ कर रहे हैं. इसके साथ ही पुलिस को इस डकैती के मामले में गिरफ्तार किए गए सात लोगों में से पांच को तीन दिन के लिए हिरासत में लेने के लिए अदालत से अनुमति भी मिल गई है. 

सिंह ने बताया कि मंगलवार को गिरफ्तार किये गये आईआईएफएल के स्वर्ण मूल्यांकन अधिकारी लाला अमृत राय उन पांच लोगों में शामिल है जिनसे हिरासत में पूछताछ की जाएगी. उनके अनुसार जांच दल का शक पक्का हो गया है कि वह मणप्पुरम फाईनेंस से ऋण लेने के लिए आईआईएफएल के गिरवी वाले सोने का नियमित रूप से इस्तेमाल कर रहा था. पुलिस अधिकारी ने कहा कि चूंकि मणप्पुरम फाइनेंस प्रबंधक अमृत के ऋण संबंधी विषयों को देख रहा था, इसलिए अब उससे इस सिलसिले में पूछताछ की जा रही है.

हालांकि उन्होंने इसका ब्यौरा नहीं दिया है. सिंह का कहना था कि यदि इस घटना में मणप्पुरम प्रबंधक की भूमिका स्थापित हो जाती है तो उसे गिरफ्तार किया जा सकता है.आपको बता दे कि पिछले सप्ताह कटक में आईआईएफएल की नया सड़क शाखा से 20 करोड़ रूपये से अधिक मूल्य की नकदी और सोने की डकैती हुई थी. इस मामले में कंपनी के दो कर्मियों समेत कम से कम सात लोग अब तक गिरफ्तार किये गये है. पुलिस ने उनसे एक किलोग्राम सोना और पांच लाख नकद बरामद किए है. फिलहाल मामले की जांच जारी है. (सोर्स-भाषा)

{related}

लगातार 7वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए कितनी हुई वृद्धि

लगातार 7वें दिन बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए कितनी हुई वृद्धि

जयपुर: 2 महीने की शांति के बाद पेट्रोल-डीजल ने पिछले 7 दिन से तेवर दिखाना शुरू कर दिया. आज पेट्रोल 21 पैसे और डीजल 26 पैसे की बढ़त के साथ शुरू हुआ. सर्दी और कोरोना संकट के दौर में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में वृद्धि जारी है इससे आमजन मुश्किल में पड़ गया है. संकट के इस दौर में पेट्रोल-डीजल आम आदमी की पकड़ से बाहर होता जा रहा है. एक तरफ तो पिछले 7 दिन में कीमतों में वृद्धि का दौर जारी है.

देश और प्रदेश में पेट्रोल-डीजल के दाम में वृद्धि का दौर जारी: 
दूसरी तरफ राज्य सरकार भी लॉकडाउन अवधि में 2 बार पेट्रोल और डीजल पर वैट बढ़ा चुकी है. कोरोना संकट के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बाद भी देश और प्रदेश में पेट्रोल डीजल के दाम में वृद्धि का दौर जारी है. पिछले 7 दिनों में जिस तरह से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि हो रही है उससे ऐसा लगता है कि केंद्र सरकार का तेल कंपनियों पर नियंत्रण पूरी तरह समाप्त हो चुका है. तेल कंपनियां ढ़ाई महीने शांत बैठने के बाद अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें कम होने के बाद भी अपना मार्जिन बढ़ाने के लिए पिछले 7 दिन से कीमतों में वृद्धि का दौर शुरू कर चुकी हैं. 

{related}

7 दिन में पेट्रोल जहां 95 पैसे और डीजल की कीमतों में भी 1.58 रुपए की वृद्धि:  
20 नवम्बर को पेट्रोल डीजल में वृद्धि का दौर शुरू हुआ जो आज तक जारी है. इस अवधि में पिछले 7 दिन में पेट्रोल जहां 95 पैसे प्रति लीटर महंगा हुआ है वहीं डीजल की कीमतों में भी 1.58 रुपए की वृद्धि हुई है. पेट्रोल के दाम 88.21 रुपए के स्तर पर पहुंच गए हैं. वहीं डीजल के दाम में भी 80.85 रुपए का मुकाम हासिल किया है. इसका सीधा मतलब है कि  कोरोना संकट के दौर में जहां लोगों के रोजगार छिन रहे हैं, वेतन भत्तों में कमी आई है उस दौर में पेट्रोल-डीजल की दरें बढ़ाकर आम आदमी की मानों कमर तोड़ दी गई है.


 

MP में मजदूर संघ की स्ट्राइक के चलते 7300 बैंकों का काम ठप

MP में  मजदूर संघ की स्ट्राइक के चलते 7300 बैंकों का काम ठप

इंदौरः आज देश भर में मजदूर संघ की सामूहिक हड़ताल जारी है, जिससे हर विभाग का काम लगभग ठप सा पड़ा हुआ है. सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के खिलाफ आज एकदिवसीय हड़ताल के दौरान मध्य प्रदेश में 10 सरकारी बैंकों की 7,300 बैंक शाखाओं में कामकाज ठप रहा है.  इससे अलग-अलग बैंकिंग सेवाएं प्रभावित हुईं है. आपको बता दे कि 7300 बैंकों के दैनिक क्रियाकलाप ठप होने की दावा बैंक कर्मचारियों के एक संगठन ने ही किया है.

मध्य प्रदेश बैंक एम्पलॉइज एसोसिएशन (एमपीबीईए) के सचिव एम के शुक्ला ने पीटीआई-भाषा को बताया है कि राज्य के 10 सरकारी बैंकों की 7,300 शाखाओं के करीब 18,000 अधिकारी, कर्मचारी हड़ताल में शामिल हुए है. उन्होंने बताया कि हड़ताल से इन बैंक शाखाओं में धन जमा करने और निकालने के साथ चेक निपटान, सावधि जमा (एफडी) योजनाओं का नवीनीकरण, सरकारी खजाने से जुड़े काम और अन्य नियमित कार्य प्रभावित हुए है. 

शुक्ला ने बताया कि सरकारी क्षेत्र के भारतीय स्टेट बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक के अधिकारी, कर्मचारी हड़ताल में शामिल नहीं हुए है. उन्होंने यह भी बताया कि हड़ताली बैंक कर्मचारियों ने कोविड-19 के प्रकोप के मद्देनजर रैली नहीं निकाली और अपनी शाखाओं के बाहर तख्तियां लहराते हुए सरकार की कथित तौर पर श्रमिक विरोधी नीतियों को लेकर विरोध जताया है.फिलहाल ये हड़ताल जारी है.  (सोर्स-भाषा)

{related}

राष्ट्रीय दूध दिवस पर अमूल का फेसबुक लाइव, 30 राज्यों के शेफ बता रहे हैं दूध से बनी रेसिपी के बारे में...

राष्ट्रीय दूध दिवस पर अमूल का फेसबुक लाइव, 30 राज्यों के शेफ बता रहे हैं दूध से बनी रेसिपी के बारे में...

जयपुर: 26 नवंबर को हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी राष्ट्रीय दूध दिवस मनाया जा रहा हैं. इस दिन डॉ. वर्गीज कुरियन की जयंती है,  जिसे राष्ट्रीय दुग्ध दिवस के रूप में भी मनाया जाता है, इस कार्यक्रम को मनाने के लिए अमूल ने फेसबुक लाइव पर 15 घंटे के लाइव Cookathon की योजना बनाई है.

30 राज्यों के शेफ देंगे जानकारी:
भारत के 30 राज्यों के शेफ 26 नवंबर को 15 घंटे तक लाइव सत्र के माध्यम से दूध से बनाई गई रेसिपी के बारे में बताएंगे. सुबह 6 बजे से मणिपुर के शेफ और रात 9 बजे बंगाल के शेफ रेसिपी बनाना बताएंगे. यह आप अमूल फेसबुक पेज पर लाइव देख सकते हैं. आप इस कार्यक्रम में शामिल हो सकते हैं. आप अमूल फेसबुक पर जाकर कार्यक्रम देख सकते हैं.

आप इस लिंक पर क्लिक करें..Amul FB live- https://www.facebook.com/amul.coop/live

डेयरी खेती और उत्पादन में कुरियन का योगदान:
यह दिन डॉ. वर्गीज कुरियन को सम्मानित करने के लिए समर्पित है, जिन्हें भारत की श्वेत क्रांति का जनक कहा जाता हैं. 26 नवंबर को उनकी जयंती भी है, इसलिए यह दिन और भी महत्वपूर्ण है. ये दिन देश की डेयरी खेती और उत्पादन में उनके योगदान को भी उजागर करता है. 

{related}

केरल में हुआ था वर्गीज कुरियन का जन्म:
साल 2014 में इंडियन डेयरी एसोसिएशन (आईडीए) ने पहली बार इस दिन को मनाने की पहल की. पहले राष्ट्रीय दूध दिवस को 26 नवंबर 2014 को चिह्नित किया गया था, जिसमें 22 राज्यों के विभिन्न दुग्ध उत्पादकों ने भाग लिया था. केरल में जन्मे डॉ वर्गीज कुरियन को मिल्कमैन ऑफ इंडिया और साल 1970 के दशक की श्वेत क्रांति के जनक के रूप में जाना जाता है. दूध कैल्शियम का सबसे अच्छा स्रोत है और दुनिया में एकमात्र पेय है जिसमें इतनी बड़ी मात्रा में प्राकृतिक पोषक तत्व होते हैं. डॉ. वर्गीज ने देश को दूध के अपने उत्पादन केंद्रों को सक्षम करने की दिशा में काम किया. गौरतलब है कि डॉ. वर्गीज़ कुरियन (26 नवम्बर 1921 -9 सितंबर 2012) एक प्रसिद्ध भारतीय सामाजिक उद्यमी थे और फादर ऑफ़ द वाइट रेवोलुशन के नाम से अपने बिलियन लीटर आईडिया (ऑपरेशन फ्लड) - विश्व का सबसे बड़ा कृषि विकास कार्यक्रम - के लिए आज भी मशहूर हैं.

Industrial Complex में लगी आग, कोई जनहानि नहीं

 Industrial Complex में लगी आग, कोई जनहानि नहीं

मुंबईः हाल ही में मुंबई में एक बड़ा हादसा होते-होते रह गया है. मायानगरी के लोअर परेल इलाके में एक औद्योगिक परिसर में आग लग गई है, जिसमें किसी तरह की कोई भी जनहानि होने की सूचना नहीं है. खबर है कि मुंबई के परेल इलाके में अज्ञात कारणों से आग लग गई थी जिसमें किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है.

इस पूरी घटना की जानकारी नगर निकाय के एक अधिकारी ने दी है. उन्होंने बताया कि सूरज मिल परिसर में दो मंजिला इमारत की एक दुकान में बुधवार रात करीब 10:20 बजे आग लग गई थी जिससे इलाके में हड़कंप मच गया था. जिसके बाद आस-पास के लोगों ने फायरब्रिगेड को मौके पर बुलाया था. 

अधिकारी ने कहा कि 10 से अधिक दमकल की गाड़ियां, जेटी और टैंकर मौके पर पहुंचे और देर रात करीब 2:20 बजे आग पर काबू पाया गया था. उन्होंने कहा कि आग में कोई जख्मी नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि आग लगने के सही कारण का अभी तक पता नहीं चल पाया है. फिलहाल  मामले की जांच जारी है. (सोर्स-भाषा)

{related}

एकदिवसीय हड़ताल पर मजदूर संघ, बैकिंग सेवाएं प्रभावित होने की आशंका

 एकदिवसीय हड़ताल पर मजदूर संघ, बैकिंग सेवाएं प्रभावित होने  की आशंका

मुंबईः आज मजदूर संघों की एकदिवसीय हड़ताल है औऱ इस हड़ताल में बैंक कर्मचारी संगठनों के शामिल होने देश भर में बैंकिंग सेवाएं प्रभावित होने की आशंका जताई जा रही है. खबर है कि इस हड़ताल में सार्वजनिक, निजी और कुछ विदेशी बैंकों के चार लाख से अधिक कर्मचारी शामिल हो सकते हैं. आपको बता दे कि भारतीय मजदूर संघ को छोड़कर 10 केंद्रीय मजदूर संगठनों ने सरकार की विभिन्न नीतियों के खिलाफ आज एकदिवसीय हड़ताल का आह्वान करने की घोषणा की थी. हालांकि अधिकारियों ने भरोसा दिलाया है कि ये हड़ताल पूरी तरह से कॉरपोरेट के हित में है.

इसी बीच कई बैंकों ने अपने ग्राहकों को सूचित किया है कि वे बैंकिंग संबंधित लेनदेन और अन्य सेवाओं के लिए इंटरनेट, मोबाइल बैंकिंग और एटीएम जैसे डिजिटल माध्यमों का इस्तेमाल करें. ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए), नेशनल कॉन्फेडरेशन ऑफ बैंक एम्प्लॉइज (एनसीबीई) और बैंक एम्पलाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (बीईएफआई) से जुड़े बैंक कर्मचारी हड़ताल का समर्थन कर रहे हैं. बैंक अधिकारियों के एक संगठन- अखिल भारतीय बैंक अधिकारी परिसंघ (एआईबीओसी) ने हड़ताल को समर्थन दिया है. 

एआईबीईए ने एक बयान में कहा है कि कारोबार सुगमता के नाम पर लोकसभा ने हाल में तीन नए श्रम कानून पारित किए हैं.  यह पूरी तरह से कॉरपोरेट के हित में है. करीब 75 प्रतिशत कर्मचारियों को श्रम कानूनों के दायरे से बाहर कर दिया गया है और नए कानूनों के तहत उनके पास कोई विधिक संरक्षण नहीं है. एआईबीईए, भारतीय स्टेट बैंक और इंडियन ओवरसीज बैंक के कर्मचारियों को छोड़कर लगभग सभी बैंक कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व करने वाली संस्था है.विभिन्न सरकारी और निजी क्षेत्र के पुराने बैंकों समेत कुछ विदेशी बैंकों के कर्मचारी एआईबीईए के सदस्य हैं.

बैंक कर्मचारियों के विरोध प्रदर्शन की वजह बैंकों का निजीकरण और क्षेत्र में विभिन्न नौकरियों को आउटसोर्स करना या संविदा पर करना है. इसके अलावा बैंक कर्मचारियों की मांग क्षेत्र के लिए पर्याप्त संख्या में कर्मचारियों की भर्ती करना और बड़े कॉरेपोरेट ऋण चूककर्ताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करना भी है. बैंक ऑफ महाराष्ट्र ने शेयर बाजार से कहा कि यदि हड़ताल प्रभावी रहती है तो बैंक शाखाओं और कार्यालयों में सामान्य कामकाज प्रभावित हो सकता है. (सोर्स-भाषा)

{related}