Live News »

जैविक खेती से बदलने लगी पश्चिमी राजस्थान की तस्वीर

जैविक खेती से बदलने लगी पश्चिमी राजस्थान की तस्वीर

जोधपुर। राजस्थान में अकाल के चलते बरसों से पश्चिमी राजस्थान की तस्वीर हमेशा अच्छी फसलों के लिहाज से धुंधली ही रही है। मगर पिछले कुछ सालों से इंद्र देवता के मेहरबान रहने के बाद जरूर हालात सुधरे है लेकिन बदलती जलवायु ने रासायनिक खेती के बजाय जिस तरह जैविक खेती का रास्ता खोला है उससे किसानों को काफी उम्मीदें है। किसानों के साथ-साथ कृषि अधिकारी भी मानने लगे है कि जैविक खेती के जरिए ही किसानों के साथ-साथ राजस्थान की भी तकदीर व तस्वीर बदली जा सकती है। 

पश्चिमी राजस्थान में बदलती जलवायु ने रासायनिक खेती की बजाय जैविक खेती का विकल्प खुला कर दिया है। लगातार जैविक खेती के लिए प्रोत्साहन के आधार पर जैविक खेती से मुनाफा कमा रहे राज्य के कई किसान खेत में ही वर्षा जल संरक्षण, लाभदायक कीटों का संरक्षण खाद, कीट नियंत्रित बनाकर अन्य किसानों के लिए प्रेरक के रूप में सामने आए हैं। जोधपुर जिले के दांतीवाड़ा और मथानिया क्षेत्र के उजलिया गांवों को आदर्श जैविक गांव के लिए चयनित किया है। दांतीवाड़ा में तिल व मूंग और उजलिया में जीरे व इसबगोल का जैविक उत्पादन किया जाएगा। यहां जैविक खेती के लिए किसानों को प्रशिक्षण और जैविक बीज उपलब्ध कराए जाएंगे। 

जैविक खेती के चलते किसान खेत में ही बीज, खाद और आम नीम धतूरे से कीट नियंत्रक बना सकेंगे। जैविक खेती की लागत रासायनिक खेती से काफी कम है। साथ ही रासायनिक खेती से कम हो रही मिट्टी उत्पादकता जैविक खेती बढाएगी। जैविक खेती स्वास्थ्य के लिए हानिकारक नहीं है। वर्षा की अनिश्चितता में जैविक खेती फसलों के लिए ज्यादा फायदेमंद साबित हो रही है।  कृषि अधिकारी बीके द्विवेदी बताते है कि यदि इसमें किसान और अधिक रूचि ले और सरकार की ओर से विशेष प्रावधान निर्धारित हो तो यह जेविक खेती काफी लाभकारी हो सकती है। इसी तरह किसान रतनलाल डागा और तुलछाराम ने भी राज्य सरकार से जैविक खेती को बढावा देने का आग्रह किया है।

गौरतलब है कि यह एक सर्वविदित तथ्य हैं की ग्रामीण अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार कृषि हैं और कृषकों की मुख्य आय का साधन खेती हैं। हरित क्रांति के समय से बढ़ती हुई जनसंख्या को देखते हुए एवं आय की दृष्टि से उत्पादन बढ़ाना आवश्यक हैं। अधिक उत्पादन के लिए खेती में अधिक मात्रा में रसायनिक उर्वरकों एवं कीटनाशक का उपयोग करना पड़ता हैं, जिससे सामान्य एवं छोटे कृषक के पास कम जोत में अत्यधिक लागत लग रही हैं और जल, भूमि, वायु और वातावरण भी प्रदूषित हो रहें हैं। साथ ही खाद्द्य पदार्थ जहरीले हो रहे हैं। ऐसे में किसान एवं पर्यावरण के लिए जैविक खेती लाभ का सौदा हैं। जैविक खेती से किसानों को कम लागत में उच्च गुणवत्ता पूर्ण फसल प्राप्त हो सकती हैं।
राजीव गौड़ फर्स्ट इंडिया न्यूज जोधपुर
 

और पढ़ें

Most Related Stories

हरियाणा में खरीफ की फसलों के लिए नहीं होगी खाद की किल्लत, किसानों तक रेल, सड़क मार्ग से होगी आपूर्ति

हरियाणा में खरीफ की फसलों के लिए नहीं होगी खाद की किल्लत, किसानों तक रेल, सड़क मार्ग से होगी आपूर्ति

चंडीगढ़: कोरोना की जारी जंग के बीच हरियाणा में किसान सरकार की पहली प्राथमिकता में शामिल हैं. खरीफ फसलों की बुआई के लिए किसानों को खाद की कमी नहीं होने दी जाएगी. लॉकडाउन के दौरान सरकार ने रेल व सड़क मार्ग के जरिये पूरे प्रदेश में किसानों को खाद की आपूर्ति करने का निर्णय लिया है. इसके साथ ही सरकार किसानों को कीटनशानक भी मुहैया कराएगी. 

Coronavirus Updates: पूरी दुनिया में कोरोना का कहर, विश्वभर में संक्रमितों की संख्या पहुंची 6 लाख 

सरकार की ओर से निर्देश जारी:
नेशल लिमिटेड पानीपत खाद का पर्याप्त मात्रा में उत्पादन करेगी. इस संबंध में सरकारी की ओर से निर्देश भी जारी कर दिए गए हैं. खाद की कमी ना हो इसके लिए सरकारी, सहकारी व अन्य बिक्री केंद्रों को सुबह 10 बजे से एक बजे तक खोला जाएगा. किसानों की मांग अधिक होने पर जरूरत के हिसाब से रोस्टर तैयार कर निजी दुकानें भी खाद बिक्री के लिए अधिक्रत की जाएंगी.

VIDEO: कोरोना को लेकर जयपुर से बड़ी खबर, परकोटे के दस थाना इलाकों में कर्फ्यू के आदेश 

खाद को आवश्यक सेवाओं में किया शामिल:
इससे पहले केंद्र सरकार ने बीज व कीटनाशकों को लॉकडाउन में छूट दी थी, लेकिन उसमें खाद को शामिल नहीं किया था. अब हरियाणा सरकार ने इसे आवश्यक सेवाओं में शामिल करते हुए उत्पादन व आपूर्ति सुनिश्चित करने का निर्णय लिया है. बता दें कि हरियाणा में खाद की मांग लाखों टन में रहती है. कई बार स्टॉक कम रहने के चलते यहां मारपीट के मामले भी सामने आए हैं. ऐसे में सरकार नहीं चाहती कि कोरोना महामारी के बीच एक बार पुराना इतिहास दोहराया जाए.
 

सीएम गहलोत ने दी किसानों को बड़ी सौगात, मिलेगी बड़ी राहत

सीएम गहलोत ने दी किसानों को बड़ी सौगात, मिलेगी बड़ी राहत

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने किसानों के हित में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के राज्यांश प्रीमियम के लिए किसान कल्याण कोष से 500 करोड़ रुपए देने की स्वीकृति प्रदान की है. इससे टिड्डी दल के हमले, बेमौसम बरसात एवं ओलावृष्टि से प्रभावित काश्तकारों को शीघ्र बीमे का मुआवजा मिलने से बड़ी राहत मिलेगी. 

Corona Update: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की कोरोना जांच पॉजिटिव, खुद को किया आइसोलेट

फसल बीमा राज्यांश प्रीमियम का भुगतान किया जा सकेगा:
कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बताया कि किसानों के प्रति संवेदनशील मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस निर्णय से प्रदेश के 16 जिलों के लिए खरीफ-2019 तथा बेमौसम बारिश एवं ओलावृष्टि से प्रभावित 10 जिलों के लिए रबी-2019-20 का फसल बीमा राज्यांश प्रीमियम का भुगतान किया जा सकेगा. 

Rajasthan Corona Update: अब तक 46 लोग पॉजिटिव, जोधपुर में एक ओर युवक पाया गया पॉजिटिव, 2 लोगों की मौत

पूर्व में भी किया था प्रावधान:
उन्होंने बताया कि इससे पूर्व में भी किसान कल्याण कोष से 500 करोड़ रुपए का प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के राज्यांश प्रीमियम के रूप में भुगतान करने की स्वीकृति जारी की थी, जिससे गत वर्षों की देनदारियां एवं खरीफ-2019 के बीमा प्रीमियम का भुगतान किया गया था. कटारिया ने यह भी बताया कि राज्य सरकार किसानों के प्रति संवेदनशील है और उन्हें होने वाली हर कठिनाई के निराकरण के लिए सदैव तत्पर है.

कृषि विभाग ने कोरोना वायरस के चलते किसानों के लिए जारी किए दिशा-निर्देश, गंभीरता से करें पालन

कृषि विभाग ने कोरोना वायरस के चलते किसानों के लिए जारी किए दिशा-निर्देश, गंभीरता से करें पालन

जयपुर: कृषि विभाग ने रबी फसलों की कटाई एवं थ्रेसिंग कार्य के दौरान कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करने, मुंह पर मास्क लगाने और फसल कटाई उपकरणों एवं खाने-पीने के बर्तनों के उपयोग में पूरी सावधानी बरतने सहित विभिन्न दिशा-निर्देश जारी किए हैं.  

VIDEO- Coronavirus Updates: राजस्थान में लगातार बढ़ता कोरोना मरीजों का ग्राफ, 4 नए मामले आए सामने 

फसल कटाई यथा सम्भव मशीन चलित उपकरणों से करें:                                    
कृषि मंत्री लालचन्द कटारिया ने काश्तकारों से फसल कटाई के दौरान कोविड-19 के खतरे को दूर करने के लिए विभागीय दिशा-निर्देशों की पूरी पालना करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि विभागीय दिशा-निर्देशों के मुताबिक फसल कटाई यथा सम्भव मशीन चलित उपकरणों से करें. हाथ से चलने वाले उपकरण काम में लेने पर उपकरणों को दिन में कम से कम तीन बार साबुन के पानी से कीटाणु रहित करें. उन्होंने कहा कि किसान फसल कटाई में सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) की सख्ती से पालना करें. खेत में फसल काटने एवं खाना खाते समय एक व्यक्ति से दूसरे के बीच कम से कम 5 मीटर की दूरी रखें. खाने के बर्तन अलग-अलग रखें तथा प्रयोग के बाद साबुन के पानी से अच्छी तरह साफ करें.

काम में लिए जाने वाले उपकरण अलग रखें:
उन्होंने बताया कि कटाई के दौरान सभी व्यक्ति अपनी अलग-अलग पानी की बोतल रखें और मुंह पर मास्क का प्रयोग करें. खेत में पर्याप्त मात्रा में पानी एवं साबुन की व्यवस्था रखें. कृषि एवं सहकारिता विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री नरेशपाल गंगवार ने बताया कि फसल कटाई के दौरान एक व्यक्ति की ओर से काम में लिए जाने वाले उपकरणों को दूसरा व्यक्ति कतई काम में नहीं लें. कटाई करने वाले सभी व्यक्ति अपने-अपने उपकरण ही काम में लेवें. साथ ही कटाई के दौरान बीच-बीच में अपने हाथों को साबुन के पानी से अच्छी तरह साफ करते रहें. उन्होंने बताया कि फसल कटाई कार्य अवधि में पहले दिन पहने कपड़े दूसरे दिन काम में न लें. काम में लिए कपड़ों को अच्छी तरह धोकर धूप में सुखाने के पश्चात ही पुनः काम में लें. 

कोरोना के लॉकडाउन में ऑनलाइन शादी, वीडियो कॉल से किया निकाह 

सभी सावधानियों का गंभीरता से करें पालन:
कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश ने बताया कि अगर किसी व्यक्ति को खांसी, जुकाम, बुखार, सिर दर्द, बदन दर्द आदि के लक्षण हो तो उसे फसल कटाई कार्य से अलग रखें और तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य कर्मी को सूचित करें. उन्होंने कहा कि थ्रेसिंग कार्य के दौरान भी इसी प्रकार सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क एवं खाने-पीने के बर्तनों के प्रयोग आदि में सभी सावधानियों का पूर्ण गंभीरता से पालन करें.
 

धनिये की फसल की धाक देश के कोने कोने में, झालावाड़ के धनिये की जबरदस्त डिमांड

धनिये की फसल की धाक देश के कोने कोने में,  झालावाड़ के धनिये की जबरदस्त डिमांड

झालावाड़: जिले में रबी की प्रमुख फसल धनिया बाजार में आने लग गया है और देश में  सबसे ज्यादा धनिये का उत्पादन राजस्थान में होता है. वहीं राजस्थान में सबसे ज्यादा उत्पादन झालावाड़ जिले में होता है. यह सरकारी आकड़े बताते है पूरे कोटा सम्भाग में सबसे ज्यादा धनिये की बुवाई भी झालावाड़ जिले में होती है. इस बार 53806 हेक्टेयर में धनिया की बुवाई हुई जो पर 1 हेक्टेयर पर 10 क्विंटल धनिया होने की संभावना है. 

 Coronavirus Updates: लॉकडाउन का पालन नहीं करने पर होगा एक्शन, पीएम मोदी ने भी किया ट्वीट 

अच्छा भाव मिलने से किसान खुश:
इस बार धनिया अच्छा और बेहतरीन क्वालिटी का आ रहा है इससे किसान भी खुश है अच्छा भाव मिल रहा है. धनिये उत्पादन में हमेशा राजस्थान अग्रणी रहा है और झालावाड़ जिला धनिये की पैदावार उत्पादन और उच्च क्वालिटी चमक और सोंधी खुशबू में देश के कोने कोने में चमक बिखेर रहा है.  

धनिए को धूप में भी सुखाया जा रहा: 
झालरापाटन की कर्षि उपज मंडी महाराजा हरीश चंद्र कर्षि उपज मंडी में धनिये की जमकर आवक हो रही है और यहां हजारों की संख्या में धनिये की बोरियों की खरीद की जा रहा है साथ ही धनिए को धूप में भी सुखाया जा रहा है जिससे धनिया सुख जाए और स्टोर किया जा सके साथ ही यहां सभी कर्षि उपज मंडियों के धनिये की बम्फर आवक है यही नही देश के कोने कोने से व्यापारी व बड़ी बड़ी कम्पनियां यहा से धनिये की खरीद मंडी व्यापारीयो से खरीद रही है.  

Coronavirus Updates: शराब कारोबारी सरकार के आदेशों का कर रहे खुला उल्लंघन, नहीं आ रहे बाज 

धनिये का भाव 5 से 8 हजार का चल रहा: 
धनिये का भाव 5 से 8 हजार का चल रहा है जो बहुत अच्छा दाम है जिससे जहा किसान भी खुश है व्यापारी भी खुश है की झालावाड़ का धनिया न केवल देश मे बल्कि खाड़ी देशों में भी अपनी चमक व खुशबू बिखेरता है.  

मंत्री 15 जिलों में ओलावृष्टि से खराबे की स्थिति का करेंगे आकलन, सीएम गहलोत ने दिए निर्देश

मंत्री 15 जिलों में ओलावृष्टि से खराबे की स्थिति का करेंगे आकलन, सीएम गहलोत ने दिए निर्देश

जयपुर: मुख्यमंत्री गहलोत ने राज्य में ओलावृष्टि से किसानों को हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए जिलों के प्रभारी मंत्रियों को निर्देश जारी किए हैं. 15 जिलों के प्रभारी मंत्री किसानों से मुलाकात तक ओलावृष्टि से फसलों को हुए नुकसान का जायजा लेंगे. इसके बाद फसल खराब से पीड़ित किसानों को आपदा राहत नियमों के तहत जल्द से जल्द सहायता प्रदान की जाएगी. प्रभावित जिलों के प्रभारी मंत्री ओलावृष्टि से पीड़ित किसानों से मुलाकात के साथ ही जिला कलेक्टर और अन्य अधिकारियों के साथ भी बैठक कर नुकसान का आकलन करेंगे.  

15 जिलों के प्रभारी मंत्री करेंगे किसानों से मुलाकात:
अलवर में ममता भूपेश, बाड़मेर में बीडी कल्ला, भरतपुर में अशोक चांदना, दौसा में हरीश चौधरी, गंगानगर व हनुमानगढ़ में गोविंद सिंह डोटासरा, जयपुर में शांति धारीवाल,जोधपुर में लालचंद कटारिया,करौली में विश्वेंद्र सिंह, सवाई माधोपुर में टीकाराम जूली, बूंदी में प्रतापसिंह खाचरियावास, बीकानेर में सालेह मोहम्मद,चूरू में सुभाष गर्ग, झुंझुनूं में परसादीलाल मीणा और नागौर में सुखराम बिश्नोई फसल खराबे का आकलन करेंगे. 

बेमौसम की बारिश ने फेरा किसानों के अरमानों पर पानी, फसलें हुईं चौपट

बेमौसम की बारिश ने फेरा किसानों के अरमानों पर पानी, फसलें हुईं चौपट

सिरोही: प्रदेश के सिरोही जिले में गुरुवार शाम हुई बेमौसम की बारिश ने किसानों के अरमानों पर पानी फेर दिया हैं. तीन चार माह से पाल पोष कर बड़ी की फसलें जब पकने के समय आया तो कुदरत के कहर ने किसानों को कहीं का नही छोड़ा. खेत में लहलहाती फसलें एक झटके में चौपट हो गई. किसानों के पास इस कुदरत के इस कहर का कोई उपाय नहीं बचा. कुछ बचा हैं तो बस इन किसानों के आंखों में आंसू और मन में सरकार से कुछ मदद की आश..

मध्यप्रदेश में होने वाला आईफा अवॉर्ड्स कैंसिल, कोरोना वायरस की वजह से टला आयोजन  

जल्द गिरदावरी कर किसानों को दी जाएगी राहत: 
हालांकि प्रदेश सरकार के मुखिया ने गुरुवार को ही ट्वीट कर किसानों के इस दुःख की घड़ी में साथ देने और जल्द से जल्द गिरदावरी कर किसानों को राहत पहुंचाने की बात तो जरूर की हैं, पर ये राहत इन किसानों तक कब पहुंचेगी ये भविष्य के गर्भ में हैं. बैंक, सेठ, साहूकार और ना जाने किन किन से ऋण लेकर इन किसानों ने अपनी फसलों की बुवाई की थी. जिस बड़ा करने और पकने लायक बनाने में इन किसान परिवारों ने दिन रात एक कर दिया था. इन चार महीनों में ये किसान अपनी नींद तक भूल गए थे. 

ऊपर वाले के आगे किसी की नहीं चलती:
परिवार के हर सदस्य ने अपनी मेहनत कर इन फसलों को पकाने में अपनी अपनी भागीदारी निभाई थी, पर ऊपर वाले के आगे किसी की नहीं चलती. शायद ऊपर वाले को भी इन किसानों की खुशी देखी नही जा रही थी. और बरसात के महीनों में तरसाने वाले इंद्रदेव ने सर्दी के मौसम में ही बरसना शुरू कर दिया. और बरसात भी ऐसी की खेतों में पानी के नाले बहने शुरू हो गए. तेज़ हवा और बारिश के गठजोड़ ने किसानों को इस कदर दोहरी मार दी कि किसान न घर का रहा ना घाट का. 

VIDEO: एयरपोर्ट पर मिले 2 कोरोना संदिग्ध! दुबई से पहुंचे थे जयपुर

किसान धरती का अन्नदाता:
जिस किसान को धरती का अन्नदाता कहा जाता हैं, आज उसी अन्नदाता के घर खाना नही बन रहा हैं. इंद्रदेव के इस प्रकोप ने सिरोही जिले के किसानों के सारे सपने एक साथ मिट्टी पलित कर दिए हैं.गुरुवार तक जो किसान ठहाके लगाकर बात कर रहा था, आज उस किसान की हलक से एक शब्द तक नही निकल रहा हैं. हर चुनाव में किसानों के लिए बड़े बड़े वादे कर सरकार बनाने वाली पार्टियां कुदरत के कहर से टूटे इन किसानों को कब और कितनी राहत पहुंचती हैं ये देखने वाली बात होगी.
 

...विक्रम सिंह करणोत फर्स्ट इंडिया न्यूज सिरोही

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जुड़े सवाल पर विधानसभा में हुआ जोरदार हंगामा

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से जुड़े सवाल पर विधानसभा में हुआ जोरदार हंगामा

जयपुर: प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से मिलने वाले लाभ से जुड़े पहले ही सवाल पर आज प्रश्नकाल के दौरान विपक्ष का इतना जमकर हंगामा हुआ कि कार्यवाही शुरू होने के 17 मिनट बाद ही उसे 1 घंटे के लिए स्थगित करना पड़ा. फसल बीमा योजना में राज्य का हिस्सा जमा नहीं होने और इसके चलते केंद्र   का भी अंशदान नहीं होने से किसानों को क्लेम का भुगतान नहीं हो पाएगा इससे जुड़े  भाजपा विधायक वासुदेव देवनानी के मूल सवाल और नेता प्रतिपक्ष के पूरक सवाल पर जब कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने राज्य का हिस्सा जमा नहीं कराने की बात मानी तो हंगामा हो गया और पूरा प्रश्नकाल  इस हंगामे की भेंट चढ़ गया क्योंकि 17 मिनट बाद ही विधानसभा अध्यक्ष ने  1 घंटे के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी.  

'कोरोना' की दस्तक देख कमाई में जुटे मेडिकल स्टोर्स, वसूले जा रहे मनमाने दाम 

प्रदेश में 2016 से फसल बीमा योजना लागू: 
विधानसभा में प्रश्नकाल के पहले सवाल पर ही जोरदार हंगामा हुआ. जब विधायक वासुदेव देवनानी ने पूछा कि प्रदेश के किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा से मिलने वाले लाभ की क्या स्थिति है इसके जवाब में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने बताया कि प्रदेश में 2016 से फसल बीमा योजना लागू है. मंत्री ने बताया कि इस योजना में ऋण लेने वाले किसानों का अनिवार्य रूप से बीमा किया जाता है. ऋणी किसानों का बीमा स्वैच्छिक खरीद में 2 फ़ीसदी, रबी में डेढ़ फीसदी और बागवानी फसलों में 5 फीसदी प्रीमियम किसान देता है. शेष प्रीमियम केंद्र और राज्य सरकार देती है. मंत्री कटारिया ने बताया कि पिछली सरकार का 1135 करोड़ की राशि बकाया थी जिसे हमारी सरकार ने चुकाई. साथ ही अभी 399 करोड़ की देनदारियां बकाया है. 

कृषक कोष में 500 करोड़ का लोन लिया गया:
उन्होंने कहा कि कृषक कोष में 500 करोड़ का लोन लिया गया है. देनदारियां लगातार चुका रहे हैं. इस पर नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने पूरक प्रश्न किया कि क्या राज्यांश जमा नहीं होने पर बीमा कंपनी क्लेम देगी. जवाब में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया ने कहा कि जब तक हम पूरा पैसा जमा नहीं कराते तब तक भारत सरकार से पैसा नहीं मिलता है. मंत्री ने कहा कि हमने नए बजट में 1000 करोड़ का प्रावधान रखा है. मंत्री के इसी जवाब से असंतुष्ट विपक्षी विधायकों ने सदन में हंगामा कर दिया और कहा कि राज्य सरकार किसानों के साथ धोखा कर रही है. 

विपक्षी विधायक इस बात पर वेल में आकर नारेबाजी करने लगे:
विपक्षी विधायक इस बात पर वेल में आकर नारेबाजी करने लगे. हालांकि एक बार स्पीकर के इस मुद्दे पर चर्चा के आश्वासन के बाद विधायक सीट पर पहुंचे. इस पर नेता प्रतिपक्ष कटारिया ने कहा कि यह गलत है राज्यांश जमा नहीं होने से किसानों को इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा. दूसरी ओर लगातार जारी नारेबाजी के बीच विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सदन को 1 घंटे के स्थगित करने के निर्देश दिए. 

जैसलमेर के जवाहर अस्पताल में एक संदिग्ध मौत, सर्दी जुकाम से पीड़ित था मरीज 

पहले सवाल पर ही कार्यवाही स्थगित करने के भी उदाहरण बेहद कम:
मौजूदा सत्र में यह पहला मौका है कि विधानसभा की कार्यवाही को 1 घंटे स्थगित करना पड़ा है वहीं पहले सवाल पर ही कार्यवाही स्थगित करने के भी उदाहरण बेहद कम हैं. हंगामा इतना ज्यादा था कि जब स्पीकर ने दूसरे सवाल के लिए नाम पुकारा और उसका जवाब सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने दिया तब शोर-शराबे में कुछ सुनाई नहीं दिया. इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सदन में मौजूद रहे.

...योगेश शर्मा नरेश शर्मा के साथ ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

कोटखावदा में बरसा कुदरत का कहर, ओलावृष्टी से 40 गांवों की फसलें हुई तबाह, मुआवजे की मांग

कोटखावदा में बरसा कुदरत का कहर, ओलावृष्टी से 40 गांवों की फसलें हुई तबाह, मुआवजे की मांग

कोटखावदा(चाकसू): जयपुर के कोटखावदा में गत रात को करीब 30 मिनट तक जोरदार अतिओलावृष्टी की वजह से करीब 40 से अधिक गांवों में फसलें तबाह हो गई. कई जगहों पर तो नीबूं के आकार से भी बड़े ओले गिरे है.

ग्रामीणों के मुताबिक बुधवार शाम को अचानक तेज हवाओं के साथ हुई इस ओलों की बारिश से गेहूँ, चना, जौ एवं सोप की फसलों में सवार्धिक नुकसान हुआ. आपको बता दें कि  बारिश के 20 घंटे बीत जाने के बाद भी खेतों में ओले की चादर बिछी हुई है. 

निर्भया के दोषियों का नया डेथ वारंट जारी, 20 मार्च को सुबह 5:30 बजे दी जाएगी फांसी

किसानों की सरकार से मुआवजे की मांग:
खेतों में पककर तैयार फसलें खराब हो जाने से किसानों में गहरा दु:ख है. वहीं ओलो की बोछार से मवेशियों सहित कच्चे घरों को भी नुकसान हुआ है. जिसको लेकर किसान सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे है.

वहीं तहसीलदार की टीम क्षेत्र में सर्वे कर खराबे का आंकलन करने मे जुटी है. इधर, प्रभावित गांवों के सैकड़ों किसानों ने गुरुवार को चाकसू-कोटखावदा स्टेट हाईवे-2 पर जाम लगाकर फसल खराबे के मुआवजा की मांग की है. सर्वे के मुता​बिक कोटखावदा के रामनगर, देहलाला पंचायतों के गांवों में सबसे अधिक खराबा देखा गया है. 

संसद में हंगामा: अब हनुमान बेनीवाल ने भी की राहुल गांधी की कोरोना जांच की मांग

Open Covid-19