Live News »

राजस्थान में पायलट बनेंगे डिप्टी सीएम, गहलोत सीएम

राजस्थान में पायलट बनेंगे डिप्टी सीएम, गहलोत सीएम

जयपुर। काफी लंबी मशक्कत के बाद राजस्थान को सीएम मिलने जा रहा है।  अशोक गहलोत को पर पार्टी ने एक बार फिर भरोसा जताया है जबकि सूत्रों के अनुसार सचिन पायलट राजस्थान में डिप्टी सीएम का कार्यभार संभालेंगे इसके साथ ही वह पीसीसी चीफ भी बने रहेंगे। हालांकि इसकी अधिकारिक घोषणा साढ़े चार बजे की जाएगी। 

गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा चुनाव में जीत हासिल करने के बावजूद भी कांग्रेस सीएम पद को लेकर मुश्किल में फंसी नजर आ रही थी।  सचिन पायलट और अशोक गहलोत दोनों ही सीएम पद के लिए दावेदारी पेश कर रहे थे। ऐसे में कांग्रेस आलाकमान को फैसला लेने में काफी संघर्ष का सामना करना पड़ा है। 

बता दें कि राजस्थान में मुख्यमंत्री प्रकरण का पटाक्षेप आज शाज को हो जाएगा, जिसमें संभवतया अशोक गहलोत का नाम मुख्यमंत्री के रूप मेे घोषित किया जाएगा। सूत्रों के हवाले से पायलट द्वारा गहलोत के नाम पर स्वीकृति दिए जाने की खबर है और आज शाम 7.30 बजे का राजभवन से भी मांगा गया है। बताया जा रहा है कि राहुल गांधी के आवास से हुए गहलोत-पायलट रवाना हो गया है। इसके बाद विधायक दल की बैठक में पायलट गहलोत के नाम का प्रस्ताव रखेंगे और इसके बाद गहलोत के नातम का ऐलान किया जाएगा।
 

और पढ़ें

Most Related Stories

सोशल मीडिया पर कांग्रेस का कैम्पेन, सचिन पायलट, अविनाश पांडे समेत प्रमुख नेता हुए शामिल

सोशल मीडिया पर कांग्रेस का कैम्पेन, सचिन पायलट, अविनाश पांडे समेत प्रमुख नेता हुए शामिल

जयपुर: कांग्रेस ने गुरुवार से देशभर में सोशल मीडिया कैम्पेन चलाया. देशभर के कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं की इसमें भागीदारी रही. राजस्थान से भी बड़ी तादाद में कांग्रेस नेता कैम्पेन से जुड़े. प्रवासी श्रमिकों ,कामगार ,मजदूर,मध्यम वर्ग,छोटे व्यापारियों की मांग केन्द्र सरकार के सामने रखी. 

जेब तक पहुंचे सीधा पैसा: 
डिप्टी सीएम और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने फेसबुक पर कहा कि जरुरत है प्रवासी श्रमिकों की पीड़ा को दूर करना,उन गरीब कामगारों की आवाज बुलंद करना,जिन्होंने लॉकडाउन में दंश झेला,पायलट ने फेसबुक पर कहा कि कांग्रेस पार्टी चाहती है ऐसे लोगों की मदद की जाए, जो इनकम टैक्स तक नहीं दे पा रहे,उनकी जेब तक सीधा पैसा पहुंचाया जाये. 

मुंबई से श्रमिक स्पेशल ट्रेन पहुंची चूरू, 120 प्रवासियों को चूरू लेकर पहुंची ट्रेन

कांग्रेस की पहल का स्वागत:
पायलट ने सोशल मीडिया अभियान के जरिए केन्द्र सरकार से यहीं मांग की. पायलट ने कहा कि मनरेगा में राजस्थान में अच्छा काम किया है. कांग्रेस राज्य प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा कि केंद्र सरकार से हमारी मांग है कि मध्यम वर्ग ,छोटे उधोग धंधो की मदद की जाये,मनरेगा में रोजगार 200दिन किया जाये,प्रवासी श्रमिकों को नि शुल्क सेवा से घर पहुंचाया जाए. चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने कैम्पेन में भाग लिया और कांग्रेस की पहल का स्वागत किया.

कोरोना का खौफ...! वक्त पर मिल जाती बुजुर्ग इंसान को मदद, तो बच सकती थी जान, 3 घंटे तक बाजार में रहा बेहोश 

'अंतर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता' दिवस: महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रहकर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख पाएंगी- ममता भूपेश

'अंतर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता' दिवस: महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रहकर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख पाएंगी- ममता भूपेश

जयपुर: महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री ममता भूपेश ने कहा कि अपने परिवार को स्वस्थ रखने के लिए महिलाओं को पहले स्वयं के स्वास्थ्य पर ध्यान देना होगा. उन्होंने कहा कि महिलाएं स्वच्छ व स्वस्थ रह कर ही अपने परिवार को स्वस्थ रख सकती है. 

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस 

भूपेश गुरुवार को अन्तर्राष्ट्रीय माहवारी स्वच्छता दिवस पर अपने निवास पर महिला अधिकारिता विभाग द्वारा सोशल एवं फिजिकल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखते हुए आयोजित राष्ट्रीय कार्यक्रम में बोल रही थी. उन्होंने बताया कि 28 मई जो कि 28 दिन के अंतराल पर 5 दिवस के माहवारी दिवस के प्रतीक के रूप में महिलाओं के स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए जागरूकता हेतु आयोजित किया जाता है. 

महिलाएं अपने स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं करें:
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के चलते महिलाएं अपने स्वास्थ्य को नजरअंदाज नहीं करें. आज हमारा प्रदेश, देश एवं संपूर्ण विश्व जिन विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है उनमें महिलाओं को अपने घर एवं परिवार जनों की देखभाल पहले की तुलना में अधिक सजग होकर करने की जरूरत है. ऎसी स्थिति में महिलाएं अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखेंगी तभी अपने परिवार को भी स्वस्थ रख पाऎंगी. इसके लिए जरूरी है कि महिलाएं अपने 5 दिनों में स्वच्छता विधियों एवं साधनों का प्रयोग करें. 

आगामी समय में निसंदेह हमारे लिए वित्तीय परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण रहेंगी: 
भूपेश ने यह भी कहा कि आगामी समय में निसंदेह हमारे लिए वित्तीय परिस्थितियां चुनौतीपूर्ण रहेंगी इसलिए हमारे प्रदेश की बेटियां और बहनें मजबूती से अपने को संभाले एवं परिवार को स्वस्थ एवं सुरक्षित रखें और एक स्वस्थ भारत का निर्माण करें. 

प्रत्येक 10 महिलाओं को इसके लिए जागरूक करेंगी:
इस अवसर पर उपस्थित पांच महिला लाभार्थियों को जागरूकता संदेश के साथ सेनेटरी नैपकिन तथा साबुन का वितरण किया गया एवं कार्यक्रम समाप्ति के पश्चात जयपुर जिले की विभिन्न जगहों पर लाभार्थी महिलाओं को भी सैनेटरी नैपकिन तथा साबुन का वितरण करवाया गया. कार्यक्रम में उपस्थित सभी महिलाओं ने संकल्प भी लिया कि वे अपने आसपास की प्रत्येक 10 महिलाओं को इसके लिए जागरूक करेंगी. 

सोशल मीडिया की अफवाह पर परिजनों ने जताई कोरोना पॉजिटिव की आंशका, एसडीएम ने कराया दाह संस्कार 

इस मौके पर ये अधिकारी रहे मौजूद:
इस मौके पर विभाग के शासन सचिव के के पाठक, निदेशक समेकित बाल विकास सेवाएं डॉ. प्रतिभा सिंह, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की ब्रांड एंबेसडर अनुपमा सोनी ,महिला सुरक्षा एवं सलाह केंद्र की राज्य स्तरीय स्टीयरिंग कमेटी की सदस्य निशा सिद्धू ,मीनाक्षी माथुर एवं डॉक्टर मेनका व विभाग के अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे. 

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस

राज्य में एनपीआर रजिस्टर बनाने के सॉफटवेयर के नाम पर घोटाला, हाईकोर्ट ने 6 अधिकारियों को जारी किया नोटिस

जयपुर: देश में राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर को लेकर कि जा रही कवायद में राज्य के सूचना विभाग की कंपनी राजकॉम्प ने सॉफटवेयर के नाम पर ही 2 करोड़ से अधिक का घोटाला किया है. बिना सॉफटवेयर के बिना निर्माण और बिना कम्प्यूटर में इंस्टाल किये ही करीब 2 करोड़ 40 लाख का भुगतान किया गया. मामले में शिकायत के बाद भी कार्यवाही नहीं करने पर राजस्थान हाईकोर्ट ने तत्कालिन यूआईडी आधार के अतिरिक्त निदेशक हंसराज यादव, आधार उपनिदेशक रणवीरसिंह, प्रोजेक्ट अधिकारी सीताराम स्वरूप, तत्कालिन वित्त निदेशक निलेश शर्मा, मैनेजेर वित्त कौशल गुप्ता, राजकॉम्प एमडी और एसीबी महानिदेशक को हाईकोर्ट ने नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. खण्डपीठ ने प्रकरण की अगली सुनवाई 6 जुलाई को तय की है. 

सोशल मीडिया की अफवाह पर परिजनों ने जताई कोरोना पॉजिटिव की आंशका, एसडीएम ने कराया दाह संस्कार 

टेण्डर में अतिशय लिमिटेड को 2 करोड़ 40 लाख का वर्क आर्डर दिया: 
पब्लिक अगेंस्ट करप्शन संस्था की ओर से दायर जनहित याचिका में एडवोकेट पूनम चंद भंडारी और डॉ टी एन शर्मा ने अदालत को बताया कि 7 मार्च 2018 को निकाले गये टेण्डर में अतिशय लिमिटेड को 2 करोड़ 40 लाख का वर्क आर्डर दिया गया. इस आर्डर के तहत 36 लाख रूपये सॉफटवेयर के निर्माण के लिए, 1 करोड़ 4 लाख रूपये सपोर्ट के लिए जारी किये गये. लेकिन कंपनी द्वारा ना तो ऐसा कोई सॉफ्टवेयर बनाया गया और ना ही किसी भी कम्प्यूटर में इंस्टाल ही किया गया. फिर भी सॉफ्टवेयर बनाने के लिए एक करोड़ 36 लाख और सपोर्ट एवं हेल्प डेस्क के नाम पर 26 लाख से अधिक का भुगतान कर दिया गया.

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर 

6 अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब:
याचिका मे कहा गया कि सिरोही, टोंक और गंगानगर जिलों से प्राप्त आरटीआई  सूचना के अनुसार इन तीन जिलों मे सॉफ्टवेयर इंस्टाल ही नहीं किया गया है. मामले की शिकायत एसीबी में किेय जाने के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं की गयी. बहस सुनने के बाद जस्टिस सबीना की खण्डपीठ ने राज्य के एसीबी महानिदेशक सहित 6 अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. 

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर

फेफड़े मजबूत करने के लिए खाएंगे ये चीजें तो रोगों से रहेंगे दूर

जयपुर: शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने वाले फेफड़ों का सही तरीके से काम करना अतिआवश्यक है. यदि फेफड़ों में कोई बीमारी है तो शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो सकती है, ऐसे में फेफड़ों का हमेशा ख्याल रखना आवश्यक है. दुनियाभर में कोरोना वायरस से मरने वालों की रिपोर्ट बताती है कि ये वायरस उनके फेफड़ों को कितनी तेजी से खराब करता है. उन्हें सांस लेने में भी तकलीफ इसी वजह से होती है. ऐसे में आज हम आपको कुछ ऐसी चीजें बता रहे हैं जो फेफड़ों को मजबूत करने में सहायता करेगी...

कांग्रेस का बड़ा ऑनलाइन अभियान, सोनिया गांधी ने की हर परिवार को 7500 रुपये प्रति माह देने की मांग 

पानी- पानी पीना फेफड़ों के लिए बहुत आवश्यक होता है. हर दिन 6 से 8 गिलास पानी पीना ही चाहिए. ये फेफड़ों को प्योरीफाई कर उन्हें रोगों से दूर रखता है.

लहसुन- भोजन करने के बाद एक कली लहसुन खाने से फेफड़े साफ होते हैं. लहसुन के सेवन से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होता है. 

बीन्स- बीन्स का सेवन भी फेफड़ों के लिए बहुत जरूरी है. बीन्स में शरीर के लिए जरूरी हर तरह के न्यूट्रीशन पाए जाते हैं.

विटामिन ‘सी’-  सभी खट्टे फलों जैसे नींबू, संतरा, कीवी, अंगूर, टमाटर अनानास और स्ट्रॉबेरी आदि में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है. विटामिन ‘सी’  के सेवन से फेफड़े मजबूत होते हैं. 

तुलसी-  तुलसी के पत्तों को सुखाकर उसमें कत्था, मैन्थाल और इलायची बराबर मात्रा में पीस लें और इसमे एक चम्मच पिसी हुई चीनी मिलाकर दिन में दो बार आधा चम्मच खाने से फेफड़ों में जमा हुआ कफ कम होता है.

ब्रोकोली- एंटी-ऑक्सीडेंट्स से भरपूर ब्रोकोली फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में कारगर है. 

VIDEO: फ्लाइट्स में नहीं बढ़ रहा यात्री भार, 70 फीसदी सीटें खाली 

VIDEO: फ्लाइट्स में नहीं बढ़ रहा यात्री भार, 70 फीसदी सीटें खाली

जयपुर: हवाई यात्रा को शुरू हुए आज तीसरा दिन है, लेकिन फ्लाइट्स में हवाई यात्रीभार में बढ़ोतरी होती नहीं दिख रही है. पहले 2 दिनों में मात्र 25 से 30% यात्रियों ने ही विमानों में आवागमन किया है. यानी करीब 70 से 75% सीटें खाली हैं. 

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में सामने आए 131 नए पॉजिटिव, 6 की मौत, जिलेवार जाने आंकड़े 

तय मानकों के अनुरूप ही यात्रियों से किराया लिया जा रहा:
जयपुर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से फ्लाइट संचालन का बुधवार को तीसरा दिन था. बुधवार को सुबह पहली फ्लाइट जब बेंगलुरु के लिए रवाना हुई तो 180 सीट क्षमता के इस विमान में मात्र 30 यात्री मौजूद थे. विमान में सफर करने वाले यात्रियों के लिहाज से तो यह अच्छी खबर थी, कि वे सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए बेंगलुरु तक पहुंच सकते हैं. लेकिन फ्लाइट का संचालन कर रही एयरलाइन के लिए कम यात्रीभार मुनाफे का सौदा नहीं है. एयरलाइंस ने केंद्र सरकार के निर्देश पर हवाई किराए की दरें भी बहुत अधिक नहीं बढ़ाई हैं. तय मानकों के अनुरूप ही यात्रियों से किराया लिया जा रहा है. लेकिन इसके बावजूद यात्रियों की संख्या काफी कम है. सबसे खराब स्थिति तो पहले दिन 25 मई को देखी गई, जब दिल्ली से जयपुर पहुंची एयर इंडिया की फ्लाइट में मात्र 2 यात्री दिल्ली से जयपुर आए. 70 सीट क्षमता के इस विमान में मात्र 2 यात्री ही मौजूद थे. इसी तरह 26 मई को भी जयपुर से अमृतसर रवाना हुए 80 सीट क्षमता के विमान में मात्र 6 यात्री मौजूद थे. यात्री भार में कमी के चलते एयरलाइंस को कई फ्लाइट रद्द भी करनी पड़ रही हैं. पहले दिन जहां जयपुर एयरपोर्ट से 12 फ्लाइट रद्द रही. वहीं दूसरे दिन 9 फ्लाइट्स का संचालन रद्द करना पड़ा. आज भी जयपुर एयरपोर्ट से 10 फ्लाइट संचालित नहीं हो रही हैं. 

पिछले 2 दिन में एक जैसा यात्रीभार, बढ़ोतरी नहीं:
- 25 मई को पहले दिन 8 फ्लाइट का हुआ डिपार्चर
- 289 यात्री गए जयपुर से इन 8 फ्लाइट से
- 8 फ्लाइट में 1130 सीट थी, केवल 289 यात्री गए यानी 25.57% रहा यात्रीभार
- 25 मई को 11 फ्लाइट का हुआ अराइवल
- इन फ्लाइट से 893 यात्री आए जयपुर
- 11 फ्लाइट में थी 1670 सीट, 893 यात्रियों का आगमन हुआ, यानी यात्री भार रहा 53.47%
- 26 मई को 10 फ्लाइट का हुआ डिपार्चर
- कुल 440 यात्री गए जयपुर से इन 10 फ्लाइट से
- 10 फ्लाइट में थी 1390 सीट, यात्री गए 440, यानी औसत यात्रीभार रहा 31.65 प्रतिशत
- 26 मई को 11 फ्लाइट का हुआ अराइवल
- 872 यात्री जयपुर आए इन फ्लाइट से
- 1570 सीट थी विमान में, यात्री आए 872, यानी यात्रीभार रहा 55.54 प्रतिशत

जम्मू-कश्मीर में टला बड़ा आतंकी हमला, पुलवामा की तरह गाड़ी में रखी गई थी IED 

दरअसल कम यात्रीभार के पीछे सख्त क्वॉरेंटाइन नियमों को कारण माना जा रहा है. कई राज्यों ने दूसरे राज्य से यात्रियों के आने पर 14 दिन तक संस्थागत क्वॉरेंटाइन रखने के निर्देश दिए हैं. महाराष्ट्र में मुम्बई पहुंचते ही यात्रियों का कोविड-19 टेस्ट किया जा रहा है. वहीं तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश आदि राज्यों ने भी सख्त नियम बनाए हैं. राजस्थान आने वालों को भी 14 दिन होम क्वॉरेंटाइन किया जा रहा है. अभी केवल वे लोग ही यात्रा कर रहे हैं जिन्हें जरूरी कार्य से ड्यूटी ज्वाइन करनी है या फिर पिछले 2 माह से लॉक डाउन के कारण फंस गए थे. बिजनेस या अन्य कार्यों के सिलसिले में यात्रा करने वाले लोग अभी यात्रा करने से बच रहे हैं. उन्हें डर है कि यात्रा के तुरंत बाद 14 दिन तक क्वॉरेंटाइन कर दिया जाएगा. ऐसे में यह जरूरी है कि एविएशन इंडस्ट्री को बढ़ावा देने के लिए क्वॉरेंटाइन नियमों में शिथिलता दी जाए. जिस तरह दिल्ली सरकार ने हवाई यात्रा को लेकर क्वॉरेंटाइन समाप्त किया है, उसी तरह के निर्णय सभी राज्यों को लेने होंगे, तभी फ्लाइट्स में यात्री भार बढ़ सकता है. यदि इसी तरह के हालात रहे तो कम यात्रीभार के चलते एयरलाइंस का आर्थिक संकट बढ़ेगा और उनके लिए फ्लाइट संचालित कर पाना संभव नहीं होगा.  

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज़, जयपुर

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में सामने आए 131 नए पॉजिटिव, 6 की मौत, जिलेवार जाने आंकड़े

 Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में सामने आए 131 नए पॉजिटिव, 6 की मौत, जिलेवार जाने आंकड़े

जयपुर: राजस्थान में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होता ही जा रहा है. पिछले 12 घंटे में प्रदेश में 131 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं. झालावाड़ा में लगातार दूसरे दिन कोरोना का बड़ा विस्फोट देखने को मिला है. यहां सर्वाधिक 69 केस सामने आए हैं. इसके अलावा अजमेर में एक, भरतपुर में 12, चूरू में पांच, दौसा में चार, जयपुर में सात, झुंझुनूं में सात, कोटा में आठ, नागौर में पांच केस और पाली में 13 पॉजिटिव केस चिन्हित किए गए हैं. ऐसे में प्रदेश में अब पॉजिटिव मरीजों का ग्राफ बढ़कर 7947 पहुंच गया है. 

जम्मू-कश्मीर में टला बड़ा आतंकी हमला, पुलवामा की तरह गाड़ी में रखी गई थी IED 

पिछले 12 घंटे में 6 मौतें: 
वहीं पिछले 12 घंटे में प्रदेश में 6 लोगों ने कोरोना की चपेट में आने से दम तोड़ दिया है. इसमें अजमेर, बांसवाड़ा, दौसा, करौली, नागौर के अलावा दूसरे राज्य के एक मरीज की कोरोना से मौत हुई है. ऐसे में अब प्रदेश में मृतकों की संख्या भी बढ़कर 179 पहुंच गई है. 

VIDEO: कोरोना संकट में CM के संवेदनशील फैसले, गहलोत ने दी अनुकंपा नियुक्ति के लिए शिथिलता  

बुधवार को कुल 280 नए मरीज मिले:
इससे पहले प्रदेश में बुधवार को कुल 280 नए मरीज मिले, जबकि तीन मौतें हुई. तीनों मौतें जयपुर में हुईं और 42 नए रोगी भी मिले. वहीं जोधपुर में 33, पाली में 21, कोटा में 18, सीकर में 13, नागौर में 12, भरतपुर में 10, बीकानेर व राजसमंद में 9-9, भीलवाड़ा व हनुमानगढ़ में 7-7, झुंझुनूं व उदयपुर में 6, टोंक में 4, श्रीगंगानगर व बारां में 3-3, सिरोही, धौलपुर व करौली में 2-2, डूंगरपुर, दौसा, चित्तौड़गढ़, बूंदी, अजमेर, बाड़मेर में 1-1 नए रोगियों के अलावा बाहरी राज्य का एक व्यक्ति पॉजिटिव मिला. 
 

गर्मी से राहत के लिए 20 हजार तक के बजट में हैं ये 4 बेहतरीन एयरकंडीशनर

गर्मी से राहत के लिए 20 हजार तक के बजट में हैं ये 4 बेहतरीन एयरकंडीशनर

जयपुर: गर्मी धीरे धीरे अपने तेवर दिखाने लगी हैं. इसी के चलते सड़के भी अब दिन में वीरान नजर आने लगी हैं. वहीं दूसरी ओर नौतपा में तापमापी का पारा और ज्यादा उछलने की संभावना है. ऐसे में सभी घरों से निकलने से बच रहे हैं और घर में ही गर्मी से बचाव के लिए कूलर-पंखे का सहारा ले रहे हैं. पर तीखी गर्मी के कारण कूलर भी कुछ समय के बाद कूलिंग करना कम कर देते हैं. ऐसे में अगर आप  किफायती एयरकंडीशनर (AC) लेने का मन बना रहे हैं जिसकी कीमत 20 हजार रुपये तक हो तो आइये जानते है आपके बजट के अनुरूप एयरकंडीशनर के बारे में...

मोदी सरकार के खिलाफ आज ऑनलाइन आंदोलन करेगी कांग्रेस पार्टी,  50 लाख कार्यकर्ता रखेंगे अपनी बात 

फ्लिपकार्ट द्वारा MarQ (1 टन) 2 Star Split AC:  
यह फ्लिपकार्ट कंपनी का प्रोडक्ट है, अगर कमरे का साइज़ 90 sq ft है तो MarQ (1 टन) 2 स्टार स्प्लिट एसी आपके लिए उपयुक्त है और इसमें ऑटो रीस्टार्ट, स्लीप मोड जैसे फीचर्स भी मिलते हैं. टर्बो मोड के साथ तुरंत और तेजी से ठंडा करने में भी ये एयरकंडीशनर सक्षम है. इसके अलावा इस AC पर नो कॉस्ट EMI की भी सुविधा दी जा रही है. इस AC को Flipkart से ख़रीदा जा सकता है. 

Voltas 0.8 Ton 3 Star Split AC: 
वोल्टास का यह एसी 4 stages of filtration and 3D airflow के साथ आपके पूरे कमरे में समान रूप से ठंडी हवा प्रदान करके बेहतर प्रदर्शन करता है. आपको बता दे की Voltas, टाटा का ही ब्रांड है. यह 3 स्टार BEE रेटिंग के साथ आता है. साथ ही इसमें ऑटो रीस्टार्ट, स्लीप मोड जैसे फीचर्स भी आपको मिलते हैं. इसके अलावा इस AC पर नो कॉस्ट EMI की भी सुविधा दी जा रही है. यह एयरकंडीशनर Easy maintenance के साथ आपके बजट के अनुरूप सर्वश्रेष्ठ में से एक है. 

Blue Star 0.75 Ton 3 Star Window AC:
3 स्टार रेटिंग वाला यह AC ऑटो रीस्टार्ट फीचर के साथ आता है और इसके साथ ही आपको  Product पर एक साल और कंप्रेसर पर 5 साल की वारंटी BLUE STAR कंपनी की तरफ से मिलती है, आपको इसमें (2) White एंड Milky White Colour  ऑप्शन भी मिल जायेंगे अगर आपके पास Window AC लगाने की पर्याप्त जगह और सुविधा है तो Blue Star का 0.75 Ton 3 Star Window AC आपके लिए बेस्ट ऑप्शन साबित हो सकता है, इसके अलावा इस AC पर नो कॉस्ट EMI की भी सुविधा दी जा रही है. इसे भी Flipkart से खरीदा जा सकता है. 

VIDEO: कोरोना संकट में CM के संवेदनशील फैसले, गहलोत ने दी अनुकंपा नियुक्ति के लिए शिथिलता  

Lloyd LW12B32EW 1 Ton 3 Star Window AC:
3 स्टार रेटिंग के साथ आपको इसमें एंटी बैक्टीरिया फ़िल्टर (Anti Bacteria Filter) भी मिल जाता है और साथ ही ऑटो एयर स्विंग, ऑटो रिस्टार्ट जैसे फीचर्स भी इसमें उपलब्ध है. इस 1 Ton 3 Star Window AC में आपको एक साल और कंप्रेसर पर 5 साल की वारंटी भी मिलती है.

VIDEO: कोरोना संकट में CM के संवेदनशील फैसले, गहलोत ने दी अनुकंपा नियुक्ति के लिए शिथिलता

जयपुर: कोरोना संकट की घड़ी में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने संवेदनशीलता से फैसला करते हुए मृतक राज्य कर्मचारियों के आश्रितों के लिए नियमों में शिथिलता दी है. इससे इन मृतक राज्य कर्मचारियों के आश्रित परिवारों को बड़ा संबल मिलेगा. 

मोदी सरकार के खिलाफ आज ऑनलाइन आंदोलन करेगी कांग्रेस पार्टी, 50 लाख कार्यकर्ता रखेंगे अपनी बात 

आवेदकों के लिए नियुक्ति की राह आसान की: 
मुख्यमंत्री गहलोत ने मृतक आश्रितों को नौकरी के लिए लंबित प्रकरणों में मानवीय आधार पर निर्णय लेते हुए आवेदकों के लिए नियुक्ति की राह आसान की है. CM गहलोत ने महत्वपूर्ण फ़ाइल पर मुहर लगाते हुए 71 आश्रितों को नियुक्ति देने के लिए अनुकंपा नियुक्ति नियमों में शिथिलता दी है. गहलोत ने आयु सीमा, देरी से आवेदन करने, प्रशासनिक विभाग में पद रिक्त नहीं होने पर अन्य विभाग में नियुक्ति चाहने सहित अन्य कारणों से लंबित प्रकरणों में मानवीय आधार पर निर्णय लेते हुए आवेदकों के लिए नियुक्ति की राह आसान की है. 

2208 आश्रितों को अनुकंपा नियुक्तियां प्रदान की जा चुकी: 
मृतक आश्रितों को नौकरी देने के मामले में गहलोत सरकार ने बीते करीब डेढ़ साल में कई अहम फैसले किये. अब तक 72 विभागों में मृतक राज्य कर्मचारियों के 2208 आश्रितों को अनुकंपा नियुक्तियां प्रदान की जा चुकी हैं. इनमें प्रमुख रूप से माध्यमिक शिक्षा में 749, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग में 252, पुलिस में 177, जलदाय विभाग में 116, वन विभाग में 106, पशुपालन विभाग में 80, सार्वजनिक निर्माण विभाग में 78 तथा जल संसाधन विभाग में 68 नियुक्तियां दी जा चुकी हैं. 

भारत-चीन के बीच सीमा विवाद पर बोले ट्रंप, कहा- अमेरिका मध्यस्थता करने के लिए तैयार

मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए आवेदकों को शिथिलता दी:
मुख्यमंत्री गहलोत डेढ़ साल में अनुकम्पा नियुक्ति के विभिन्न कारणों से लंबित 489 प्रकरणों में सहानुभूतिपूर्वक विचार कर शिथिलता प्रदान कर चुके हैं. मृतक कर्मचारियों की पुत्रवधु को नौकरी देने में भी गहलोत ने अहम फैसला किया है. न्यूनतम एवं अधिकतम आयु सीमा के दायरे में आने, देरी से आवेदन करने, नियमों की जानकारी नहीं होने, प्रथम आवेदक के नियुक्ति आदेश जारी होने के बाद दूसरे आवेदक को नियुक्ति प्रदान करने, अनुकंपा नियमों के तहत परिवार की परिभाषा में पुत्रवधू के पात्र नहीं होने आदि ऐसे मामले हैं जिनमें मुख्यमंत्री ने मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए आवेदकों को शिथिलता दी. अब तक चार प्रकरण ऐसे हैं जिनमें सीएम गहलोत ने अनुकंपात्मक नियुक्ति नियमों के तहत परिवार की परिभाषा में पात्र नहीं होने के बावजूद विषम पारिवारिक परिस्थितियों के आधार पर पुत्रवधू को नियमों में शिथिलता देते हुए नियुक्ति देना मंजूर किया है. कोरोना संकट के बीच CM गहलोत के इन फैसलों ने कई परिवारों को आर्थिक व सामाजिक संबल दिया है. 

Open Covid-19