जयपुर VIDEO: गुलाबी नगर के परकोटा क्षेत्र को सहजने का प्लान तैयार, नगर नियोजन विभाग ने तैयार किया प्रारूप, देखिए खास रिपोर्ट

VIDEO: गुलाबी नगर के परकोटा क्षेत्र को सहजने का प्लान तैयार, नगर नियोजन विभाग ने तैयार किया प्रारूप, देखिए खास रिपोर्ट

जयपुर: यूनेस्को की ओर से वर्ल्ड हैरिटेज साइट्स में शामिल राजधानी के परकोटा क्षेत्र के हैरिटेज के संरक्षण के लिए प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार गंभीर है. इसी कवायद के तहत नगर नियोजन विभाग ने परकोटा क्षेत्र का स्पेशल एरिया हैरिटेज प्लान का प्रारूप तैयार कर लिया है. यह प्लान किस तरह परकोटा क्षेत्र के हैरिटेज को बचाएगा.

दो साल पहले संयुक्त राष्ट्र संघ के यूनेस्को ने गुलाबी नगर के चारदीवारी क्षेत्र को वर्ल्ड हैरिटेज साइट्स की सूची में शामिल किया था. इस सूची में परकोटा क्षेत्र को बरकरार रखने के लिए राज्य सरकार की ओर से कई कदम उठाए जाने हैं. इनको लेकर राज्य सरकार की ओर से यूनेस्को में कमिटमेंट भी दिया हुआ है. पिछले दिनों यूनेस्को की टीम जयपुर आई थी. टीम ने क्षेत्र की विरासत को सहेजने के लिहाज से सरकार और जयपुर हैरिटेज नगर निगम की ओर से किए कार्यों का आकलन किया था. इसी के तहत नगर नियोजन विभाग की ओर से स्पेशल एरिया हैरिटेज प्लान का प्रारूप तैयार किया गया है. आपको बताते हैं कि परकोटे की विश्व प्रसिद्ध विरासत को सहेजने के लिए इस प्लान में कौनसे कदम उठाने की सिफारिश की गई है.

स्पेशल एरिया हैरिटेज प्लान में प्रस्तावित सिफारिशें

- इस प्लान को लागू करने के लिए एकीकृत प्राधिकरण का गठन किया जाना चाहिए

-प्लान को लागू करने की जिम्मेदारी पूरी तरह इस प्राधिकरण को सौंपी जानी चाहिए

-विरासत संरक्षण के लिहाज से अलग से नेशनल लेवल का संस्थान स्थापित किया जाना चाहिए

-देश के अपनी तरह के इस पहले संस्थान में विरासत संरक्षण के लिहाज से शोघ किए जाने चाहिए

-आधुनिकतम तकनीक के साथ किस तरह विरासत को सहेजा जा सकता है, इस पर शोध होना चाहिए

-विरासत संरक्षण में प्रशिक्षण और कैपिसिटी बिल्डिंग का काम इस संस्थान के माध्यम से किया जाना चाहिए

-परकोटा क्षेत्र में बिजली व पेयजल की आपूर्ति,सड़क,ड्रेनेज,सीवर व सोलिड वेस्ट मैनेजमेंट के मामले में आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल जरूरी है

-सौ साल से भी अधिक पुरानी चारदिवारी की इमारतों को पुनरूद्धार के लिए गरीब भवन मालिक को आसान किश्तों पर ऋण देने की नीति बनाई जानी चाहिए

-यहां की प्राचीन इमारतों के एडेप्टिव रि यूज के लिए गाइडलाइन्स बनाए जाने की आवश्यकता है

-विरासत का क्या महत्व और इसका संरक्षण क्यों जरूरी है, इसके लिए जन जागरूकता अभियान चलाया जाना चाहिए

अपनी स्थापत्य कला के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध परकोटा क्षेत्र को वर्ल्ड हैरिटेज साइट्स में बनाए रखने के उद्देश्य से जो सात महत्वपूर्ण कार्य किए जाने हैं. उनमें सबसे पहला काम यहां का स्पेशल एरिया हैरिटेज प्लान बनान और उसे लागू करना है. क्योंकि यही प्लान बाकी के शेष 6 कार्यों का आधार रहेगा. 
 

और पढ़ें