शराबबंदी वाले बिहार में जहरीली शराब का कहर लगातार जारी, मृतकों की संख्या हुई 16

शराबबंदी वाले बिहार में जहरीली शराब का कहर लगातार जारी, मृतकों की संख्या हुई 16

शराबबंदी वाले बिहार में जहरीली शराब का कहर लगातार जारी, मृतकों की संख्या हुई 16

नवादा: बिहार बंदी वाले प्रदेश में एक जहरीली शराब पिने से 16 मौतें होना अपने आप में चौकाने वाला है. इसमें भी पुलिस प्रशासन लीपापोती करता हुआ नजर आ रहा है. प्रशासन अभी तक नवादा जिले में मरने वालों की संख्या 10 ही बता रहा है वो भी शराब के सेवन से नही हुई है. जिले में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या आधिकारिक और गैर आधिकारिक पुष्टि के बीच उलझ कर रह गई है.

लोगों का कहना केवल 10 लोग ही मरे है वो भी ​शराब के सेवन से नही: 
आम लोगों का कहना है कि शराब पीने से अब तक मरने वालों की संख्या 16 पहुंच चुकी है. वहीं प्रशासन का कहना है कि उसके पास महज 10 लोगों की ही सूची है. ये 10 लोग भी शराब पीने से ही मरें है. इस बात की पुष्टि जिला प्रशासन नहीं कर रहा है. प्रशासन का कहना है कि सभी मरने वालों का अंतिम संस्कार कर दिया गया है. कुछ मृतकों का पोस्टमार्टम कराया गया जिनका बेसरा जांच के लिए लैब में भेजा गया है.

एक की जहरीली शराब से गई आंखो की रोशनी:
नगर थाना क्षेत्र में कथित तौर पर शराब से मरने वालों का सिलसिला शुक्रवार तक जारी रहा. फिलहाल नया कोई मामला अब तक सामने नहीं आया है. शनिवार की दोपहर एक नई बात सामने आई कि शराब पीने के बीमार जो मरीज पटना में भर्ती थे उनमें से एक की आंख की रोशनी चली गई. शुक्रवार को चार और लोगों की मौत हो गई थी. इनमें गोंदपुर निवासी संजय यादव का 16 वर्षीय पुत्र आकाश कुमार, कन्हाई नगर मोहल्ला निवासी रामधनी साव, न्यू एरिया वार्ड नंबर छह निवासी मुन्ना कुमार और बबलू कुमार शामिल हैं.

जिले में मरने वालों का आंकड़ा 16 पर पहुंचा:
आकाश व रामधनी के शवों का पोस्टमार्टम सदर अस्पताल नवादा में कराया गया है. मुन्ना के शव का पोस्टमार्टम NMCH पटना में कराया गया है. इधर मृतक बबलू के परिजनों ने शराब से मौत को सिरे से इनकार किया है. जिले में मरने वालों का आंकड़ा 16 पर पहुंच गया है सभी मृतक नगर थाना क्षेत्र के गोंदापुर, बुधौल, खरीदी बिगहा, सिसवा और नगर क्षेत्र के रहने वाले हैं.

जांच के लिए SIT का गठन किया:
नवादा के DM यशपाल मीणा ने कहा है कि अलग- अलग तिथियों में मौत की घटना हुई है. जिनमें पांच लोगों की मौत अलग-अलग बीमारी से हुई है. वहीं दो मृतकों के परिजनों ने शराब से मौत की जानकारी दी है. लेकिन शवों का पोस्टमार्टम नहीं कराया गया. तीन शवों का पोस्टमार्टम कराया गया है. इधर इस मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला प्रशासन ने जांच के लिए SIT का गठन किया है. शराब को लेकर छापेमारी तेज कर दी गई है. कई थानों की पुलिस और उत्पाद विभाग की टीम छापेमारी कर रही है.

होली के अवसर पर शराब पीने से कई लोगों के बीमार पड़ने और मौत होने की बात सामने आ रही है. 31 मार्च को नौ , 1 अप्रैल को तीन और 2 अप्रैल को चार लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कुछ लोगों का इलाज निजी अस्पतालों में चल रहा है.

 

और पढ़ें