पुलिस कमिश्नरेट जयपुर ने किया 100 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी का खुलासा

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/03/15 08:52

जयपुर।  पुलिस कमिश्नरेट ने करीब 100 करोड़ रुपये से अधिक की ठगी के मामले का खुलासा किया है। ये ठगी रेडियो एक्टिव पदार्थ व एंटिक आईटम के नाम पर की गयी थी। देश के चार अलग अलग शहरों के लोगों को फर्जी कंपनी बनाकर निशाना बनाया गया। 

जयपुर कमिश्नरेट की ओर से पिछले सप्ताह 1 खुलासा किया गया जिसमे डांसिग डॉल के नाम पर ठगी के मामले में 18 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने मामले की जांच करते हुए आरोपियों से पुछताछ शुरु की तो कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आये जिसे देखकर तो पुलिस भी अंचभित हो गयी। जयपुर में एक ऐसा गिरोह चल रहा था जिसने देश भर से 4 लोगों का चयन कर उन्हे ठगी का शिकार बनाया और इसके लिए उन्होने विश्व के कई देशों में भ्रमण कर उन्हे जाल में फंसाया। पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव ने बताया कि रेडियोएक्टिव पदार्थ दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह क सरगना गणेश इंगले ने कई लोगों के साथ मिलकर देश में दर्जनों लोगों को अपना शिकार बनाया था। पुलिस ने मामले में 18 लोगों को गिरफ्तार किया। इसके बाद 4 अन्य मामले कंपनी के खिलाफ दर्ज हुए। जिसमे भवानी सिंह शेखवात, विनय अग्रवाल, गणेश इंगले व  अजय सिंह ने मिलकर अलग अलग लोगों को झांसे में लिया और जाल बिझाकर ठगी की।

आरोपियों ने लोगों को झांसे में लेने के लिए बताया कि उनके पास एक रेडियोएक्टीव मेटेरियल है जिसका नाम R1 92 है। ये दुनिया का सबसे मंहगा मेटेरियल है और इसकी 1 इंच की किमत करीब 500 से 700 करोड़ है। पीड़ित पक्ष को आरोपियों ने ये एहसास दिलाया कि आप किस्मत वाले हो जो आपकी हमसे मुलाकात हो गया। आपको इस पदार्थ की टेस्टिंग करानी होगा जिसके बाद अमेरिका की नासा कंपनी इसे खरीद लेगी। यकिन दिलाने के लिए कानोता स्थित फार्म हाउस पर इसकी डीआरडीओ टेस्टिंग भी करवायी गयी। इसके लिए करोड़ो रुपये ले लिये गये। टेस्टिंग के दौरान गुमराह करने के लिए एंटिगामा जैकेट भी पहनायी गयी। टेस्टिंग के दौरान आरोपियों ने एक मशीन लगाकर कानोता में छोटा सा धमाका भी कर दिया और टेस्टिंग के फेल होने की बात कहकर दूबारा टेस्टिंग करने का झांसा दिया और इसकी एवज में वापस करोड़ो रुपये ले लिये। आरोपियों ने ये भी कहा कि कैमिकल के रिएक्शन से छोटा सा धमाका हुआ है। अगर गड़बड़ी हो जाती तो पूरा जयपुर शहर ही धमाके से खत्म हो जाता। इस तरह से पीड़ित पक्ष झांसे में आ गये और मुनाफा कमाने के चक्कर करोड़ो रुपये ठगों को देते रहे। पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने करीब 100 करोड़ रुपये गुमराह करके पीड़ित व्यक्तियों से ले लिये..।

आरोपियों ने कुछ लोगों से एंटिक आईटम के नाम पर भी ठगी की। चमत्कारी माला, आरपार दिखायी देने वाला शीशा, पारदर्शी देखने वाला चश्मा, दुर्लभ पेंटिग, मायावी शक्तियों का झांसा देकर भी पीड़ितों से करोड़ो रुपये लिये। पुलिस ने आरोपियों से मालाएं, चश्मे, शीशा और पेंटिग्स बरामद की है। जिनकी जांच की जा रही है।

पुलिस की जांच में सामने आया कि मामले में आरोपी भवानी सिंह अपने साथियों के साथ जयपुर में लक्जरी लाईफ जी रहा था। 
पुलिस ने मामले में आरोपी अजय सिंह को तो गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मुख्य भुमिका में काम कर रहे भवानी सिंह, विनय अग्रवाल जैसे शातिर अभी भी फरार चल रहे है जिनकी पुलिस तलाश कर रही है । जयपुर कमिश्नरेट का कहना है कि आरोपियों से पुछताछ जारी है जिसमे राष्ट्रीय स्तर के कई ओर भी खुलासे हो सकते है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

जानिए कुछ ऐसे उपाय जिन्हे करने के बाद आपका जीवन बिना परेशानी से चलेगा| Good Luck Tips

कांग्रेस-बीजेपी के भरोसे\'मंद\' - 25 !
सैम पित्रोदा के बयान पर कांग्रेस की किरकिरी
सैम पित्रोदा के एयर स्ट्राइक पर विवादित बयान को लेकर सियासत
लोकसभा चुनाव का सियासी गणित
धन संबधित परेशानी है तो जानिए कुछ असरकारी टोटके| Good Luck Tips
BJP ने 182 लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी
BJP थोड़ी देर में जारी करेगी उम्मीदवारों की पहली सूची