वाशिंगटन अमेरिका में चाकू से लोगों पर हमला करने वाली युवती को पुलिस ने गोली से उड़ाया

अमेरिका में चाकू से लोगों पर हमला करने वाली युवती को पुलिस ने गोली से उड़ाया

अमेरिका में चाकू से लोगों पर हमला करने वाली युवती को पुलिस ने गोली से उड़ाया

वाशिंगटन: अमेरिका में लोगों पर चाकू से हमला (Knife Attack) करने वाली युवती को कोलंबस पुलिस (Cloumbas Police) ने ओहियो में कोलंबस गोलियों से भून डाला. अधिकारियों ने बताया कि पुलिस द्वारा जारी वीडियो फुटेज (Video Footage) में देखा जा सकता है कि किशोरी चाकू लेकर दो लोगों पर कूद पड़ी थी. इस घटना के खिलाफ लोग ओहियो के सबसे बड़े शहर की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करने निकल पड़े। यह घटना ऐसे वक्त हुई जब पूरे देश का ध्यान जार्ज फ्लायड हत्या मामले (George Floyd Murder Case) में अदालत के फैसले की तरफ लगा था। मृत किशोरी की पहचान माखिया ब्रायंट के रूप में हुई है। 

किशोरी ने दो महिलाओं पर की थी चाकू से हमले की कोशिश:
घटना का वीडियो जारी करते हुए कोलंबस के अंतरिम पुलिस प्रमुख माइकल वुड्स (Chief of Police Michael Woods) ने कहा कि पुलिस को आपातकालीन नंबर-911 पर एक काल आई थी. इसमें कहा गया था कि शहर के दक्षिण-पूर्वी इलाके में एक घर पर चाकू से हमला करने की कोशिश हुई है. पुलिस वहां पहुंची तो अफरा-तफरी का माहौल था. एक किशोरी ने चाकू लहराते हुए एक महिला पर हमला किया. वह पीछे की तरफ गिर पड़ी तो किशोरी ने दूसरी महिला पर हमला कर दिया था.

गोली लगते युवती हुई ढेर:
वीडियो को धीरे-धीरे चलाने पर देखा जा सकता है कि दूसरी महिला पार्किंग में खड़ी एक कार पर गिर पड़ी. इसके बाद किशोरी ने फिर उस पर हमला करने के लिए हाथ उठाया. लेकिन इसी बीच पुलिस अधिकारी ने उसे गोली मार दी. गोली लगते ही वह वहीं ढेर हो गई. उसके पास से रसोई घर में काम आने वाला एक चाकू बरामद हुआ है.

पिछले साल भी हुई थी ऐसी ही घटना:
ज्ञात हो कि पिछले साल अफ्रीकी अमेरिकी अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के मामले में कोर्ट ने पूर्व पुलिस अधिकारी डेरेक चाउविन (Former Police Officer Derek Chauvin) को हत्या को दोषी करार दिया था. इस फैसले का कई भारतीय-अमेरिकी सांसदों और समूहों (Indian-American Lawmakers and Groups) ने स्वागत किया है. चाउविन द्वारा फ्लॉयड की गर्दन को घुटने से दबाये जाने के बाद उसकी मौत हो गई थी. इस घटना का वीडियो वायरल होने के बाद अमेरिका में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे.

और पढ़ें