राजस्थान में सियासी संकट: अजय माकन बोले- हम मंथन कर रहे है, इसी से अमृत निकलेगा; दिल्ली लौटे प्रदेश प्रभारी

राजस्थान में सियासी संकट: अजय माकन बोले- हम मंथन कर रहे है, इसी से अमृत निकलेगा; दिल्ली लौटे प्रदेश प्रभारी

राजस्थान में सियासी संकट: अजय माकन बोले- हम मंथन कर रहे है, इसी से अमृत निकलेगा; दिल्ली लौटे प्रदेश प्रभारी

जयपुर: राजस्‍थान प्रदेश कांग्रेस प्रभारी (Rajasthan Pradesh Congress In charge) अजय माकन दो दिन के दौरे के बाद दिल्ली लौट गए, इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (CM Ashok Gehlot) के साथ कई घंटों तक बैठक की और मंत्रिमंडल विस्तार व नियुक्तियों को लेकर लंबी चर्चा हुई. ऐसे में ये साफ है कि कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अजय माकन का दो दिवसीय दौरा बेनतीजा रहा.

सीएम गहलोत के साथ हुई साढ़े चार घंटे मंत्रणा:
अजय माकन राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान की समझाइस के लिए दो दिवसीय जयपुर दौरे पर थे. आज यानी बुधवार को माकन वापस बिना किसी निर्णय के वापस दिल्ली पहुंच गए है. राजस्‍थान सरकार और कांग्रेस दोनों की ही स्थिति कुछ असमंजस में छोड़ अजय माकन अपने दो दिन के दौरे को पूरा कर वापस दिल्ली पहुंच गए. इन 2 दिनों में माकन की सीएम गहलोत के साथ तकरीबन साढे़ 4 घंटे तक मंत्रणा हुई है. कल रात माकन ने सीएम गहलोत के साथ करीब 3 घंटे बैठक की थी और उसके बाद आज माकन फिर गहलोत से मिलने सीएमआर पहुंचे.

हम लोग चर्चा और मंथन कर रहे है: माकन
बुधवार को माकन और गहलोत के बीच करीब डेढ़ घंटे की मुलाकात हुई. पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा भी इस दौरान मौजूद रहे. इस मुलाकात के दौरान मंत्रिमंडल विस्तार के साथ ही बड़े पदों पर राजनीतिक नियुक्तियों, संगठनात्मक नियुक्तियों और प्रदेश के सियासी हालातों के लेकर चर्चा हुई. मीडिया से बात करते हुए माकन ने कहा कि हम लोग चर्चा और मंथन कर रहे हैं और मंथन से ही अमृत रस निकलता है.
 
किसी भी मुद्दे पर असहमति नहीं: प्रदेश प्रभारी
माकन ने विभिन्न मसलों पर सीएम की सहमति और असहमति को लेकर लगाए जा रहे कयासों को खारिज किया और कहा कि किसी भी मुद्दे पर असहमति नहीं है, सभी चीजों पर सहमति है. माकन और गहलोत के बीच जिस तरह से लम्बी मुलाकातें और मंत्रणा हुई है उसे लेकर कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार कोई ठोस नतीजा निकल कर आएगा. ऐसा माना जा रहा है कि माकन आलाकमान का संदेश और कोई फॉर्मूला लेकर दिल्ली से आए थे लेकिन इस फॉर्मूले पर कितनी सहमति बनी यह आने वाले कुछ दिनों में साफ हो जाएगा. हालांकि उन्होंने बैठक के दौरान हुई चर्चा पर यह कहते हुए कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया कि ये चीजें सार्वजनिक रुप से डिस्कस करने के लिए नहीं है. वैसे माकन ने कहा है कि मंथन से ही अमृत निकलता है. मंथन और मंत्रणाओं के कई दौर हो चुके हैं और अब लोग अमृत यानि इसके नतीजे का इंतजार कर रहे हैं.

माकन से मिलने होटल पहुंचे कई नेता:
माकन से मिलने होटल में बुधवार को कई नेता पहुंचे. आदर्श नगर विधायक रफीक खान, खाजूवाला विधायक गोविन्दराम मेघवाल, बीज निगम के पूर्व अध्यक्ष धर्मेन्द्र राठौड़, मंत्री अर्जुन सिंह बामणिया, समेत कुछ अन्य नेताओं ने होटल पहुंचकर माकन से मुलाकात की. संभावना जताई जा रही थी पायलट खेमे के विधायक भी माकन से मिलकर अपनी बात रख सकते हैं लेकिन ऐसा नहीं हुआ. पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा ने माकन के दौरे को लेकर कुछ भी बोलने से इनकार किया. 

लेकिन मुख्य सचेतक डॉ. महेश जोशी ने कहा कि प्रदेश प्रभारी हाईकमान का संदेश देने और कार्यकर्ताओं का उत्साहवर्धन करने के लिए प्रदेश दौरे पर आते हैं. उन्होंने कहा कि सत्ता और संगठन में सब कुछ ठीक है और किसी तरह का कोई गतिरोध नहीं है.
 

और पढ़ें