भीलवाड़ा में लोकसभा चुनाव की राजनीतिक सरगर्मी शुरू

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/12/31 02:50

भीलवाड़ा। एशिया के मैनचेस्टर के रूप में विख्यात कपड़ा नगरी भीलवाड़ा में राजनीतिक सरगर्मी लोकसभा चुनाव की शुरू हो चुकी है। वैसे तो हाल ही में निपटे विधानसभा चुनाव में जिले में भाजपा का पलड़ा भारी रहा। मगर कांग्रेस के कैंप में भी प्रदेश में पार्टी की सरकार बनने के बाद उत्साह देखा जा रहा है।

भीलवाड़ा जिले की 7 विधानसभा सीटों में से 5 पर कमल खिला। लोकसभा क्षेत्र भीलवाड़ा के हिसाब से 8 विधानसभा सीट है इनमें से तीन कांग्रेस व पांच भाजपा के पास है। भाजपा ने आसींद,भीलवाड़ा मांडलगढ़, शाहपुरा और जहाजपुर में हाल के विधानसभा चुनाव में जीत हासिल की है। कांग्रेस के खाते में सहाड़ा रायपुर मांडल व हिंडोली सीट गई। भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में 19 लाख 57 हजार 844 मतदाता हैं

भीलवाड़ा के जातिगत समीकरण
भीलवाड़ा लोकसभा सीट पर हमेशा जातिगत समीकरण का दबदबा तो नहीं रहा है मगर यदा कदा जातिगत समीकरण भी निर्णायक भूमिका में रहे हैं। लोकसभा के अब तक हुए 16 चुनाव में 8 बार ब्राह्मण प्रत्याशी में लोकतंत्र की सबसे ऊंची सदन का चौखट चुमा है। सर्वाधिक 3 लाख ब्राह्मण मतदाता है जो कुल मतदाताओं के 15 प्रतिशत के आसपास है। इसके बाद डेढ़ लाख गुर्जर मतदाता लोकसभा क्षेत्र में है, यही वजह है कि बीते चुनाव में कांग्रेस ने भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र से वर्तमान मंत्री व यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चांदना को प्रत्याशी बनाया था, लेकिन मोदी लहर के चलते जातिगत वोट कांग्रेस को नहीं मिला और उन्हें भाजपा प्रत्याशी सुभाष चंद्र विद्या ने करीब डेढ़ लाख मतों से हराया था। हिंडोली से विधायक चांदना को एससी एसटी मतदाता जो कि कांग्रेस का परंपरागत वोट बैंक है उस से भी समर्थन की उम्मीद थी मगर वह भी पूरा नहीं मिल पाया भीलवाड़ा लोकसभा क्षेत्र में उन्हें हार जेलनी पड़ी।

सरकार जाने से जिले को नुकसान 
यूपी सरकार के दौरान भीलवाड़ा से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉक्टर सीपी जोशी के समय भीलवाड़ा को दो इस्पात के कारखाने व रेलवे मेमू कोच फैक्ट्री मिले। इन तीनों बड़े प्रोजेक्ट का शिलान्यास भी हुआ। मगर सरकार बदलती तीनों बड़े प्रोजेक्ट अटक गए। भीलवाड़ा में मेगा हाईवे पर मांडल चौराहे से रास बाबरा रोड का काम अटक गया भीलवाड़ा मंडपिया बाईपास भी ठंडे बस्ते में है।

वर्तमान सासंद की उपलब्धियां
2014 में सुभाष बहेडीया दूसरी बार भीलवाड़ा से सांसद बने। इससे पहले बहेड़ीया ने 1998 में भी भीलवाड़ा लोकसभा सीट से चुनाव जीता था।
चुनाव में जनता से कोई बड़े वादे तो नहीं की। उज्ज्वला योजना में 3 लाख लोगों को मिले गैस कनेक्शन दिलवाए। भीलवाड़ा रेलवे स्टेशन पर एक करोड़ की लागत से नई एंट्री गेट व स्टेशन प्लेटफॉर्म का निर्माण हुआ। भीलवाड़ा में बने मेडिकल कॉलेज में केंद्र सरकार का 50% पैसा लगवाया। करीब 187 करोड की लागत का मेडिकल कॉलेज इसी सत्र में शुरू हुआ है।

भीलवाड़ा को कपड़ा व्यापारियों के लिए मुंबई स्पेशल ट्रेन मिली। तीर्थ यात्रियों के लिए अजमेर-रामेश्वरम व उदयपुर-हरिद्वार जेसी स्पेशल ट्रेन चलाई। रेलवे लाइन के विद्युतीकरण के साथ साथ देश में प्रधानमंत्री आवास योजना में जिले को पहला स्थान भी मिला।
नवीन जोशी-भीलवाड़ा


 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in

सपना ने थामा कांग्रेस का हाथ, ड्रीम गर्ल को देंगी टक्कर !

16 साल बाद चुनावी राजनीति में दिग्गी की एंट्री, भोपाल से लड़ेंगे चुनाव
बीजेपी की शत्रु से दोस्ती खत्म! पटना साहिब से कटा शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट
राहुल गांधी 2 सीटों से लड़ सकते हैं चुनाव
देखिये BJP की पांचवीं लिस्ट
क्रिकेट खेलते समय बॉल लगी तो घर में घुसकर की मारपीट
बीजेपी सरकार से हर वर्ग दुखी है : राहुल गाँधी
बिहार में NDA की सीटों का ऐलान