जयपुर से हिल स्टेशन्स की पूअर एयर कनेक्टिविटी, जानिए क्या है कारण और विकल्प   

FirstIndia Correspondent Published Date 2019/04/13 07:12

जयपुर। ग्रीष्मकालीन अवकाश में जयपुर शहर से बड़ी संख्या में लोग हिल स्टेशन्स का रुख करते हैं, लेकिन जयपुर से यात्रा करने के लिए उनके पास केवल ट्रेन या टैक्सी से जाने का ही विकल्प है। अगर फ्लाइट से जाना चाहें तो दिल्ली में फ्लाइट बदलनी होगी। कौंनसे ऐसे शहर हैं जो अभी भी हैं अछूते, आखिर क्यों एयरलाइन्स शुरू नहीं कर रहीं फ्लाइट्स, ऐसे में क्या हैं आपकी यात्रा के लिए विकल्प, देखिए ये खास रिपोर्ट-

जयपुर एयरपोर्ट से देश के 24 घरेलू शहरों के लिए फ्लाइट्स संचालित हो रही हैं। एयर कनेक्टिविटी लगातार बढ़ती जा रही है, लेकिन अभी भी कुछ शहर ऐसे हैं, जिनके लिए जयपुर एयरपोर्ट से सीधी फ्लाइट नहीं है। दरअसल गर्मी की छुट्टियों में जयपुर से अलग-अलग शहरों के लिए भ्रमण पर जाने वाले लोगों की संख्या बढ़ जाती है। अवकाश के दौरान पेरेंट्स बच्चों के साथ भ्रमण पर जाते हैं। गर्मियों के चलते अधिकांश की पसंद जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और नॉर्थ ईस्ट के शहर ही होते हैं। समय की कमी के चलते अधिकांश लोग आजकल ट्रेन या बाय रोड जाने के बजाय फ्लाइट से जाने को प्राथमिकता देते हैं, लेकिन इन राज्यों के अधिकांश शहरों के लिए जयपुर से सीधी फ्लाइट नहीं है। जम्मू-कश्मीर के किसी भी शहर के लिए जयपुर एयरपोर्ट से सीधी फ्लाइट नहीं है। इसी तरह हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के लिए केवल एक-एक फ्लाइट उपलब्ध है। वहीं नॉर्थ ईस्ट में गुवाहाटी के अलावा किसी भी अन्य शहर के लिए सीधी एयर कनेक्टिविटी नहीं है।

यहां के लिए फ्लाइट शुरू हो तो बचेगा किराया और समय:

जयपुर से जम्मू
—दिल्ली में फ्लाइट बदलनी पड़ती है, किराया 5 से 7 हजार, समय 3 से 6 घंटे
—8 महीने पहले इंडिगो की सीधी फ्लाइट बंद हुई
—सीधी फ्लाइट शुरू हो तो किराया 4 से 5 हजार, समय 1 घंटे 25 मिनट

जयपुर से श्रीनगर
—दिल्ली में फ्लाइट बदलनी होती है, किराया 6 से 10 हजार रुपए
—फ्लाइट बदलने के कारण समय लगता है 5 से 8 घंटे
—सीधी फ्लाइट शुरू हो तो किराया 4 से 7 हजार, समय लगेगा डेढ घंटे

जयपुर से लेह (लद्दाख)
—सीधी फ्लाइट नहीं, किराया लगता है 10 से 12 हजार, समय 5 से 8 घंटे
—फ्लाइट शुरू हो तो समय लगेगा डेढ घंटे, किराया 5 से 8 हजार

जयपुर से शिमला, कुल्लू (भुंतर एयरपोर्ट)
—सीधी फ्लाइट नहीं, किराया लगता 15 हजार तक, समय 3 से 5 घंटे
—सीधी फ्लाइट हो तो किराया 3 से 5 हजार, समय 1 घंटे 20 मिनट

जयपुर से चंडीगढ़
—शिमला, मनाली जाने के लिए अच्छा विकल्प, लेकिन एकमात्र फ्लाइट अनियमित
—जेट एयरवेज की फ्लाइट जाती है चंडीगढ़, लेकिन इन दिनों चल रही रद्द
—फ्लाइट अनियमित होने से किराया लग रहा 6 हजार रुपए तक, समय भी 3 से 5 घंटे
—जबकि सीधी फ्लाइट में किराया लगता 3 से 4 हजार, समय 1 घंटे 10 मिनट

उत्तर भारत के हिल स्टेशन्स के लिए तो सीधी एयर कनेक्टिविटी का अभाव है ही, साथ ही नॉर्थ ईस्ट के शहरों के लिए भी एयर कनेक्टिविटी की कमी है। नॉर्थ ईस्ट में केवल गुवाहाटी के लिए एक फ्लाइट स्पाइसजेट की संचालित होती है। गुवाहाटी के अलावा बागडोगरा (सिलीगुडी), आईजवाल, अगरतला, इम्फाल या दीमापुर आदि शहरों के लिए कोई भी फ्लाइट उपलब्ध नहीं है। एवरग्रीन टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स में शुमार गोवा और तिरुवनंतपुरम के लिए भी कोई सीधी फ्लाइट नहीं होने से यात्रियों को असुविधा होती है। गोवा या तिरुवनंतपुरम जाने के लिए मुम्बई में फ्लाइट बदलनी पड़ रही है।

क्या हैं विकल्प:

—हवाई यात्रा से जाना हो तो जयपुर से उत्तर भारत के 3 शहरों के लिए फ्लाइट उपलब्ध
—अमृतसर, धर्मशाला और देहरादून के लिए चल रहीं जयपुर से फ्लाइट
—इन शहरों से नजदीकी पर्यटन स्थलों तक जाना संभव
—या फिर ट्रेनों के जरिए चंडीगढ़ और जम्मू तक जाना संभव

गर्मियों की छुट्टियों में प्रदेशवासी उदयपुर शहर भ्रमण को भी प्राथमिकता देते हैं, लेकिन वर्तमान में उदयपुर के लिए भी फ्लाइट्स की कमी चल रही है। उदयपुर के लिए फिलहाल एयर इंडिया की केवल 1 फ्लाइट उपलब्ध है, जो रोजाना नहीं चलती, बल्कि सप्ताह में केवल 3 दिन ही संचालित होती है। दरअसल एयरलाइंस की कमजोर आर्थिक स्थिति के कारण भी नए पर्यटन शहरों के लिए फ्लाइट्स शुरू नहीं हो पा रही हैं। जेट एयरवेज की आर्थिक हालत खराब है, वहीं इंडिगो भी पायलटों की कमी से जूझ रही है। उम्मीद की जानी चाहिए कि टूरिस्ट डेस्टिनेशन्स के लिए यात्रियों की बढ़ती मांग को देखकर एयरलाइंस इन शहरों के लिए फ्लाइट शुरू करें, जिससे भ्रमणकारियों को सुविधा मिल सके।

... संवाददाता काशीराम चौधरी की रिपोर्ट 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in