आठवीं बार फिर से चुनाव लड़ने के लिए तैयार हुए पोपटलाल

FirstIndia Correspondent Published Date 2018/11/02 01:36

समदड़ी(बाड़मेर)। सरगरा जाति से ताल्लुक रखने वाले पोपटलाल को नेता बनने का इस कदर शोक लगा कि पुश्तैनी जमीन को दाव पर लगा दी । सरपंच चुनाव लोकसभा चुनाव हो या फिर विधानसभा जहां पर भी चुनावी राजनीति की बात होती है वहां पोपटलाल का नाम आना जरूरी बन जाता है । क्योंकि पोपटलाल ने अपनी पुरानी पुश्तैनी जमीन को बेच कर करीब 7 चुनाव लड़े लेकिन अभी तक एक बार भी विजय नहीं हुए फिर भी उनके मन में नेता बनने की खुवाईश मन से नहीं जा रही है घर पर रहने के लिए कच्चा झोपा बना हुआ है बड़ी मुश्किल से 2 जून की रोटी का जुगाड़ होता है । ऐसे में पोपटलाल बताते हैं कि चुनाव से पहले घर घर जाकर कपड़े की फेरी बेचने का काम करते हैं उसमें से रोज के सो रुपए बचा कर रखते हैं और जब भी 5 साल के बाद चुनाव आते हैं तो उन पैसों से अपना चुनावी प्रचार करना शुरू कर देते हैं । 

चुनावी प्रचार में आमतौर पर हम देखते हैं कि हर नेता के साथ में करीब 4 से 5 लोगों की भीड़ नजर आती है बड़ी बड़ी गाड़ियों में नेता जी नीचे उतरकर लोगों के बीच जाकर रूबरू होते हैं लेकिन इसके विपरीत पोपटलाल हमेशा ही बस में सफर करते हैं और हर कस्बे ढाणी में जाकर पैदल खुद ही चुनावी प्रचार करते हुए इन दिनों नजर आ रहे हैं ऐसे में पोपटलाल को अब लगने लगा है कि कांग्रेस और भाजपा से कभी ना कभी तो जनता उबेगी और पोपटलाल के समर्थन में मतदान करेगी । 

पोपटलाल ने वर्ष 2000 से शुरू किया राजनीतिक सफर
पोपट लाल का चुनावी सफर वर्ष 2000 से शुरू हुआ था तब उन्होंने सिवाना विधानसभा के महिलावास कस्बे से तीन बार सरपंच का चुनाव लड़ा लेकिन तीनों बार उनके हाथ निराशा ही लगी फिर दो बार बाड़मेर जैसलमेर लोकसभा सीट से हरीश चौधरी एवं मानवेंद्र सिंह दिग्गज नेताओं के सामने चुनाव लड़ा उसमें भी उन्हें हताशा ही हाथ लगी लेकिन फिर भी पोपटलाल के मन से नेता बनने की मनसा नहीं हटी वर्ष 2008 में सिवाना विधानसभा से भाजपा के दिग्गज नेता कानसिंह कोटडी भाजपा प्रत्याशी एवं वर्ष 2013 में वर्तमान विधायक हमीर सिंह भायल की दावेदारी के बीच निर्दलीय चुनाव लड़ा और इस बार फिर से विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी में लगे हुए । 

पैदल जाकर लोगों से मांगते है समर्थन
स्थानीय ग्रामीण बताते हैं कि पोपटलाल पिछले 18 सालों से चुनाव के अंदर अपनी किस्मत आजमा रहे हर साल चुनाव के समय पोपट लाल जी प्रत्येक दुकान प्रत्येक घर पर पैदल पहुंचकर अपने समर्थन में मतदान के लिए लोगों से अपील करते हैं इस बार पोपटलाल के साथ सेल्फी खिंचवाने का युवाओं में दिखा जोश जब पोपटलाल समदड़ी के मुख्य बाजार में चुनावी प्रचार के लिए पहुंचे तो उनकी हिम्मत की दाद देते हुए लोगों ने माला पहनाकर उनके साथ सेल्फी ली । स्थानीय लोगों को मानना है कि निरंतर संघर्ष करने वाले व्यक्ति को एक बार मौका जरूर देना चाहिए । इस बार पोपटलाल विजय होंगे या नहीं यह तो आने वाला विधानसभा चुनाव के नतीजे ही बताएंगे लेकिन कहीं ना कहीं पोपटलाल के मन में इस बार आशा की किरण नजर आ रही है । त्रिकोना मुकाबला होने के कारण इस बार निर्दलीय उम्मीदवार के आसार अधिक बन रहे है । 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in