भारत में अगले दो-तीन साल में 2.5 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी पावर ग्लोबल, रेट्रोफिट वाहनों को बनाएगी बैटरियों के इस्तेमाल के अनुकूल

भारत में अगले दो-तीन साल में 2.5 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी पावर ग्लोबल, रेट्रोफिट वाहनों को बनाएगी बैटरियों के इस्तेमाल के अनुकूल

भारत में अगले दो-तीन साल में 2.5 करोड़ डॉलर का निवेश करेगी पावर ग्लोबल,  रेट्रोफिट वाहनों को बनाएगी बैटरियों के इस्तेमाल के अनुकूल

नई दिल्ली: अमेरिका की स्वच्छ ऊर्जा तथा मोबिलिटी स्टार्टअप पावर ग्लोबल की योजना अगले दो से तीन साल के दौरान भारत में लिथियम आयन बैटरी विनिर्माण इकाई तथा बैटरी अदला-बदली ढांचा लगाने के लिए 2.5 करोड़ डॉलर या 185 करोड़ रुपये का निवेश करने की योजना है. कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी. 

कंपनी उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में एक गीगावॉट घंटे की क्षमता का बैटरी संयंत्र लगा रही है. इसके अलावा कंपनी का लक्ष्य भारत में आठ लाख परंपरागत तिपहिया को रेट्रोफिट कर उन्हें इलेक्ट्रिक संस्करण में बदलने की योजना है. कंपनी ने रेट्रोफिट वाहनों को अपनी बैटरियों के इस्तेमाल के अनुकूल बनाएगी. पावर ग्लोबल के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) पंकज दुबे ने  से कहा कि हम ग्रेटर नोएडा में बैटरी कारखाना लगा रहे हैं. यह एक गीगावॉट घंटे की क्षमता का कारखाना होगा. इससे इस कारखाने में सालाना आधार पर चार लाख बैटरियां बनाई जा सकेंगी. 

यह पूछे जाने पर कि इस कारखाने से उत्पादन कब शुरू होगा, उन्होंने कहा कि अगले कैलेंडर साल की तीसरी तिमाही तक हम व्यापक उत्पादन की उम्मीद कर रहे हैं. पावर ग्लोबल ग्रेटर नोएडा कारखाने में रेट्रोफिटिंग किट भी बनाएगी. सोर्स-भाषा

और पढ़ें