Live News »

मैया, भैया, सैंया या फिर कांग्रेस की नैया, किसे बचाएगी प्रियंका - जावड़ेकर

मैया, भैया, सैंया या फिर कांग्रेस की नैया, किसे बचाएगी प्रियंका - जावड़ेकर

उदयपुर। मेवाड़ संभाग में विधानसभा चुनावों में शानदार प्रर्दशन करने वाली भाजपा लोकसभा चुनावो में कार्यकर्ताओं के हौसलों को और मजबूत करने में जुटी हैं। इसी कडी में आज उदयपुर में मेवाड़ की चार लोकसभा सीट के शक्ति केन्द्र संयोजकों का सम्मेलन आयोजित किया गया। इस सम्मेलन को केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के प्रदेश प्रभारी प्रकाश जावड़ेकर ने संबोधिक किया। इस दौरान जावड़ेकर ने मोदी सरकार के पांच साल के कार्यकाल में किये गये स्वर्णिम कार्यो का जिक्र किया और सरकार की जनहित कारी योजनाओं से लोगों को हुये फायदे गिनाये। 

जावड़ेकर नें भाजपा पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि वे जोरदार ढंग से जनता के बीच जाये और मोदी सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियों को गिनाये। केन्द्रीय मंत्री नें इस दौरान ना केवल काग्रेंस की नव नियुक्त महासचिव प्रियंका गांधी पर चुटकी ली बल्कि मोदी के खिलाफ बने महागठबंधन पर भी जमकर निशाना साधा। 

जावडेकर ने कहां कि काग्रेंस में शामिल हुई गांधी परिवार की सदस्य पहले अपनी मैया को बचायेगी या भैया को, सैया को बचाएगी या काग्रेंसी की डूबती नैया को। जावड़ेकर यही नही रुके उन्होने महागठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि विपक्षी लोग जितना कीचड उछालेगें, कमल उतनी ही ताकत से खिलेगा। इस दौरान जावड़ेकर नें सम्मेलन में आये लोगों से भाजपा सरकार की योजनाओं से आम जनता को हुये फायदें को लेकर भी फीड बैक लिया। सम्मेलन को नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया नें भी संबोधित किया।

...रवि शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज उदयपुर

और पढ़ें

Most Related Stories

VIDEO: हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही - राजेंद्र राठौड़

जयपुर: राजस्थान में तेजी से बदल रहे सियासी राजनैतिक घटनाक्रम पर उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि कुनबा बिखर गया आखिर आलाकमान को बीच में दखल देनी पड़ी. यह नाकामयाबी ही मानी जाएगी. वहीं राठौड़ ने वसुंधरा राजे पर बोलते हुए कहा कि गठबंधन धर्म की पालना करनी चाहिए. अनर्गल आरोप लगाना कदापि उचित नहीं है. जिन किसी ने भी उन पर आरोप लगाए हमने उनको समझाया. वसुंधरा राजे हमारी पूर्व मुख्यमंत्री है प्रदेश की नेता हैं और नेता रहेंगी.  

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

तरकस में एक भी तीर नहीं रखेंगे सभी तीर छोड़े जाएंगे: 
अविश्वास प्रस्ताव और विश्वास प्रस्ताव जैसी बात पर बोलते हुए राठौड़ ने कहा कि सरकार को बेनकाब करने के लिए कोशिश करेंगे. तरकस में एक भी तीर नहीं रखेंगे सभी तीर छोड़े जाएंगे. भारतीय जनता पार्टी मजबूत प्रतिपक्ष है इसलिए हमारे सामने कोई चुनौती नहीं है. 13 तारीख की विधायक दल की बैठक के बाद हमारी रणनीति फाइनल होगी. 

हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही: 
वहीं गहलोत सरकार पर तंज कसते हुए राठौड़ ने कहा कि हिली हुई डगमगाई सरकार अपने कदमों को साधने की कोशिश कर रही है. लेकिन भूचाल आया है वह अपने निशान छोड़ कर चला गया. उन्होंने कहा कि सत्र निश्चित तौर पर हंगामेदार और शानदार रहेगा. सरकार के नाकामी, टिड्डी का आक्रमण, कोरोना का कहर, सूखे की संभावना व जर्जर कानून व्यवस्था के मुद्दों पर विपक्ष का आक्रमण होगा. हम सदन से सड़क दक कुशासन से लड़ेंगे. 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट  

बाहर से बुर्ज की मरम्मत हो जाए तो यह नहीं माने की किला सुरक्षित: 
राठौड़ ने कहा कि टेलीफोन टेप हुए पुलिस की एजेंसी विधायकों को ढूंढती रही लेकिन पपला गुर्जर को पुलिस ढूंढती तो अच्छा होता. वहीं पांच साल सरकार चलने के सवाल पर उन्होंने कहा कि किला अगर ढह जाता है और बाहर से बुर्ज की मरम्मत हो जाए तो यह नहीं माने की किला सुरक्षित है. ऐसे में यह तो समय की रफ्तार और समय की धार बताएगी. 

VIDEO- मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात के बाद बोले विधायक ओम प्रकाश हुड़ला, कहा...

जयपुर: राजस्थान में तेजी से सियासी घटनाक्रम में बदलाव हो रहे हैं. इसी बीच तीन निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुड़ला, सुरेश टांक व खुशबीर सिंह ने मुख्यमंत्री आवास पर पहुंचे कर सीएम गहलोत से मुलाकात की. इस मुलाकात के बाद फर्स्ट इंडिया से बात करते हुए निर्दलीय विधायक ओम प्रकाश हुड़ला ने कहा कि कुछ समय पहले हमारे खिलाफ SOG में एक मुकदमा दर्ज हुआ था सरकार ने वो वापस ले लिया. 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट  

उन्होंने कहा कि उस मुकदमे को लेकर सरकार और हमारे बीच एक आपसी तनाव पैदा हुआ था. हमे खुशी है इस बात की कि सरकार ने वह मुकदमा वापस ले लिया. आज हमने जो भी गिले-शिकवे थे वो सौहार्दपूर्ण वातावरण में मुख्यमंत्री से मुलाकात कर दूर किए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य एक ही है कि हमारे क्षेत्र की जनता का विकास कैसे हो. सुनिए और क्या कुछ कहा...

 

VIDEO: राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए, मैंने कोई मांग आलाकमान के सामने नहीं रखी- सचिन पायलट

जयपुर: आखिर एक महीने की सियासी जंग के बाद पायलट की फिर घर वापसी हो गई. इसके बाद आज सचिन पायलट काफी लंबे वक्त बाद मीडिया से रूबरू हुए. इस दौरान उन्होंने कहा कि राजनीति में भाषा मर्यादित होनी चाहिए. हमने जनता से जुड़े मुद्दों को उठाया है हर नेता और हर समाज को साथ लेकर काम किया है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैंने आलाकमान के सामने कोई मांग नहीं रखी. मैंने आलाकमान के ऊपर सारा फैसला छोड़ दिया है. हाईकमान ने हमारी बातों को गंभीरता से सुना है. समस्याओं के निराकरण के लिए 3 सदस्यीय कमेटी बनाई है.

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था:  
पायलट ने कहा कि जिसका सरकार बनाने में योगदान हो उसे सम्मान मिलना चाहिए. मैंने गहलोत जी के साथ मिलकर संघर्ष किया है. इसके साथ ही उन्होंने ने कहा कि झूठ फैलाने वालों को सच्चाई का सामना करना पड़ेगा. सचिन पायलट ने कहा कि कार्यकर्ताओं के मान-सम्मान को लेकर इश्यू था. मुझे सौभाग्य मिला कि 6 साल तक कांग्रेस का प्रदेशाध्यक्ष रहा. जब हमारी सरकार नहीं थी तब हमने 5 साल तक लगातार मेहनत की. धरने, भूख हड़ताल कर हमने जनहित से जुड़े मुद्दे उठाए. 2018 में कड़ी मेहनत के कारण 21 से बढ़कर 100 तक सीटें पहुंची है. लेकिन डेढ़ साल में उस गति से काम नहीं कर पाए. 

VIDEO: बीजेपी ने विधायक दल की बैठक टाली, अब 13 अगस्त को सुबह 11बजे होगी बैठक 

जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया:
उन्होंने कहा कि हमने सबको साथ लेकर काम किया है. कठिन परिस्थितियों में किसानों और युवाओं को साथ में लेकर मेहनत की. समयबद्ध तरीके से सभी इश्यू का निराकरण किया जाएगा. मैंने कभी भी किसी के लिए अमार्यादित भाषा का इस्तेमाल नहीं किया. अशोक गहलोत जी मेरे से उम्र में बड़े है लेकिन जिस तरह टीका टिपण्णी हुई उससे मुझे भी दुख हुआ है. जिस तरह के आरोप लगाए है वो सच आपके सामने है. पायलट ने कहा कि सत्ता और संगठन को मिलकर काम करना चाहिए. मुझे दुख है कि देशद्रोह का नोटिस भेजा गया, ACB, SOG की कार्रवाई नहीं होनी चाहिए थी. लेकिन पार्टी आलाकमान ने हमारी बातों को सुना है. जब-जब पार्टी ने मुझे दायित्व दिया है मैंने निष्ठा के साथ निभाया है. दूसरे दल क्या करते है क्या नहीं वो जाने. मैंने पार्टी विचारधारा और पार्टी के खिलाफ कोई बात नहीं बोली. 


 

VIDEO: बीजेपी ने विधायक दल की बैठक टाली, अब 13 अगस्त को सुबह 11बजे होगी बैठक

जयपुर: राजस्थान में आज भाजपा विधायक दल की बैठक होनी थी लेकिन अब वह बैठक टाल दी गई है. नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने फर्स्ट इंडिया न्यूज से बातचीत में बताया कि हमने विधायक दल की बैठक बुलाई थी लेकिन हमारे कुछ विधायक गुजरात में होने के चलते आज नहीं आ पाएंगे. इसके बाद कल जन्माष्टमी है. इसलिए सभी ने सुझाव दिया की मीटिंग जन्माष्टमी के बाद की जाए. 

बीजेपी ने पूरा जोर लगा लिया लेकिन एक आदमी टूट कर नहीं गया- मुख्यमंत्री गहलोत 

विधायक दल की बैठक के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा:
उन्होंने कहा कि विधायक दल की बैठक के बाद अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा. बैठक वी. सतीश की मौजूदगी में होगी, वहीं अन्य केंद्रीय नेताओं के भी आने का कार्यक्रम है. हमारी पार्टी में फूट नहीं है लोगों ने ऐसा करने का प्रयास किया. हनुमान बेनीवाल से भी कल हमारी बात हुई, पूर्व मुख्यमंत्री से मेरी बात हुई है वो भी भाजपा की बैठक में मौजूद रहेगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि केंद्र की वजह से बिना मन गहलोत को पायलट से मिलना पड़ेगा. 
 

VIDEO: गहलोत-पायलट समझौते का बसपा "इफेक्ट"!

जयपुर: सचिन पायलट की करीब एक महीने की बगावत के बाद कांग्रेस में घर वापसी तय हो गई है. ऐसे में अब देखने वाली बात यह होगी कि गहलोत-पायलट समझौते का बसपा-कांग्रेस विलय प्रकरण पर क्या असर होगा. आज सुप्रीम कोर्ट में इससे जुड़े सभी मुद्दों पर जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस कृष्ण मुरारी की बैंच सुनवाई करेगी. 

VIDEO: सीएम गहलोत से मुलाकात के बाद बोले पायलट खेमे के विधायक भंवरलाल शर्मा, मेरा पार्टी से कोई गिला-शिकवा नहीं 

मौजूदा हालात में TRUST VOTE जीतने पर इसका कोई असर नहीं होगा:
ऐसे में यदि सुप्रीम कोर्ट बसपा विधायकों की "वोटिंग राइट्स" पर रोक लगा देता है तो फिर इसका असर गहलोत के TRUST VOTE के परिणाम पर क्या होगा? इस बारे में गहलोत कैम्प से जुड़े सूत्रों ने संकेत देते हुए कहा कि मौजूदा हालात में TRUST VOTE जीतने पर इसका कोई असर नहीं होगा, और फिर रही-सही कसर बागी विधायकों की कांग्रेस वापसी से पूरी हो जाएगी. तेजी से बदलते इस घटनाक्रम से गहलोत कैम्प में जबरदस्त खुशी का माहौल है. 

गहलोत-पायलट संघर्ष प्रकरण समाप्त! दो माह पुराने आंतरिक संघर्ष का हुआ पटाक्षेप

विधानसभा सत्र से पहले ही कांग्रेस ने अपने घर को समेट लिया:  
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को सचिन पायलट और उनके साथी विधायकों से मुलाकात की, सभी की बातें सुनी गईं. जिसके बाद मंगलवार को सभी विधायक जयपुर जा सकते हैं. यानी 14 अगस्त से शुरू होने वाले विधानसभा सत्र से पहले ही कांग्रेस ने अपने घर को समेट लिया है. वहीं राहुल-प्रियंका से मुलाकात के बाद सचिन पायलट ने मीडिया से बात की, उन्होंने कहा कि पार्टी पद देती है तो ले भी सकती है. हम आत्मसम्मान की लड़ाई लड़ रहे थे.


 

गहलोत-पायलट संघर्ष प्रकरण समाप्त! दो माह पुराने आंतरिक संघर्ष का हुआ पटाक्षेप

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान के बीच बड़ा अपडेट सामने आया है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक गहलोत-पायलट दो माह पुराने आंतरिक संघर्ष का पटाक्षेप हुआ हैं. अब गहलोत-पायलट टकराव एक बीते युग की बात होगी. आज देर रात तक पायलट की बाकायदा घर वापसी हो जाएगी. पायलट के साथ ही बर्खास्त मंत्री एवं 16 समर्थक विधायक लौटेंगे और अब फिर से राज्य में कांग्रेस की एकता कायम हो जाएगी, लेकिन राजनैतिक प्रेक्षकों के सामने अब एक ही सवाल ? क्या दोनों पक्षों के बीच ये समझौता होगा स्थाई युद्ध विराम ? या फिर कभी पायलट कैम्प "लाइन ऑफ कंट्रोल" पार कर जाएगा ? आखिर कैसे इतनी कटुता भुलाकर दोनों नेताओं का पुनर्मिलन होगा ? और इस पुनर्मिलन की रुपरेखा और व्यवहारिकता पर अभी कुछ प्रश्नचिन्ह लगे हैं. अलबत्ता मध्यस्थ भंवर जितेन्द्र अपनी पूरी कोशिशें कर रहे हैं. आज रात अहमद पटेल-पायलट की मुलाकात के बाद थोड़ा और खुलासा होगा. 

राहुल-पायलट मीटिंग से भाजपा खेमे में निराशा ! ऐनवक्त पर पायलट के यू टर्न लेने से निराशा

तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की कही गई बात: 
इससे पहले सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सोमवार दोपहर सचिन पायलट की राहुल गांधी-प्रियंका गांधी और केसी वेणुगोपाल से मुलाकात हुई थी.इस दौरान चारों के बीच करीब दो घंटे तक चर्चा हुई. मुलाकात के बाद राहुल और प्रियंका सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे. उसके बाद अब राहुल-सोनिया और प्रियंका के बीच मुलाकात हुई. मिली जानकारी के अनुसार इस दौरान तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की बात कही गई है. ऐसे में तीनों सदस्य पूरे मामले पर विचार विमर्श करने के बाद ही विधायकों की वापसी पर फैसला लेंगे. फिलहाल सचिन पायलट की बातों को नहीं माना गया है. शायद यह मीटिंग बहुत कामयाब नहीं रही. आलाकमान पायलट की मूल मांग मानने के मूड में नहीं है. आलाकमान ने राजस्थान में नेतृत्व परिवर्तन से साफ इनकार किया है. ऐसे में अब आखिर कैसे होगी पायलट और बागियों की सम्मानजनक घर वापसी? फिलहाल किसी को कुछ भी समझ नहीं आ रहा है. शायद आज रात तक कुछ स्थिति स्पष्ट हो जाए. 

एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही:  
बता दें कि 14 अगस्त से ही राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू होने जा रहा है, इस पर सचिन पायलट गुट ने सत्र में शामिल होने के संकेत दे दिए थे. ऐसे में अब प्रियंका और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही है कि सचिन पायलट अपनी नाराजगी भूलकर पार्टी में वापस आएंगे. पहले भी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सचिन पायलट से कई बार फोन पर बात की थी और उन्होंने मसला सुलझाने का प्रयास किया था. 

गहलोत गुट के विधायकों ने की थी एक्शन की मांग:
इससे पहले सोमवार को ही ये बात सामने आई थी कि राजस्थान में गहलोत गुट के विधायकों ने मांग की है कि बागी विधायकों पर एक्शन होना चाहिए, जिसपर सीएम गहलोत ने फैसला आलाकमान पर छोड़ने की बात कही थी. साथ ही कहा था कि इस बारे में सबको आलाकमान का फैसला मानना चाहिए. 

पायलट खेमे के विधायक भंवरलाल शर्मा ने की सीएम गहलोत से मुलाकात, वापसी की रिकवेस्ट लेकर पहुंचे सीएमआर

राहुल-पायलट मीटिंग से भाजपा खेमे में निराशा ! ऐनवक्त पर पायलट के यू टर्न लेने से निराशा

जयपुर: राजस्थान सियासी संकट के बीच राहुल गांधी और सचिन पायलट की मुलाकात के बाद बीजेपी खेमे में निराशा हैं. ये निराशा ऐनवक्त पर पायलट के यूटर्न लेने से हुई है. अपनी NATURAL ALLY भाजपा से बिना किसी विचार-विमर्श या पूर्व सूचना के गांधी परिवार के साथ मीटिंग करने से निराशा है. हालांकि FACE VALUE पर भाजपा ने इसे हमेशा कांग्रेस में दो गुटों का आपसी झगड़ा माना.

तीन माह पुरानी दोस्ती एक तरह से टूटने के कगार पर:
लेकिन फिर भी कहीं न कहीं पिछले कुछ महीनों से भाजपा व पायलट एक दूसरे के काफी करीब आ गए थे. अब ये तीन माह पुरानी दोस्ती एक तरह से टूटने के कगार पर है, हालांकि इस बारे में इस स्टेज पर कुछ कहना थोड़ी जल्दबाजी होगी. फिर भी भाजपा और पायलट के रिश्तों में एक दरार आ चुकी है. अब भाजपा का शीर्ष नेतृत्व कैसे लेगा इस सारे घटनाक्रम को? इस बारे में अलग-अलग लोगों के अलग-अलग अनुमान है.

सचिन पायलट की राहुल-प्रियंका और वेणुगोपाल से मुलाकात:
इससे पहले राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान के बीच बड़ा अपडेट सामने आया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सचिन पायलट की राहुल गांधी-प्रियंका गांधी और केसी वेणुगोपाल से मुलाकात हुई है. इस दौरान चारों के बीच करीब दो घंटे तक चर्चा हुई. मुलाकात के बाद राहुल और प्रियंका सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे. उसके बाद अब राहुल-सोनिया और प्रियंका के बीच मुलाकात जारी है. 

बसपा विधायकों को विधानसभा परिसर में प्रवेश नहीं देने को लेकर जनहित याचिका, एडवोकेट हेमंत नाहटा ने दायर की जनहित याचिका

तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की कही गई बात: 
मिली जानकारी के अनुसार इस दौरान तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की बात कही गई है. ऐसे में तीनों सदस्य पूरे मामले पर विचार विमर्श करने के बाद ही विधायकों की वापसी पर फैसला लेंगे. फिलहाल सचिन पायलट की बातों को नहीं माना गया है. शायद यह मीटिंग बहुत कामयाब नहीं रही. आलाकमान पायलट की मूल मांग मानने के मूड में नहीं है. आलाकमान ने राजस्थान में नेतृत्व परिवर्तन से साफ इनकार किया है. ऐसे में अब आखिर कैसे होगी पायलट और बागियों की सम्मानजनक घर वापसी? फिलहाल किसी को कुछ भी समझ नहीं आ रहा है. शायद आज रात तक कुछ स्थिति स्पष्ट हो जाए. 

एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही:  
बता दें कि 14 अगस्त से ही राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू होने जा रहा है, इस पर सचिन पायलट गुट ने सत्र में शामिल होने के संकेत दे दिए थे. ऐसे में अब प्रियंका और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही है कि सचिन पायलट अपनी नाराजगी भूलकर पार्टी में वापस आएंगे. पहले भी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सचिन पायलट से कई बार फोन पर बात की थी और उन्होंने मसला सुलझाने का प्रयास किया था. 

गहलोत गुट के विधायकों ने की थी एक्शन की मांग:
इससे पहले सोमवार को ही ये बात सामने आई थी कि राजस्थान में गहलोत गुट के विधायकों ने मांग की है कि बागी विधायकों पर एक्शन होना चाहिए, जिसपर सीएम गहलोत ने फैसला आलाकमान पर छोड़ने की बात कही थी. साथ ही कहा था कि इस बारे में सबको आलाकमान का फैसला मानना चाहिए. 

राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा-लोकल को वोकल और ग्लोबल बनाना होगा
 

राहुल-पायलट मुलाकात प्रकरण पर बड़ा अपडेट! जानकार सूत्रों ने दिए संकेत

राहुल-पायलट मुलाकात प्रकरण पर बड़ा अपडेट! जानकार सूत्रों ने दिए संकेत

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घमासान के बीच बड़ा अपडेट सामने आया है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सचिन पायलट की राहुल गांधी-प्रियंका गांधी और केसी वेणुगोपाल से मुलाकात हुई है. इस दौरान चारों के बीच करीब दो घंटे तक चर्चा हुई. मुलाकात के बाद राहुल और प्रियंका सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे. उसके बाद अब राहुल-सोनिया और प्रियंका के बीच मुलाकात जारी है. 

Rajasthan Political Crisis: अब बसपा के नहीं कांग्रेस के सभी 6 विधायक! हाईकोर्ट में कांग्रेस ने पेश किया प्रार्थना पत्र 

तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की कही गई बात: 
मिली जानकारी के अनुसार इस दौरान तीन सदस्यीय कमेटी बनाने की बात कही गई है. ऐसे में तीनों सदस्य पूरे मामले पर विचार विमर्श करने के बाद ही विधायकों की वापसी पर फैसला लेंगे. फिलहाल सचिन पायलट की बातों को नहीं माना गया है. शायद यह मीटिंग बहुत कामयाब नहीं रही. आलाकमान पायलट की मूल मांग मानने के मूड में नहीं है. आलाकमान ने राजस्थान में नेतृत्व परिवर्तन से साफ इनकार किया है. ऐसे में अब आखिर कैसे होगी पायलट और बागियों की सम्मानजनक घर वापसी? फिलहाल किसी को कुछ भी समझ नहीं आ रहा है. शायद आज रात तक कुछ स्थिति स्पष्ट हो जाए. 

एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही:  
बता दें कि 14 अगस्त से ही राजस्थान में विधानसभा का सत्र शुरू होने जा रहा है, इस पर सचिन पायलट गुट ने सत्र में शामिल होने के संकेत दे दिए थे. ऐसे में अब प्रियंका और राहुल गांधी से मुलाकात के बाद एक बार फिर उम्मीद जताई जा रही है कि सचिन पायलट अपनी नाराजगी भूलकर पार्टी में वापस आएंगे. पहले भी प्रियंका गांधी वाड्रा ने सचिन पायलट से कई बार फोन पर बात की थी और उन्होंने मसला सुलझाने का प्रयास किया था. 

Rajasthan Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट में अब कल होगी सुनवाई, भाजपा और बसपा विधायकों की ट्रांसफर याचिकाओं पर एक साथ होगी सुनवाई 

गहलोत गुट के विधायकों ने की थी एक्शन की मांग:
इससे पहले सोमवार को ही ये बात सामने आई थी कि राजस्थान में गहलोत गुट के विधायकों ने मांग की है कि बागी विधायकों पर एक्शन होना चाहिए, जिसपर सीएम गहलोत ने फैसला आलाकमान पर छोड़ने की बात कही थी. साथ ही कहा था कि इस बारे में सबको आलाकमान का फैसला मानना चाहिए. 

Open Covid-19