मंत्री परिषद की बैठक के बाद बोले खाचरियावास, कहा- कोविड-19 गाइड लाइन की पालना करे जनता, नहीं तो उठाने होंगे सख्त कदम

मंत्री परिषद की बैठक के बाद बोले खाचरियावास, कहा- कोविड-19 गाइड लाइन की पालना करे जनता, नहीं तो उठाने होंगे सख्त कदम

जयपुरः मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में बुधवार को हुई मंत्री परिषद की बैठक के बाद परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चिंतित है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर तेजी से फैल रही है इसे देखते हुए उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे सरकार की ओर से जारी कोविड-19 गाइड लाइन की पालना करे. वहीं खाचरियावास ने लोगों को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर लोग नहीं मानेंगे तो सरकार और सख्ती बरतेगी. हालांकि इस दौरान खाचरियावास ने प्रदेश में लॉकडाउन लगाने के सवालों के बारे में कहा कि इसका फैसला मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लेंगे. उल्लेखनीय है कि  मंत्री परिषद की बैठक से पहले प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के लिए कई गहलोत सरकार द्वारा कई अहम फैसले होने की संभावना जताई जा रही थी, जिसमें शादियों पर रोक, लॉकडाउन और कोरोना गाइ़लाइन की सख्ती से पालना सहित अन्य मुद्दे शामिल हैं.

लॉकडाउन पर मुख्यमंत्री गहलोत ही लेंगे अंतिम फैसलाः 
जानकारी के अनुसार  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता बुधवार को करीब दो घंटे से ज्यादा चली मंत्री परिषद की बैठक के बाद परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चिंतित है. उन्होंने बताया कि बैठक में सभी मंत्रियों ने कोरोना गाइडलाइन को लेकर अधिक सख्ती करने के सुझाव दिए. हालांकि बैठक में सरकार के क्या फैसले हुए इसके बारे में उन्होंने कुछ नहीं बताया लेकिन ये जरूर साफ किया कि 'लॉकडाउन पर मुख्यमंत्री गहलोत ही अंतिम फैसला लेंगे.

कोरोना की चैन तोड़ने के लिए घरों में रहना जरूरीः
इस दौरान  परिवहन मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास ने कहा कि इस समय प्रदेश में कोरोना की जबरदस्त लहर चल रही है इसे देखते हुए हर आदमी को कम से कम 7 दिन के लिए अपने घरों में क्वॉरंटीन हो जाना चाहिए. उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अगर आपके घर में शादी समारोह के कार्यक्रम है तो उसे स्थगित कर दें. उन्होंने कहा कि लोग बेवजह गाड़ी, कार लेकर बाहर न निकलें, बाजारों में जाने से बचें, यह कोरोना की चैन तोड़ने के लिए जरूरी है. 

और पढ़ें