Live News »

VIDEO: कोरोना वायरस को लेकर धर्मगुरुओं की प्रेसवार्ता, कहा- घर से ही करें ईश्वर की प्रार्थना

जयपुर: कुछ दिनों के लिए पूजा अर्चना घरों में रहकर करें. अगर समाज सुरक्षित रहेगा तो ही धर्म सुरक्षित रहेगा. ये कहना है सभी धर्मगुरूओं का जो कि पिंकसिटी प्रेसक्लब में आयोजित प्रेसवार्ता में बोल रहे थे. कोरोना वायरस देश में महामारी का रूप ले चुका है. इसी को देखते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वेहद गंभीर नजर आ रहे हैं. उन्होने कल सभी धर्मगुरूओं को बुलाकर बैठक की और धर्मगुरूओं से अपील की वो समाज में जाकर सभी लोगों से अपील करें कि प्रदेश के सभी धार्मिक स्थलों पर ज्यादा भीड़भाड़ ना रखें. 

कोरोना वायरस के चलते कैला माता का लक्खी मेला 31 मार्च तक स्थगित 

सभी धर्मों के गुरू आज पिंकसिटी प्रेसक्लब में इकठ्टा हुए: 
उसी को देखते हुए आज सभी धर्मों के गुरू आज पिंकसिटी प्रेसक्लब में इकठ्टा हुए. इनमें मोतीडूगरी मंहत कैलाश शर्मा,फादर विजयपाल, महामंगलेश्वर पुरूषोतम भारती, गोविंददेवजी मंदिर पठाधीश मानस गोस्वामी, वफ्फ बोर्ड अध्यक्ष खानू खान सहित जामा मस्जिद के सदर नईम कुरैशी सहित सरकार के प्रतिनिध के तौर पर रोहित सिंह भी मौजूद रहें. प्रेसवार्ता में बोलते हुए मंहत कैलाश शर्मा ने कहा कि कुछ दिनों के लिए सभी लोग अपने घरों में रहकर ही पूजा अर्चना करें. अगर समाज सुरक्षित रहेगा तो ही धर्म सुरक्षित रहेगा. इसी के साथ मंहत कैलाश शर्मा ने शहर में जागरूकता के लिए 2500 बैनर लगवाने की बात कही. 

पुष्कर में कोरोना की दहशत, विश्व के इकलौते ब्रह्मा मंदिर में भी नहीं है भक्तों की भीड़ 

और पढ़ें

Most Related Stories

आईसीएमआर का दावा- ज्यादा समय तक वायु प्रदूषण का सामना करने से बढ़ सकते हैं कोविड-19 से मौत के मामले 

आईसीएमआर का दावा- ज्यादा समय तक वायु प्रदूषण का सामना करने से बढ़ सकते हैं कोविड-19 से मौत के मामले 

नयी दिल्ली: यूरोप और अमेरिका में शोध से पता चला है कि अधिक समय तक वायु प्रदूषण का सामना करने से कोविड-19 के कारण मौत के मामले बढ़ सकते हैं. यह जानकारी मंगलवार को आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने दी. उन्होंने कहा कि अध्ययन में पता चला है कि वायरस के कण पीएम 2.5 पार्टिकुलेट मैटर के साथ हवा में रहते हैं लेकिन वे सक्रिय वायरस नहीं हैं.

{related} 

दिल्ली सहित उत्तर भारत में वायु गुणवत्ता हो जाती है काफी खराबः
बलराम भार्गव ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यूरोप और अमेरिका में प्रदूषित क्षेत्रों और लॉकडाउन के दौरान मृत्यु दर की तुलना की गई और प्रदूषण के साथ उनका संबंध देखा तो पाया कि कोविड-19 से होने वाली मृत्यु में प्रदूषण का स्पष्ट योगदान है और इन अध्ययनों से यह अच्छी तरह साबित होता है. दिल्ली सहित उत्तर भारत में हर वर्ष सर्दी के मौसम में वायु गुणवत्ता काफी खराब स्तर तक गिर जाती है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से कोविड-19 महामारी की स्थिति और खराब हो सकती है. भार्गव ने कहा कि यह साबित तथ्य है कि प्रदूषण का संबंध मौत से है और कहा कि कोविड-19 और प्रदूषण से बचाव का सबसे सस्ता तरीका मास्क पहनना है. उन्होंने कहा कि ज्यादा प्रदूषण वाले शहरों में महामारी नहीं होने के बावजूद लोग मास्क पहनते हैं.

भार्गव ने कहा-मास्क पहनने का दोहरा फायदा, यह कोविड-19 के साथ ही प्रदूषण से भी बचाता हैः
आईसीएमआर प्रमुख ने कहा कि कोविड-19 दिशानिर्देशों में चाहे मास्क पहनना हो, सामाजिक दूरी का पालन करना हो, सांस लेने का तरीका हो और हाथ की साफ
-सफाई करनी हो, हमें उसमें ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता. मास्क पहनने का दोहरा फायदा है क्योंकि यह कोविड-19 के साथ ही प्रदूषण से भी बचाता है. भारत में बच्चों में कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में उन्होंने कहा कि देश का संपूर्ण आंकड़ा दर्शाता है कि कोविड-19 के कुल संक्रमित मामलों में से केवल आठ फीसदी ही 17 वर्ष से कम उम्र के हैं.

कोवासाकी बीमारी का कोई मामला अभी तक नहीं आया सामनेः
बलराम भार्गव ने कहा कि पांच वर्ष से कम उम्र में संभवत: एक फीसदी से कम हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह के साक्ष्य हैं कि बच्चे ज्यादा संक्रमण फैलाने वालों (सुपर स्प्रेडर) के बजाय संक्रमण फैलाने वाले (स्प्रेडर) हो सकते हैं. एक सवाल के जवाब में भार्गव ने कहा कि भारत में अभी तक एक भी मामला सामने नहीं आया है जिसमें कोविड-19 रोगियों में कोवासाकी बीमारी हो. कावासाकी स्वत: प्रतिरोधक बीमारी है जो पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है.
सोर्स भाषा

साहा और वार्नर की पारियों के बाद राशिद की कसी हुई गेंदबाजी की बदौलत सनराइजर्स ने दिल्ली को 88 रनों से हराया

साहा और वार्नर की पारियों के बाद राशिद की कसी हुई गेंदबाजी की बदौलत सनराइजर्स ने दिल्ली को 88 रनों से हराया

दुबई:  रिधिमान साहा के और कप्तान डेविड वार्नर के आक्रामक परियों और फिर राशिद खान की शानदार गेंदबाजी की बदौलत सनराइजर्स हैदराबाद ने इंडियन प्रीमियर लीग में मंगलवार को खेले गए मैच में दिल्ली कैपिटल्स को 88 रनों से हराया. हैदराबाद से मिले 220 रनों के पहाड़ जैसे लक्ष्य का पिछा करते हुए  दिल्ली 131 रह ही बना सकी. इससे पहले रिधिमान साहा के 45 गेंद में 87 रन और कप्तान डेविड वार्नर के आक्रामक अर्धशतक की मदद से सनराइजर्स हैदराबाद ने दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ दो विकेट पर 219 रन बनाये थे. 

वार्नर ने 25 गेंदों में पूरा किया अर्धशतकः 
अपना जन्मदिन मना रहे वार्नर और साहा ने दिल्ली के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की. उन्होंने पहले छह ओवर में 77 रन निकाले जिसमें 11 चौके और दो छक्के शामिल थे. वार्नर ने छठे ओवर में परपल कैपधारी (टूर्नामेंट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले) कैगिसो रबाडा को चार चौके और एक छक्का लगाया.  वार्नर के क्रीज पर रहने तक साहा उनके सहयोगी की भूमिका में थे. वार्नर ने 25 गेंद में अर्धशतक पूरा करके अपना 34वां जन्मदिन मनाया. उन्होंने अपनी पारी में दो छक्के और आठ चौके लगाये. 

साहा ने बल्ले से उगली आगः
रविचंद्रन अश्विन ने 107 रन की पहले विकेट की साझेदारी को तोड़ा जब वार्नर एक्स्ट्रा कवर में अक्षर पटेल को कैच देकर लौटे. वार्नर के जाने के बाद साहा ने बल्ले से आतिश उगलना शुरू किया. उन्होंने मैदान के चारों ओर शॉट लगाये और चौके के साथ अपना अर्धशतक पूरा किया. उन्होंने अपनी पारी में 12 चौके और दो छक्के जड़े. एनरिच नोर्जे ने 15वें ओवर में उन्हें पवेलियन भेजा. उसके बाद मैदान पर आए मनीष पांडे ने भी शानदार बल्लेबाजी करते हुए नाबाद 44 रन बनाए.
सोर्स भाषा

हरियाणाः भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूर्ण, कांग्रेस पर बरसे सीएम मनोहरलाल खट्टर 

हरियाणाः भाजपा-जजपा गठबंधन सरकार का एक वर्ष पूर्ण, कांग्रेस पर बरसे सीएम मनोहरलाल खट्टर 

चंडीगढ़: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कृषि कानूनों की आलोचना करने को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि जब भी सरकार कोई बड़ा फैसला करती है तो विपक्षी पार्टी हंगामा करती है. भाजपा-जजपा की गठबंधन सरकार के एक साल पूरा होने के मौके पर खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि सत्तारूढ़ गठबंधन राज्य को विकास के उच्च पथ पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है.

{related} 

कांग्रेस किसानों को कर रही गुमराहः
हिसार में एक राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने भ्रष्टाचार मुक्त, पारदर्शी और राज्य के लोगों के प्रति जवाबदेह सरकार दी है. खट्टर ने हिसार में पत्रकारों से कहा कि अगले चार वर्षों में सरकार राज्य को विकास के उच्च पथ पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है. खट्टर ने यह भी कहा कि कांग्रेस किसानों को यह कहकर गुमराह कर रही है कि नए कानूनों से वे बर्बाद हो जाएंगे, मंडियां और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली खत्म हो जाएगी और ये अधिनियम बड़े कारोबारी घरानों को उनका शोषण करने में मदद करेंगे. खट्टर ने चौटाला के पड़दादा और पूर्व उप प्रधानमंत्री का हवाला देते हुए कहा कि चौधरी देवीलाल कहा करते थे कि कभी-कभी किसानों को समझाना मुश्किल है, जबकि उन्हें गुमराह करना आसान है.  मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस लगातार झूठ फैला रही है और जब भी सरकार कोई बड़ा फैसला करती है तो उस पर पार्टी की हंगामा करने की आदत है, चाहे संविधान के अनुच्छेद 370 का मुद्दा हो या अयोध्या में राम मंदिर का.

चौटाला ने कहा-अगले चार वर्षों में हमारी सरकार हरियाणा को विकास के उच्च पथ पर ले जाएगीः
चौटाला ने अपने संबोधन में कहा कि एक साल पहले, विपक्ष कहता था कि इस सरकार के तीन महीने पूरे नहीं होंगे, फिर वे कहते थे कि यह छह महीने बाद गिर जाएगी, लेकिन अब हमने एक साल पूरा कर लिया है. उन्होंने कहा कि अगले चार वर्षों में, हमारी सरकार हरियाणा को विकास के उच्च पथ पर ले जाएगी.

एक साल के दौरान 10,000 नौकरियां दीः
वहीं खट्टर ने कहा कि हम पांच साल में एक लाख नौकरियां देंगे. पिछले एक साल के दौरान, हम पहले ही 10,000 नौकरियां दे चुके हैं. उन्होंने कहा कि सरकार हरियाणा के युवाओं के लिए निजी उद्योग में 75 प्रतिशत नौकरियों को आरक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है. मुख्यमंत्री ने कहा बरोदा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी इंदुराज नारवाल के लिए सिर्फ पिता-पुत्र (पूर्व मुख्यमंत्री दीपेंद्र सिंह हुड्डा और उनके सांसद पुत्र दीपेंदर सिंह हुड्डा) ही प्रचार कर रहे हैं. इस सीट पर तीन नवंबर को उपचुनाव होना है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का कोई अन्य नेता वहां जाने को तैयार नहीं है. खट्टर ने कहा कि विपक्षी पार्टी को पता है कि उनके उम्मीदवार के साथ वही होगा जो जनवरी 2019 में जींद उपचुनाव में पार्टी प्रत्याशी के साथ हुआ था.

खट्टर ने कहा-जब भी हमारी सरकार बड़ा फैसला करती है तो वें हंगामा करते हैंः
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस ने जींद में बड़े नेता (रणदीप सिंह सुरजेवाला) को उतारा था, लेकिन उन्हें अपमानजनक हार का सामना करना पड़ा. वह सिर्फ जींद में ही नहीं हारे, बल्कि 2019 के विधानसभा चुनाव में कैथल की अपनी सीट भी हार गए थे और अब वह बिहार में प्रचार कर रहे हैं. खट्टर ने कहा कि जब भी हमारी सरकार बड़ा फैसला करती है तो वे हंगामा करते हैं. उन्होंने कहा कि जब अनुच्छेद 370 को निरस्त किया गया तब कांग्रेस ने हंगामा किया और दावा किया कि इससे कश्मीर घाटी में रक्तपात होगा. मुख्यमंत्री ने पूछा कि क्या कश्मीर में एक साल में कुछ हुआ है? खट्टर ने कहा कि कांग्रेस ने राम मंदिर मुद्दे पर हंगामा किया और कहा कि इससे देश में दंगे हो जाएंगे. संशोधित नागरिकता कानून पर भी कांग्रेस ने हंगामा किया.

कांग्रेस पर तंज-कहा-1962 के बाद कांग्रेस चीन के खिलाफ आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पाईः
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब कांग्रेस नीत संप्रग सत्ता में था तो उसमें इस डर से पाकिस्तान के खिलाफ उसके दुस्साहसों के लिए कार्रवाई करने की हिम्मत नहीं हुई, क्योंकि वह परमाणु हथियारों से लैस राष्ट्र है. मगर मोदी सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमले करके उन्हें एक सबक सिखाया है. उन्होंने कहा कि 1962 के बाद कांग्रेस चीन के खिलाफ आवाज़ उठाने की हिम्मत नहीं जुटा पाई लेकिन आज चीन विश्व में अपने आप को अलग-थलग पा रहा है और पूरी दुनिया हमारा समर्थन कर रही है. खट्टर ने कहा कि कोविड-19 की चुनौतीपूर्ण स्थिति के बावजूद हरियाणा अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर स्थिति में है.

खट्टर ने की दशहरे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाने की निंदाः
खट्टर ने हरियाणा में कुछ किसान नेताओं द्वारा दशहरे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाने की निंदा की और पूछा कि क्या राम भक्त प्रधानमंत्री की राक्षस राजा रावण से समानता करनी चाहिए ? खट्टर ने जजपा नेता और चौटाला के साथ मिलकर हिसार हवाई अड्डे के रनवे के विस्तार के लिए भूमि पूजा की. रनवे को 1200 मीटर से बढ़ाकर 3000 मीटर किया जाएगा जिसपर 165 करोड़ रुपये का खर्च आएगा. इसके अलावा उन्होंने 1688 करोड़ रुपये की 306 परियोजनाओं की नींव रखी या उद्धाटन किया.
सोर्स भाषा
 

पाकिस्तान क्रिकेट टीम अगले साल करेगी दक्षिण अफ्रीका का दौरा

पाकिस्तान क्रिकेट टीम अगले साल करेगी दक्षिण अफ्रीका का दौरा

कराची: पाकिस्तान की क्रिकेट टीम अगले साल अप्रैल में सीमित ओवरों की शृंखला के लिए दक्षिण अफ्रीका का दौरा करेगी जिसमें तीन मैचों की एकदिवसीय शृंखला भी शामिल है. पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने मंगलवार को यह जानकारी दी. 

{related} 

कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित किया था अफ्रीका का दौरा
एकदिवसीय शृंखला आईसीसी पुरुष विश्व कप सुपर लीग का हिस्सा है. सुपर लीग भारत में 2023 में खेले जाने वाले विश्व कप का क्वालीफाईंग मुकाबला है. पाकिस्तान का यह दौरा इस साल सितंबर-अक्टूबर में होना था लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण उसे स्थगित कर दिया गया था. पाकिस्तान की टीम इस दौरे में तीन मैचों की टी-20 शृंखला भी खेलेगी.

तीन वनडे और तीन टी20 मैच खेलेंगीः
पीसीबी से जारी बयान में कहा गया कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड पुरुष राष्ट्रीय टीम के अप्रैल 2021 में तीन एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए दक्षिण अफ्रीका का दौरा करने की पुष्टि करता है. यह शृंखला आईसीसी पुरुष क्रिकेट विश्व कप सुपर लीग का हिस्सा होगी. इसके साथ ही इतने ही मैचों की कई टी20 अंतरराष्ट्रीय शृंखला भी खेली जाएगी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान अब दो टेस्ट और तीन टी20 अंतरराष्ट्रीय के लिए जिम्बाब्वे जाने से पहले अपने भविष्य दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) की प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए सहमत हो गया है. दोनों शृंखलाओं के कार्यक्रम की घोषणा बाद में की जाएगी. पाकिस्तान की टीम 30 अक्टूबर से तीन एकदिवसीय और इतने ही मैचों की टी20 शृंखला के लिए जिम्बाब्वे की मेजबानी करेगी.
सोर्स भाषा

भारत के पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान मिली आलोचनाओं को लेकर मिशेल स्टार्क ने कही ये बात

भारत के पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे के दौरान मिली आलोचनाओं को लेकर मिशेल स्टार्क ने कही ये बात

मेलबर्न: तेज गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने कहा कि भारत ने पिछली बार जब ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था तब वह आलोचनाओं से प्रभावित हो गये थे लेकिन अब इसकी परवाह नहीं करते. स्टार्क अभी भारत के खिलाफ आगामी शृंखला की तैयारियों में लगे हैं. भारत के पिछले दौरे में उन्हें आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था. उन्होंने तब चार टेस्ट मैचों में केवल 13 विकेट लिये थे.

भारत अगले महीने ऑस्ट्रेलिया का करेगा दौराः
क्रिकेट.कॉम.एयू के अनुसार स्टार्क ने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगता है कि मैं आलोचनाओं से प्रभावित हो गया था और यही बड़ा कारण है कि अब मैं ऐसी किसी चीज पर ध्यान नहीं देता. ऑस्ट्रेलिया 2018-19 में भारत से 1-2 से शृंखला हार गया था. यह पहला अवसर था जबकि भारत ने ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर टेस्ट शृंखला जीती थी. उन्होंने कहा कि उन गर्मियों के आखिर में मैं केवल दौड़ने और अधिक से अधिक तेजी से गेंद करने की कोशिश कर रहा था. केवल एक चीज पर मैंने ध्यान केंद्रित किया और आखिरी टेस्ट मैच में इसका मुझे फायदा मिला था. भारत अगले महीने तीन टी20, इतने ही वनडे और चार टेस्ट मैचों की शृंखला के लिये ऑस्ट्रेलिया का दौरा करेगा.

{related} 

स्टार्क ने कहा-अब लोग क्या कहते हैं मैं इसकी खास परवाह नहीं करताः
स्टार्क ने कहा कि मैं आलोचनाओं से प्रभावित हो गया और ये आलोचना वे लोग कर रहे थे जो टीम का हिस्सा नहीं थे लेकिन अब लोग क्या कहते हैं मैं इसकी खास परवाह नहीं करता. उन्होंने कहा कि मुझे उस तरह की बकवास सुनने की जरूरत नहीं है. मैं इन चीजों को नहीं पढ़ता और मैं अब एक खुश इंसान हूं. जब तक मेरे साथ ऐसे लोग हैं जो मुझ पर भरोसा रखते हैं और सकारात्मक माहौल बना रहता है तो फिर बाकी चीजें मायने नहीं रखती.
सोर्स भाषा

फ्रांस में शिक्षक का सिर कलम किये जाने की घटना के बाद सरकार उठा रही है ये कदम

फ्रांस में शिक्षक का सिर कलम किये जाने की घटना के बाद सरकार उठा रही है ये कदम

पेरिस: फ्रांस में अपने विद्यार्थियों को पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाने वाले एक शिक्षक का सिर कलम किये जाने के बाद उत्पन्न भू-राजनीतिक तनाव के बीच गृहमंत्री ने मंगलवार को कहा कि देश पर आतंकवादी खतरे को ‘बहुत अधिक’ जोखिम है. ऐसे में सरकार धार्मिक स्थलों का सुरक्षा बढ़ाने में जुट गयी है.

{related} 

शिक्षक का सिर कलम करने की घटना के बाद राष्ट्रपति इस्लामवाद के खिलाफ सख्त रूखः
फ्रांसीसी राजनयिक तुर्की और अरब देशों में गुस्से को दूर करने का प्रयत्न कर रहे हैं. फ्रांस में 16 अक्टूबर को शिक्षक का सिर कलम कर दिये जाने की घटना के बाद राष्ट्रपति एमैनुअल मैंक्रो द्वारा इस्लामवाद के खिलाफ सख्त रूख अपनाये जाने के बाद तुर्की और अरब देशों में फ्रांस-विरोधी प्रदर्शन हो रहे हैं और फ्रांसीसी चीजों का बहिष्कार करने का आह्वान किया जा रहा है. वैसे तो यूरोपीय सहयोगियों ने मैक्रों का समर्थन किया है लेकिन मुस्लिम बहुल देश पैगंबर के कार्टून पर उनके रूख से नाराज हो गये हैं. ये देश इसे इस्लाम का अपमान मानते हैं. फ्रांस की राष्ट्रीय पुलिस ने विशेषकर ईसाइयों एवं उदारवादी फ्रांसीसी मुसलमानों के खिलाफ कट्टरपंथियों की ऑनलाइन धमकियों का संज्ञान लेते हुए आगामी सप्ताहांत का होने वाले ऑल सेंट अवकाश के मद्देनजर धार्मिक स्थलों की सुरक्षा बढ़ाने का आह्वान किया है.  

गृह मंत्री ने कहा-आतंकवादी खतरे का जोखिम बहुत अधिकः
गृह मंत्री गेराल्ड डार्मानिन ने फ्रांस-इंटर रेडियो पर कहा कि आतंकवादी खतरे का ‘जोखिम बहुत अधिक है क्योंकि देश के अंदर और बाहर हमारे बहुत सारे दुश्मन हैं. उन्होंने उन मुस्लिम संगठनों को छिन्न-भिन्न करने की कोशिश की योजना दोहरायी जो खतरनाक कट्टरपंथी सोच के प्रचारकर्ता या बहुत ज्यादा विदेशी वित्तपोषण प्राप्त करने वाले के रूप में देखे जाते हैं.
सोर्स भाषा

आंतरिक संकट से जूझ रही सीएसए ने की घरेलू क्रिकेट सत्र की घोषणा, पाकिस्तान दौरा कर सकती है अफ्रीकी टीम

आंतरिक संकट से जूझ रही सीएसए ने की घरेलू क्रिकेट सत्र की घोषणा, पाकिस्तान दौरा कर सकती है अफ्रीकी टीम

जोहानिसबर्ग: आंतरिक संकट के बावजूद क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका ने मंगलवार को प्रभावी घरेलू कार्यक्रम की घोषणा की जिसमें ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और श्रीलंका टीमों के दौरे शामिल है जबकि दक्षिण अफ्रीकी टीम एक दशक से अधिक समय में पहली बार पाकिस्तान का दौरा कर सकती है. इसके अलावा संकटों से घिरे क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका ने अगले महीने इंग्लैंड दौरे की अनुमति ले ली है. इससे एक दिन पहले सीएसए के दस सदस्यीय निदेशक मंडल ने इस्तीफा दे दिया जिससे प्रशासन अंतरिम व्यवस्था पर चल रहा है. आगामी सत्र नवंबर 2020 से अप्रैल 2021 तक होगा और सारे मैच दर्शकों के बिना खेले जायेंगे. इंग्लैंड के खिलाफ श्रृंखला को पिछले सप्ताह ही मंजूरी मिली.

{related} 

दर्शकों के बिना खेले जायेंगे मैचः 
सीएसए के कार्यवाहक सीईओ ने एक बयान में कहा कि हमने काफी लंबी बातचीत और गहन चिंतनन मनन के बाद यह फैसला लिया है. सारे मैच दर्शकों के बिना खेले जायेंगे लेकिन उनके लिये इतना मनोरंजन होगा कि उन्हें लगेगा कि वे मैच का हिस्सा हैं. घरेलू सत्र इंग्लैंड के खिलाफ 27 नवंबर से नौ दिसंबर तक तीन टी20 और तीन वनडे मैचों से शुरू होगा. इसके बाद 26 दिसंबर से सात जनवरी के बीच श्रीलंका के खिलाफ दो टेस्ट खेले जायेंगे. इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम फरवरी मार्च में तीन टेस्ट खेलने आयेगी .

दक्षिण अफ्रीकी टीम की पाकिस्तान दौरा करने की संभावनाः
इससे पहले पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने एक बयान में पुष्टि की कि पुरुष टीम अप्रैल 2021 में तीन वनडे और तीन टी20 खेलने दक्षिण अफ्रीका जायेगी. दक्षिण अफ्रीकी टीम भी जनवरी के आस-पास पाकिस्तान दौरा करने की संभावना तलाश रही है. पिछले एक दशक से अधिक समय में दक्षिण अफ्रीका ने पाकिस्तान का दौरा नहीं किया है.
सोर्स भाषा

Local Body Election 2020: मालवीय नगर में 5 के खिलाफ मुकदमे !  भाजपा के 1, कांग्रेस के 2 प्रत्याशियों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज

जयपुर: जयपुर ग्रेटर नगर निगम के चुनाव 1 नवंबर को हो जाएंगे. अब चुनाव प्रचार में भी महज 3 दिन बाकी रहे हैं. ऐसे में चुनाव प्रचार जोर-शोर से किया जा रहा है. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र के 26 वार्डों से कुल 98 प्रत्याशी चुनाव में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. बड़ी बात यह है कि इनमें 35 प्रतिशत प्रत्याशी महिलाए हैं. वहीं 5 ऐसे लोग भी चुनावी मैदान में हैं, जिनके खिलाफ पुलिस में मामले दर्ज हैं. देखिए मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र का पूरा विश्लेषण करती यह रिपोर्ट...

ग्रेटर नगर निगम में चुनाव प्रचार जोरों पर:
जयपुर ग्रेटर नगर निगम में चुनाव प्रचार जोरों पर है और प्रत्याशी अपने-अपने वादों के जरिए आमजन को लुभाने में जुटे हुए हैं. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र को लेकर बात की जाए तो इस क्षेत्र में कुल 26 वार्ड शामिल हैं. वार्ड संख्या 125 से 150 तक कुल 26 वार्डों में इस बार 98 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं. प्रत्याशियों ने नगर निगम चुनाव के लिए जिला प्रशासन को जो नामांकन दाखिल किए हैं, उनमें अपनी आय-व्यय की सम्पत्तियों, आपराधिक मामले और अन्य प्रमुख सावर्जनिक बिन्दुओं को लेकर जानकारी दी गई है. बड़ी बात यह है कि इस बार आपराधिक प्रष्ठभूमि से जुड़े लोग पार्षद चुनाव की दौड़ में कम ही हैं. कुल 98 प्रत्याशियों में से महज 5 लोगों के खिलाफ ही आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इनमें भी केवल एक प्रत्याशी को छोड़कर अन्य के खिलाफ सामान्य धाराओं में मामले दर्ज हैं.किसी भी प्रत्याशी को सजा नहीं हुई है. ऐसे में यह माना जा रहा है कि मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में उम्मीदवारों का एक बड़ा वर्ग साफ सुथरी प्रष्ठभूमि का है. यानी कुल उम्मीदवारों में से महज 5 प्रतिशत के खिलाफ ही आपराधिक मामले दर्ज हैं. इनमें से 2 निर्दलीय प्रत्याशी हैं. जबकि राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों की बात की जाए तो 2 प्रत्याशी सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस और 1 प्रत्याशी भाजपा उम्मीदवार है.

इन लोगों के खिलाफ चल रहे आपराधिक मामले:
1- वार्ड 126 से कांग्रेस प्रत्याशी हितेश अडवानी के खिलाफ 1 मामला लंबित
- वर्ष 2005 में कोतवाली थाने की FIR पर राजस्थान पब्लिक गेम्बलिंग ऑर्डिनेंस के तहत आरोप पत्र दाखिल
- वर्ष 2003 में गांधीनगर थाने की FIR में 1000 रुपए जुर्माना लगाया गया
2- वार्ड 133 से निर्दलीय प्रत्याशी रवि गौतम के खिलाफ 1 मामला लंबित
- वर्ष 2006 में रामगंज पुलिस थाने में आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ, एसीएमएम जयपुर कोर्ट में सुनवाई जारी
3- वार्ड 135 से निर्दलीय प्रत्याशी महेश सैन के खिलाफ वर्ष 2017 में बजाज नगर थाने में मामला दर्ज हुआ
- धारा 143, 283 के तहत दर्ज किया गया मुकदमा
4- वार्ड 144 से कांग्रेस प्रत्याशी महेन्द्र पाल सिंह के खिलाफ वर्ष 2008 में ज्योति नगर थाने में मामला दर्ज हुआ
- धारा 323, 341, 427 के तहत दर्ज मामला न्यायालय में लंबित
5- वार्ड 144 से भाजपा प्रत्याशी केसरलाल कोली के खिलाफ वर्ष 2019 में महेश नगर थाने में मामला दर्ज
- धारा 323, 341, 34 में दर्ज मामले में आरोप दाखिल नहीं किए गए

बड़ी बात यह है कि इस बार जयपुर नगर निगम के चुनाव में महिला प्रत्याशियों की संख्या भी अच्छी खासी है. मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र के कुल पार्षद उम्मीदवारों में से 35 प्रतिशत महिला प्रत्याशी हैं, जबकि 65 प्रतिशत पुरुष प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं. जो वार्ड महिला प्रत्याशियों के लिए रिजर्व रखे गए हैं, उनसे तो महिला प्रत्याशी लड़ ही रही हैं, इसके अलावा कई अन्य वार्डों से भी पुरुष प्रत्याशियों के बराबर महिला प्रत्याशी चुनाव लड़ रही हैं. हालांकि एक भी महिला प्रत्याशी ऐसी नहीं है, जिसके खिलाफ कोई आपराधिक मामला दर्ज हो.

कुछ ऐसी है मालवीय नगर में स्थिति:
वार्ड 125 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 126 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 127 से 6 महिला प्रत्याशी, वार्ड 128 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 129 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 130 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 131 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 132 से 4 महिला प्रत्याशी, वार्ड 133 से 1 महिला, 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 134 से 4 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 135 में 1 महिला 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 136 से 2 महिला प्रत्याशी, वार्ड 137 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 138 से 4 महिला प्रत्याशी, वार्ड 139 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 140 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 141 से 3 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 142 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 143 से 2 महिला प्रत्याशी, वार्ड 144 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 145 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 146 से 5 महिला प्रत्याशी, वार्ड 147 से 2 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 148 से 5 पुरुष प्रत्याशी, वार्ड 149 से 3 महिला प्रत्याशी, वार्ड 150 से 3 पुरुष 1 महिला प्रत्याशी

{related}

कुलमिलाकर मालवीय नगर विधानसभा क्षेत्र में इस बार वोट डालने वालों के पास अधिक विकल्प नहीं हैं. प्रत्येक वार्ड में औसतन 4 प्रत्याशी भी नहीं हैं. ऐसे में चुनिंदा प्रत्याशियों में से ही आमजन को अपने लिए बेहतर उम्मीदवार का चयन करना होगा. वोटिंग 1 नवंबर को होगी और इसे बाद ही चुने हुए सही उम्मीदवारों का फैसला हो सकेगा.

...काशीराम चौधरी, फर्स्ट इंडिया न्यूज, जयपुर