वर्कऑर्डर के बाद भी शुरू नहीं हुआ प्रोजेक्ट, फिर आंदोलन की तैयारी में जुटे लोग 

Dr. Rituraj Sharma Published Date 2019/02/03 08:51

जयपुर (नरेश शर्मा)। लंबे आंदोलन व धरने प्रदर्शन के बाद जयपुर के खो नागोरियान क्षेत्र की जनता को बीसलपुर पानी सप्लाई करने के लिए करोड़ो रूपये का आदेश तो हो गया, लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के कारण कार्य आदेश जारी होने के चार महीने बाद भी प्रोजेक्ट का काम शुरू नहीं हो पाया। इस क्षेत्र के लोग एक बार फिर आंदोलन करने की तैयारी में जुटे हैं।

विधानसभा चुनाव से पहले खो नागोरियान क्षेत्र के लोगों ने जब आक्रामक आन्दोलन किया तो तब सरकार ने उनकी मांग तुरंत मानते हुए कॉलोनियों को सरकारी पेयजल सप्लाई से जोड़ने के लिए 57.18 करोड़ का वर्कऑर्डर जारी करवा दिया। अब इसे जलदाय विभाग की प्रोजेक्ट विंग द्वारा जनता को गुमराह करना ही माना जाएगा, क्योंकि कार्य आदेश जारी होने के बावजूद फील्ड में चार महीने बाद भी काम शुरू नहीं हो पाया है। जबकि प्रोजेक्ट को 24 महीने में पूरा करना है।

हैदराबाद की भूरत्नम कंस्ट्रक्शन कंपनी को 27 सितंबर 2017 को यह काम दिया गया था, लेकिन जलदाय विभाग की प्रोजेक्ट विंग के इंजीनियर्स की लापरवाही के कारण कंपनी ने अभी तक केवल मशीनरी मंगवाई है और सामान डालना शुरू किया है। प्रोजेक्ट के तहत 4 टंकी व 5 पंप हाउस बनने है। साथ ही कई किलोमीटर की पाइपलाइन भी बिछाई जानी है। प्रोजेक्ट पूरा होने पर 150 कॉलोनियों में रहने वाले एक लाख से ज्यादा लोगों को फायदा मिलेगा। चीफ इंजीनियर आईडी खान, अधीक्षण अभियंता (प्रोजेक्ट) दिनेश गोयल व एक्सईएन (प्रोजेक्ट) सतीश जैन के कंधों पर यह जिम्मेदारी थी, लेकिन ये अब तक फैल रहे है। जैन तो इस प्रोजेक्ट को करीब चार साल से देख रहे हैं, लेकिन धीमी गति होने के बावजूद सरकार ने उनको नहीं बदला।

खास बात यह भी है कि इस प्रोजेक्ट की मांग के कारण स्थानीय लोग चार साल पहले पूरे किए जा चुके 8.15 करोड़ के प्रोजेक्ट से भी पेयजल सप्लाई शुरू नहीं होने दे रहे हैं। खोनागोरियान क्षेत्र में 200 से ज्यादा कॉलोनियां हैं। कॉलोनियों में प्राइवेट ट्यूबवेल व सरकारी टैंकरों से पेयजल सप्लाई होती है। लोगों की मांग के बाद खोनागोरियान क्षेत्र के लिए प्रोजेक्ट पर काम शुरू करवाया गया, लेकिन इस प्रोजेक्ट के तहत केवल जेडीए से अप्रूव्ड 42 कॉलोनियों के घरों में कनेक्शन दिए जाएंगे। आधे क्षेत्र में पेयजल सप्लाई के लिए सिस्टम जनवरी 2015 में तैयार हो गया था, लेकिन शेष क्षेत्र के लोग पहले वंचित क्षेत्र में भी पाइपलाइन डालने की मांग कर बीसलपुर योजना से पानी शुरू नहीं करने दे रहे हैं।

खो नागोरियान प्रोजक्ट के धीमे चलने के कारण अब जनता में एक बार फिर गुस्सा उबलने लगा है। स्थानीय लोग फिर से आंदोलन करने की तैयारी में जुट गए है, गर्मी आने पर पानी की समस्या भी बढ़ जाएगा। ऐसे में जलदाय विभाग को इस बारे में गंभीरता से विचार करना होगा, वरना स्थितियां नियंत्रण से बाहर हो सकती है।

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें

और पढ़ें

Most Related Stories

Stories You May be Interested in