Live News »

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए सपूत जीतराम के परिजनों को एक साल बाद भी सम्मान का इंतजार

पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए सपूत जीतराम के परिजनों को एक साल बाद भी सम्मान का इंतजार

भरतपुर: पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए भरतपुर जिले के नगर तहसील के सुंदरावली गांव के सपूत जीतराम गुर्जर के परिजन एक साल गुजर जाने के बाद भी नेताओं द्वारा किए गए वादों के पूरा होने का इंतजार कर रहे हैं. परिजनों द्वारा अनेको बार प्रशासन व राजनेताओं से मदद की गुहार लगाने के बाद भी स्थिति जस की तस ही नजर आ रही है. 

पुलवामा आतंकी हमले को एक साल पूरा, राहुल गांधी ने पूछे तीन सवाल 

शहीद के सम्मान का इंतजार: 
पुलवामा में शहीद हुए भरतपुर जिले की नगर तहसील के गांव सुंदरावली निवासी जीतराम गुर्जर का परिवार शहीद के सम्मान का इंतजार कर रहा है.  एक साल पहले शहादत के समय नेताओं ने कई वादे किए थे लेकिन अभी तक न तो शहीद का स्मारक बनवाया गया है और न ही परिवार को कृषि कनेक्शन मिल पाया है. अब मजबूरन परिजन खुद के पैसों से ही शहीद का स्मारक बनवाने की तैयारी कर रहे हैं. 

अभी तक नहीं बना शहीद का स्मारक:
शहीद जीत राम के छोटे भाई विक्रम और पिता राधेश्याम ने बताया कि केंद्र सरकार ने शहीद जीत राम के शहीद होने के बाद 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई थी लेकिन एक साल गुजरने के बाद भी न तो शहीद का स्मारक बना है और न ही कृषि कनेक्शन मिला है. परिजन को नौकरी भी अभी तक नही मिली है. 

VIDEO: सरकार के पैमाने पर फेल परिवहन विभाग! एक भी आरटीओ राजस्व लक्ष्य पूरा करने में सफल नहीं 

गांव के स्कूल का नामकरण भी शहीद के नाम नहीं किया:
शहीद जीतराम गुर्जर के भाई विक्रम ने बताया कि शहादत के समय तत्कालीन सांसद बहादुर सिंह कोली ने घोषणा की थी कि शहीद के स्मारक के लिए दस लाख रुपए देंगे लेकिन अभी तक उनकी ओर से कोई आर्थिक सहायता उपलब्ध नहीं कराई गई है. इसके अलावा कृषि कनेक्शन देने और गांव के स्कूल का नामकरण भी शहीद के नाम पर करने का वादा भी अभी तक पूरा नहीं हुआ है. 

जिला प्रशासन नहीं कर रहा सुनवाई:
शहीद के भाई विक्रम ने बताया कि सरकार के अधूरे वायदों को पूरा कराने की मांग को लेकर कई बार जिला प्रशासन के यहां संपर्क किया लेकिन कोई सुनवाई नहीं होने पर अब परिजनों ने खुद अपने पैसे से शहीद का स्मारक बनवाने का निर्णय लिया है. 

First India News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे!
हर पल अपडेट रहने के लिए अभी डाउनलोड करें First India News Mobile Application
लेटेस्ट वीडियो के लिए हमारे YOUTUBE चैनल को विजिट करें
और पढ़ें

Stories You May be Interested in