सदन में उठा बेरोजगारी भत्ते का सवाल, 50 हजार पात्र बेरोजगारों को नहीं मिल रहा भत्ता

सदन में उठा बेरोजगारी भत्ते का सवाल, 50 हजार पात्र बेरोजगारों को नहीं मिल रहा भत्ता

सदन में उठा बेरोजगारी भत्ते का सवाल, 50 हजार पात्र बेरोजगारों को नहीं मिल रहा भत्ता

जयपुर: प्रदेश में बेरोजगारी भत्ते के लिए 2 लाख 10 हजार 321 को पात्र माना गया है  लेकिन 1 लाख 59 हजार 728 बेरोजगारों को भत्ता दिया जा रहा है और 50000 पात्र युवा वंचित है. विधान सभा में प्रश्नकाल में एक सवाल के जवाब में यह तथ्य उभरकर सामने आए.

VIDEO: जयपुर एयरपोर्ट पर कोरोना स्क्रीनिंग के लिए विशेष सतर्कता, अब तक 26 हजार से ज्यादा यात्रियों की हुई स्क्रीनिंग 

अनिता भदेल ने बेरोजगारी भत्ते से जुड़ा सवाल उठाया:
प्रश्नकाल में दिए गए एक सवाल के जवाब में राज्य सरकार ने माना कि एक सीमा निर्धारित किए जाने के चलते ऐसा हो रहा है. वहीं सरकार की ओर से पेश जवाब में यह भी कहा गया कि फिलहाल स्नातक योग्यता नहीं रखने वाले युवाओं को बेरोजगारी भत्ता देने का भी कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है. मुख्यमंत्री युवा सम्बल योजना के तहत बेरोजगार युवाओं को 3 हजार और 3500 रुपए भत्ता देने का प्रावधान राज्य सरकार द्वारा किया गया है. भाजपा विधायक अनिता भदेल ने बेरोजगारी भत्ते से जुड़ा सवाल उठाया. सवाल का जवाब देते हुए मंत्री अशोक चांदना ने कहा कि -

- योजना के तहत 3 लाख 17 हजार 293 बेरोजगारों के आवेदन आए हैं
- जांच के बाद इनमें से 2 लाख 10 हजार 321 को पात्र माना गया है
- इस समय 1 लाख 59 हजार 728 बेरोजगारों को भत्ता दिया जा रहा है
- पिछली सरकार ने एक लाख बेरोजगारों को भत्ते की सीमा निर्धारित की थी
- अब इस सीमा को बढाकर 1 लाख 60 हजार किया गया है
- पिछली सरकार के 5 साल में 1.56 लाख बेरोजगारों को ही भत्ता मिला।
- जबकि पिछले 1 साल में ही 1.42 लाख को भत्ता दिया गया
- पिछली सरकार के 5 साल में 121.60 करोड़ की राशि भत्ते के रुप में दी गई
- जबकि अब पिछले 1 साल में ही 287 करोड़ रुपए दिए जा चुके

विधानसभा में हुई उत्पादी बंदरों को लेकर रोचक चर्चा, जताई चिंता 

मंत्री के जवाब पर विपक्ष ने ऐतराज जताते हुए पूछा कि आखिर पात्रता होने के बावजूद 50 हजार युवा बेरोजगारी भत्ते से वंचित क्यों है. क्या जन घोषणा पत्र में यह बिन्दू शामिल करते वक्त कोई सीमा निर्धारित की गई थी. इस पर मंत्री अशोक चांदना ने विपक्ष पर ही पलटवार करते हुए कहा कि पिछली सरकार ने ही एक लाख की सीमा निर्धारित की थी जिसे बढ़ाकर अब एक लाख 60 हजार किया गया है. जहां तक जन घोषणा पत्र का सवाल है तो उसमें कहा गया था कि शिक्षित और जरुरतमंदों को भत्ते का प्रावधान होगा. मंत्री ने कहा कि सूची से जैसे-जैसे लोग बाहर होते जाएंगे वैसे-वैसे उसमें पात्रताधारी दूसरे बेरोजगारों को शामिल कर लिया जाएगा. वहीं चांदना ने यह भी कहा कि फिलहाल स्नातक योग्यता नहीं रखने वाले बेरोजगार युवाओं को भत्ता देने का कोई भी प्रस्ताव सरकार के पास विचाराधीन नहीं है. 

कोरोना वायरस को लेकर भारत में अलर्ट, स्वास्थ्य मंत्री बोले- विदेश से आने वाले हर व्यक्ति की जांच की जाएगी 

सरकार ने प्रदेश में बेरोजगारों से जुड़े आंकड़े भी सदन में पेश किए:
सवाल के जवाब में सरकार ने प्रदेश में बेरोजगारों से जुड़े आंकड़े भी सदन में पेश किए जिसके मुताबिक विभाग में 12 लाख 91 हजार से ज्यादा बेरोजगार पंजीकृत हैं. पंजीकृत बेरोजगारों में से 9 लाख 30 हजार से ज्यादा स्नातक और करीब साढे 85 हजार अधिस्नातक हैं. दसवीं पास से कम योग्यता रखने वाले केवल करीब साढ़े 74 हजार बेरोजगार विभाग में पंजीकृत हैं. 

....नरेश शर्मा, योगेश शर्मा, ऐश्वर्य प्रधान के साथ ऋतुराज शर्मा फर्स्ट इंडिया न्यूज़ जयपुर

और पढ़ें