सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री के बयान पर सवाल, PMO की सफाई, कहा- ऐसे वक्त में विवाद पैदा करना दुर्भाग्यपूर्ण

सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री के बयान पर सवाल, PMO की सफाई, कहा- ऐसे वक्त में विवाद पैदा करना दुर्भाग्यपूर्ण

नई दिल्ली: चीन से विवाद पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 जून को सर्वदलीय बैठक बुलाई थी. पीएम मोदी ने सर्वदलीय बैठक में यह दावा किया था कि हमारी जमीन में कोई न घुसा है, न घुसा था. इस बयान को आधार बनाकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि पीएम ने चीन के आक्रामक रवैये के सामने देश की जमीन सरेंडर कर दी है. राहुल ने कई सवाल भी खड़े किए. इन तमाम सवालों के बीच प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से सफाई दी गई है.

साल का पहला सूर्यग्रहण कल, नहीं देखें गर्भवती महिलाएं ग्रहण, जानिए कहां-कहां दिखेेगा ग्रहण 

पीएमओ ने बताया दुर्भाग्यपूर्ण:
पीएम मोदी की टिप्पणियों में यह कहा गया था कि हमारे सशस्त्र बलों की बहादुरी के बाद वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC ) पर हमारी सीमा के भीतर कोई चीनी उपस्थिति नहीं था. प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आश्वासन दिया कि भारत की सशस्त्र सेना देश की सीमाओं की रक्षा करने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी. पीएमओ ने कहा यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसे समय में प्रधानमंत्री की टिप्पणियों पर बिना वजह का विवाद पैदा किया जा रहा है जब वीर सैनिक हमारी सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं. 

20 सैनिक हो गए थे शहीद:
आपको बता दें कि पीएम माेदी के सर्वदलीय बैठक में दिए गए बयान के बाद कांग्रेस के साथ-साथ कई रणनीतिक मामलों के विशेषज्ञों ने मोदी की टिप्पणियों पर सवाल उठाते हुए पूछा कि अगर गलवान घाटी में चीनी सेना द्वारा कोई अपराध नहीं किया गया था, तो भारतीय सैनिकों की मौत कहां हुई थी. उन्होंने यह भी पूछा कि क्या पीएम मोदी ने गतिरोध को लेकर चीन को क्लीन चिट दे दी है. गौरतलब है कि 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सेना के साथ संघर्ष में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हुए थे.

इस राशि के लोगों को सूर्यग्रहण के नहीं करने चाहिए दर्शन, जानिए क्या रहेगा राशियों पर सूर्यग्रहण का प्रभाव 

और पढ़ें