REET में ना हो चीट: एक के बाद एक 'नटवरलाल' चढ़ रहे पुलिस के हत्थे, सरकार की सख्ती के चलते अब तक कई डमी परीक्षार्थी और संदिग्ध गिरफ्तार

REET में ना हो चीट: एक के बाद एक 'नटवरलाल' चढ़ रहे पुलिस के हत्थे, सरकार की सख्ती के चलते अब तक कई डमी परीक्षार्थी और संदिग्ध गिरफ्तार

REET में ना हो चीट: एक के बाद एक 'नटवरलाल' चढ़ रहे पुलिस के हत्थे, सरकार की सख्ती के चलते अब तक कई डमी परीक्षार्थी और संदिग्ध गिरफ्तार

जयपुर: प्रदेश में होने वाली सबसे बड़ी परीक्षा रीट भर्ती परीक्षा में 'चीट' ना हो इसको लेकर सरकार और प्रशासन ने कमर कस रखी है. ऐसे में नकल कराने वाले गिरोह से लेकर परीक्षार्थियों को झांसा देने वाले 'नटवरलाल' एक के बाद एक पुलिस के हत्थे चढ़ते जा रहे हैं. रविवार को होने जा रही रीट परीक्षा से पहले बाड़मेर की बालोतरा पुलिस ने दो संदिग्ध आरोपियों को गिरफ्तार किया है. दोनों ही आरोपी भर्ती परीक्षाओं में डमी परीक्षार्थी सहित पेपर उपलब्ध करवाने वाली गैंग से जुड़े हुए है. 

9.50 लाख रुपये की नकदी भी पुलिस ने बरामद की:
मिली जानकारी के अनुसार बालोतरा में एक मकान में दोनों आरोपी रीट परीक्षा में डमी परीक्षार्थी बिठाने सहित कई तरह की व्यू रचना रच रहे थे. इस दरम्यान पुलिस को सूचना मिलने पर दबिश देते हुए दोनों संदिग्ध आरोपियों को गिरफ्तार किया है.  आरोपियों के पास से बड़ी मात्रा में फोटो, आधार कार्ड्स सहित रीट परीक्षा से जुड़े हुए दस्तावेज मिले हैं. इसके अलावा 9.50 लाख रुपये की नकदी भी पुलिस ने बरामद की है. 

आरोपी पेशे से शिक्षक है जो भर्ती परीक्षाओं में नकल करवाने सहित डमी परीक्षार्थी बिठाने वाली गैंग से जुड़े हुए है. पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने बताया कि इन दोनों आरोपियो से प्रारंभिक पुछताछ में सामने आया है कि यह इससे पूर्व भी कई भर्ती परीक्षाओं में इस तरह से वारदातों को अंजाम दे चुके हैं. इनका एक पूरा रैकेट है जो प्रदेश के विभिन्न जिलो में फैला हुआ है. 26 सितंबर को होने वाली रीट परीक्षा मे डमी परीक्षार्थी बिठाने के फिराक में है. पूछताछ के बाद प्रदेशभर में रैकेट से जुड़ी गैंग के ठिकानों पर दबिश दी जा रही है. 

कोटा में दो ठगों को गिरफ्तार किया: 
वहीं कोटा में बीती रात पुलिस की स्पेशल टीम और साइबर टीम ने बोरखेड़ा पुलिस की मदद से दो ठगों को गिरफ्तार किया है, जो रीट परीक्षा में सफल करवाने का झांसा देकर परीक्षार्थियों से ठगी कर रहे थे. दोनों को बोरखेड़ा पेट्रोल पंप से उस वक्त उठाया गया जब एक ठग दूसरे ठग के पास अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र लेकर आया. 

आरोपी शोभाराम और कुंवरपाल दोनों के पास से करीब एक दर्जन से ज्यादा प्रवेश पत्र मिले हैं. यह सभी प्रवेश पत्र अभ्यर्थियों को झांसा देकर लेकर आए थे.  हर अभ्यर्थी से करीब 10 से 15 लाख रुपए मैं सौदा होना बताया गया है. दोनों आरोपी कोटा के ही रहने वाले हैं. फिलहाल यह दोनों आरोपी छोटे मोहरे बताए गए हैं. वहीं पुलिस गिरोह के तार दूसरे जिलों से भी जोड़कर इस मामले की इन्वेस्टिगेशन कर रही है. 

बहरोड़ पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया:
उधर, बहरोड़ पुलिस ने रीट परीक्षा से 1 दिन पहले एसओजी मुख्यालय से सूचना मिलने के बाद कार्रवाई करते हुए एक युवक को गिरफ्तार किया गया. जिसके पास से 11 लाख 10 हजार रुपए और अभ्यर्थियों के दस्तावेज बरामद किए गए. नीमराणा एएसपी गुरुशरण राव ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी युवक हरियाणा बॉर्डर के गांव भगवाडी खुर्द का रहने वाला विजय पुत्र बलबीर यादव है. 

इस युवक ने अभ्यर्थियों को रीट परीक्षा से 3 घंटे पहले प्रश्न पत्र उपलब्ध करवाने का झांसा देकर एडवांस राशि के रूप में 11.10 लाख ले लिए थे. वहीं उसने प्रत्येक अभ्यर्थी से 7 से 8 लाख रुपए में सौदा तय किया था. पुलिस ने बताया कि सीकर जिले में एसओजी की कार्रवाई के बाद गिरोह के तार बहरोड़ से जुड़े हुए थे. जिसकी सूचना यह कार्रवाई की गई. पुलिस गिरफ्तार आरोपी विजय से पूछताछ कर रही है. जिसमें और भी कई अहम खुलासे होने की संभावना है. 

राजधानी जयपुर में भी बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा: 
वहीं राजधानी जयपुर में भी पुलिस ने राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में बड़े फर्जीवाड़े का खुलासा किया है. पुलिस ने परीक्षा से पहले फ़र्ज़ी परीक्षार्थी समेत 2 युवतियों को दबोचा है. पुलिस ने दोनों युवतियों को किसान छात्रावास से दबोचा है. युवतियों का नाम प्रमिला और अनन्या बिश्नोई बताया जा रहा है. दोनों युवतियां मूल रूप से जालोर की रहने वाली है. ये किसान छात्रावास में रह कर रीट परीक्षा की तैयारी क रही थी. प्रमिला की जगह अनन्या बिश्नोई रीट परीक्षा देने वाली थी. दोनों के पास से फ़ोटो लगे हुए फ़र्ज़ी एडमिट कार्ड भी बरामद हुए हैं. मिली जानकारी के अनुसार यह पूरा सौदा 10 लाख रुपए में तय हुआ था. 

शुक्रवार को सात लोगों को गिरफ्तार किया:
आपको बता दें कि राजस्थान पुलिस ने इसी सप्ताह आयोजित होने वाली राजस्थान अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में किसी तरह की गड़बड़ी रोकने की हरसंभव कोशिश कर रही है जिसके तहत शुक्रवार को भी उसने राज्य में दो जगहों से सात लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि ये लोग इस परीक्षा में फर्जीवाड़ा करने का प्रयास कर रहे थे और इनके कब्जे से लाखों रुपये की नकदी एवं करोड़ों का हिसाब किताब मिला है. इससे पहले डूंगरपुर और सवाई माधोपुर में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं. 

...फर्स्ट इंडिया न्यूज के लिए सुनिल शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें