जयपुर "प्राण वायु" मैनेजमेंट में जुटी राजस्थान सरकार, RMSCL ने अब तक 30 हजार 950 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए कार्यादेश जारी किए

"प्राण वायु" मैनेजमेंट में जुटी राजस्थान सरकार, RMSCL ने अब तक 30 हजार 950 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए कार्यादेश जारी किए

जयपुरः राजस्थान में बढ़ते कोरोना के मामलों को लेकर राज्य सरकार चिंतित है. वहीं प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ती को लेकर भी सरकार हर संभव प्रयास में जुटी हुई हैं. राजस्थान सरकार कोरोना मरीजों के लिए प्राण वायु मैनेजमेंट में जुटी हुई है.  चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि विभिन्न निविदा प्रक्रिया व अन्य स्त्रोतों के माध्यम से राज्य को आक्सीजन कन्सन्ट्रेटर की आपूर्ति मिलना प्रारंभ हो गई है. उन्होंने बताया कि सरकार से सबंधित राजस्थान मेडिकल सर्विसेज कॉर्पोरेशन लिमिटेड (RMSCL) की ओर से अब तक 30 हजार 950 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए कार्यादेश जारी किया जा चुका है, जिसमें से अब तक 635 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्राप्त भी हो चुके हैं.

3 फर्म से मिलेंगे 5 हजार 800 ऑक्सीजन कंसंट्रेटरः
आरएमएससीएल के प्रबंध निदेशक आलोक रंजन ने बताया कि प्रदेश में आक्सीजन की तेजी से बढ़ती मांग के चलते ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद का निर्णय किया गया था, जिसके फलस्वरुप आरएमएससीएल ने ऑक्सीजन कंसंट्रेटर की खरीद के लिए कॉम्पिटिटिव नेगोशिएशन, ग्लोबल ईओए व खुली निविदा आमंत्रित की थी. इनमें से कॉम्पिटिटिव नेगोशिएशन प्रक्रिया में चार फर्म  शामिल हुई. इसमें से तीन योग्य फर्म को 5 हजार 800 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए कार्यादेश जारी किए गए हैं.

7 फर्म से 23 हजार 150 ऑक्सीजन कंसंट्रेटरः
रंजन ने बताया कि ग्लोबल ईओए प्रक्रिया में कुल 19 फर्म सम्मलित हुई, जिसमें से योग्य 7 फर्म को 23 हजार 150 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए क्रयादेश जारी किए गए है. उन्होंने बताया कि इस क्रयादेश में से 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर प्राप्त हो चुके हैं, जबकि 11 मई तक 650 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर और प्राप्त हो जाएंगे. उन्होंने बताया कि निगम की ओर से खुली निविदा प्रक्रिया में सफल रही फर्म को 2 हजार ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के लिए कार्यादेश जारी किया है. जिनकी आपूर्ति 20 मई से मिलना प्रारंभ हो जाएगी.

सीएसआर से मिले 285 ऑक्सीजन कंसंट्रेटरः
प्रबंध निदेशक ने बताया कि कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भामाशाह और दानदाताओं के सहयोग की भी आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि प्रदेश को अब तक कॉरपोरेट सोशल रेस्पांसबिलिटी के जरिए 285 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर मिले. उन्होंने कहा कि अन्य फर्म व संस्थाओं को भी इस प्रकार के सहयोग के लिए आगे आना चाहिए.

और पढ़ें