नई दिल्ली राहुल गांधी ने 10 वीं कक्षा की परीक्षा के प्रश्नपत्र में विवादित अंशों को लेकर सीबीएसई पर निशाना साधा

राहुल गांधी ने 10 वीं कक्षा की परीक्षा के प्रश्नपत्र में विवादित अंशों को लेकर सीबीएसई पर निशाना साधा

राहुल गांधी ने 10 वीं कक्षा की परीक्षा के प्रश्नपत्र में विवादित अंशों को लेकर सीबीएसई पर निशाना साधा

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 10वीं कक्षा की परीक्षा के अंग्रेजी विषय के प्रश्नपत्र के कुछ अंशों को लेकर केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) पर सोमवार को निशाना साधा और आरोप लगाया कि यह युवाओं की नैतिक शक्ति तथा भविष्य को कुचलने की राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की साजिश है.

राहुल गांधी ने ट्वीट किया,सीबीएसई के ज्यादातर प्रश्नपत्र अब तक बहुत कठिन रहे हैं और अंग्रेजी के प्रश्नपत्र में गद्यांश पूरी तरह खराब है. यह युवाओं की नैतिक शक्ति और भविष्य को कुचलने का आरएसएस-भाजपा का षड्यंत्र है. उन्होंने कहा कि बच्चों, अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करो. कड़ी मेहनत का फल मिलता है. कट्टरता से कुछ हासिल नहीं होता.

 

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी यह विषय सोमवार को लोकसभा में शून्यकाल के दौरान उठाया.केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 10वीं कक्षा के अंग्रेजी के प्रश्नपत्र के अंशों में लैंगिक रूढ़िवादिता को कथित तौर पर बढ़ावा दिए जाने और प्रतिगामी धारणाओं का समर्थन करने संबंधी आरोपों के बाद विवाद खड़ा हो गया है. इसके चलते बोर्ड ने रविवार को इस मामले को विषय के विशेषज्ञों के पास भेज दिया.

गत शनिवार को आयोजित 10वीं की परीक्षा में प्रश्नपत्र में कथित तौर पर महिलाओं की मुक्ति ने बच्चों पर माता-पिता के अधिकार को समाप्त कर दिया और अपने पति के तौर-तरीके को स्वीकार करके ही एक मां अपने से छोटों से सम्मान पा सकती है जैसे वाक्यों के उपयोग को लेकर आपत्ति जतायी गई है. (भाषा) 

और पढ़ें