Live News »

बूंदी से बोले राहुल- दिनभर भाषण देने वाले प्रधानमंत्री को भारत की समझ ही नहीं, जानें भाषण की 15 मुख्य बातें

बूंदी से बोले राहुल- दिनभर भाषण देने वाले प्रधानमंत्री को भारत की समझ ही नहीं, जानें भाषण की 15 मुख्य बातें

बूंदी। श्रीगंगानगर के सूरतगढ़ में सभा के बाद राहुल गांधी ने बूंदी से भी मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने अपने संबोधन में एक बार फिर चौकीदार शब्द को लेकर नरेंद्र मोदी पर तंज कसा है। राहुल गांधी ने कहा कि किसान और बेरोजगार युवाओं के घर चौकीदार नहीं होता है, चौकीदार की लाइन तो अनिल अंबानी जैसे लोगों के घर पर लगती है। राहुल ने इस दौरान राफेल, भष्ट्राचार, बेरोजगार, कालाधान, नोटबंदी और जीएसटी तक हर मुद्दें पर सत्ता पक्ष पर निशाना साधा। 

राहुल गांधी के संबोधन की मुख्य बातें-
- आगे आने वाले चुनावों में दो पार्टियों की नहीं दो विचारधाराओं की लड़ाई हैं। एक तरफ भाजपा, नरेंद्र मोदी और RSS की विचारधारा है,जो देश को बांटने नफरथ फैलाने की विचारधारा है तो दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी की भाईचारा और जोड़ने की विचारधारा है। 

- पिछले 5 साल से नरेंद्र मोदी दो हिंदुस्तान बनाने की कोशिश में है, एक अमीरों का हिंदुस्तान, प्राइवेट हवाई जहाज वाला हिंदुस्तान, अनिल अंबानी जैसे लोगों वाला हिंदुस्तान तो दूसरा किसानों का, छोटे दुकानदारों का, व्यापारियों का, मजदूरों का, माता और बहनों का, बेरोजगार युवाओं का हिंदुस्तान हैं। 

- इस देश के दो झंडे नहीं है केवल एक झंडा है, तो एक हिंदुस्तान भी होना चाहिए। उस हिंदुस्तान में सब लोगों के लिए जगह होनी चाहिए।

- मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले कहा था कि प्रधानमंत्री मत बनाओं मुझे चौकीदार बना दो, लेकिन यह नहीं कहा कि किसका चौकीदार बनाना है। इस पर राहुल ने लोगों से सवाल करते हुए पूंछा की क्या आपने किसान के घर पर चौकीदार देखा है ? बेरोजगार के घर पर चौकीदार देखा है? चौकीदार तो अनिल अंबानी के घर पर होता है।

- 15 लाख खाते में नहीं, कालाधन सामने नहीं आया, दो करोड़ लोगों को रोजगार नहीं मिला, जो आपकी मेहनत का पैसा था उसे छीन कर नीरव मोदी जैसे लोगों को दे दिया।

- मनरेगा जैसी योजना ने 14 करोड़ लोगों को गरीबी रेखा के नीचे से निकाला, लेकिन बीजेपी ने इस योजना को खत्म कर दिया। 

- नरेंद्र मोदी ने संसद में मनरेगा का मजाक उड़ाया था, लेकिन हिन्दुस्तान के पीएम को मनरेगा का मतलब ही समझ नहीं आया। मनरेगा तो हिन्दुस्तान की अर्थव्यवस्था का इंजन बनकर लोगों को रोजगार दे रहा था।

- छोटे दुकानदार व्यापार नहीं करके जीएसटी का फार्म भरने में लगे हुए है। नरेंद्र मोदी की नीतियों से 45 साल में सबसे ज्यादा गरीबी देखने को मिली है। दिनभर भाषण देने वाले प्रधानमंत्री को भारत की समझ नहीं है। 

- प्रधानमंत्री ने 15 अमीरों का साढ़े तीन लाख करोड़ का कर्जा माफ कर दिया जबकि किसानों का एक पैसा माफ नहीं किया। 

- केंद्र में कांग्रेस की सरकार आई तो न्यूनतम आय 12 हजार रुपए महिने होगी। इस रेखा से कम आय होने पर कांग्रेस सरकार सीधे उसके बैंक खाते में पैसा डालेगी। 

- 20 फीसदी गरीब लोगों के खाते में हर साल 72000 हजार रुपए डाले जाएंगे। 

- नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कहा 2014 के चुनाव से पहले देश में कुछ नहीं हुआ, जो भी हुआ है मोदी के आने के बाद हुआ है।

- काम सेना ने कियावायु सेना किया पर नरेंद्र मोदी जी ने कहा कि सब मैंने किया । 

- इस व्यक्ति को समझ नहीं आ रही , ये दिनभर भाषण देकर झूठे वादे करते है।  15 लाख देने का वादा किया, दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा किया, लेकिन हुआ कुछ नहीं। 

- मोदीजी के हिंदुस्तान में सिर्फ अमीर लोग सपना देख सकते हैं जबकि गरीब, बरोजगार, किसान सपना नहीं देख सकतें। 

और पढ़ें

Most Related Stories

राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से फिर बुरी खबर, अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने की आत्महत्या

राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से फिर बुरी खबर, अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने की आत्महत्या

जयपुर: प्रदेश में लगातार एक दिन में कोरोना के नए मरीजों की संख्या 500 से ऊपर सामने आ रही है. रविवार को 644 नए केस सामने आए. वहीं राजस्थान के सबसे बड़े COVID अस्पताल से एक बार फिर बुरी खबर आई है. अस्पताल के सेमी ICU में भर्ती एक मरीज ने आत्महत्या कर ली है. सेमी ICU के पास फंदे से झूलकर मरीज ने आत्महत्या की है. हालांकि मरीज की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव थी. पिछले 1 सप्ताह में अस्पताल में यह आत्महत्या की दूसरी घटना है. इससे पहले इसी सेमी ICU में भर्ती एक बुजुर्ग मरीज ने खिड़की से कूदकर आत्महत्या की थी. 

राजस्थान के सियासी घटनाक्रम पर एक और बड़ी ख़बर, सतीश पूनिया और किरोड़ीलाल मीणा के बीच चली लंबी मंत्रणा 

रोगियों की संख्या 18 हजार के पार:  
इससे पहले रविवार को 644 नए केस सामने आए. अब प्रदेश में 24,392 संक्रमित हो गए हैं. सात लोगों ने दम भी तोड़ा. अब मृतकों की संख्या 510 हो गई है. मरने वालों में नागौर के 3 और जयपुर, सिरोही, टोंक, उदयुपर का 1-1 शामिल है. कोरोना को हराने वाले रोगियों की संख्या 18 हजार के पार पहुंच गई है. 

VIDEO: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को 109 विधायकों का समर्थन- अविनाश पांडे  

अब तक कुल 18103 रोगी रिकवर हो चुके:
अब तक कुल 18103 रोगी रिकवर हो चुके हैं, जिनमें से 17734 को डिस्चार्ज कर दिया गया. प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या भी पहली बार 6 हजार के पार चली गई है. अब प्रदेश में 6054 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं. हालांकि राहत रही कि 6 जिलों बारां, टोंक, जैसलमेर, झालावाड़, हनुमानगढ़ और चित्तौड़गढ़ में एक भी नया रोगी नहीं मिला. 

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच!

Rajasthan Political Crisis: पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा, फंसा नया पेंच!

जयपुर: राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बागी तेवरों के बाद राजस्थान में सियासी पारा उफान पर है.  सूत्रों की मानें, तो अगर सचिन पायलट और उनके समर्थक आज सुबह होने वाली बैठक में नहीं आते हैं तो पार्टी उनपर एक्शन ले सकती है. वहीं सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसरा सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है. पायलट ने कहा कि मैं बीजेपी ज्वॉइन नहीं कर रहा हूं. हालांकि इस बारे में अभी पूरी जानकारी सामने नहीं आ रही है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट का बड़ा बयान, कहा-अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में

पायलट को बीजेपी ज्वॉइन करने में एक नया पेंच: 
वहीं जानकार सूत्रों के अनुसार पायलट को बीजेपी ज्वॉइन करने में एक नया पेंच आ गया है. पायलट से बातचीत के बाद जेपी नड्डा के मन में उठा एक सवाल उठ रहा है. क्या सचमुच पायलट के पास REQUIRED NUMBER अर्थात् कम से कम 30 विधायकों का समर्थन है ? यदि ऐसा है तो फिर पायलट की बीजेपी ज्वॉइनिंग हो सकती है. और यदि पायलट के पास फिलहाल केवल एक दर्जन विधायक है तो बीजेपी  इस सारे मामले पर नए सिरे से विचार कर सकती है. 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन ना करने का दावा: 
ऐसे में यहां तक कि एक बार तो आज पायलट और उनके समर्थक विधायकों की बीजेपी ज्वॉइनिंग टल सकती है. सूत्रों के अनुसार आज सुबह तक इस बारे में भाजपा द्वारा अंतिम फैसला लिए जाने की उम्मीद है. इसी बीच पायलट कैम्प से जुड़े सूत्र ने किया दावा किया है कि पायलट के किसी भी सूरत में बीजेपी ज्वॉइन नहीं करेंगे. ऐसे में अब भगवान जाने कि आखिर क्या सच है? वैसे पायलट के मन में शुरू से ही एक नई पार्टी बनाने का विचार था. 


 

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

Rajasthan Political Crisis: कांग्रेस ने कल होने वाली विधायक दल की बैठक के लिए जारी किया व्हिप

जयपुर: राजस्थान में इस समय सियासी पारा उफान पर है. सचिन पायलट के कल बीजेपी ज्वॉइन करने की अटकलों के बीच कांग्रेस ने कल सुबह 10.30 बजे होने वाली बैठक को लेकर व्हिप जारी किया है. ऐसे में इस बैठक के बाद प्रदेश की राजनीति को लेकर स्थिति साफ हो जाएगी. जहां एक और सचिन पायलट कैंप अपने साथ 30 विधायक होने का दावा कर रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर सीएम गहलोत का धड़ा भी प्रदेश में 5 साल सरकार चलाने को लेकर आश्वस्त नजर आ रहा है. ऐसे में विधायक दल की बैठक में यह स्थिति साफ हो जाएगी. 

पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी: 
वहीं 30 विधायकों के समर्थन का दावा कर पायलट ने गहलोत को अल्पमत में बताकर एक चुनौती दी है. अब पायलट के दावे के आधार पर राज्यपाल गहलोत को एक सप्ताह या 10 दिन में गहलोत को बहुमत साबित करने का निर्देश दे सकते हैं. और बस यहीं से नए सिरे से जोड़-तोड का खेल शुरू हो जाएगा. इसके बाद विधानसभा में सरकार अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर पाती है तो नई सरकार के गठन से पहले कुछ दिनों के लिए प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लग जाएगा.

पायलट खेमे के विधायक दे सकते हैं इस्तीफा: 
बता दें कि राज्य में बिगड़ते सियासी हालात को देखते हुए कांग्रेस आलाकमान ने पार्टी के तीन नेताओं को जयपुर भेजा है. वहीं, सोमवार सुबह 10.30 कांग्रेस विधायक दल की बैठक होनी है. वहीं सूत्रों के मुताबकि, कल सुबह होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले आज देर रात सचिन पायलट के खेमे के विधायक अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को भेज सकते हैं.
 

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

Rajasthan Political Crisis: सचिन पायलट कल भाजपा में हो सकते हैं शामिल, इस वजह के चलते अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण

जयपुर: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल के बीच सचिन पालयट ने बगावती तेवर अपना लिया है. अब पायलट भाजपा में शामिल हो सकते हैं. जानकार सूत्रों के हवाले से मिली खबर के अनुसार पायलट जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल होंगे. इसको लेकर भाजपा शीर्ष नेतृत्व से कल दिल्ली में मुलाकात कर सकते हैं. 

पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ:
जानकार सूत्रों के अनुसार पायलट का थर्ड फ्रंट बनाने का आइडिया अप्रूव नहीं हुआ. अब भाजपा के शीर्ष नेतृत्व की मौजूदगी में कल भाजपा ज्वॉइन कर सकते हैं. इस संबंध में जेपी नड्डा और पायलट के बीच पूरी बातचीत हो चुकी है. पायलट कैम्प 30 विधायकों के साथ भाजपा ज्वॉइन करने का दावा कर रहा है. लेकिन इन अंतिम क्षणों में भी भाजपा नेतृत्व को ये आशंका है कि कही खुद पायलट पीछे नहीं हट जाएं. क्योंकि अभिषेक मनु सिंघवी और दो बड़े कांग्रेस नेताओं ने पायलट को भाजपा में जाने से रोकने के प्रयास शुरू किए है. 

अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण:
इसलिए राजस्थान की राजनीति के लिए अगले 24 घंटे काफी महत्वपूर्ण होने वाले हैं. लेकिन इंटेलीजेंस सूत्रों ने केवल 12 विधायकों के इस्तीफे देने के संकेत दिए है. लेकिन इस तरह इस्तीफे देने की प्रक्रिया तो शुरू हो जाएगी और फिर यह आंकड़ा न जाने कहां तक जाकर रुकेगा. 

पायलट कांग्रेस विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं होंगे:
इससे पहले सचिन पायलट ने कहा कि वो कांग्रेस विधायक दल की बैठक में नहीं शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत की सरकार अल्पमत में है. 30 कांग्रेसी और निर्दलीय विधायक मेरे पक्ष में है. इससे पहले सचिन पायलट ने कुछ देर पहले बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की है. दोनों नेताओं की मुलाकात दिल्ली में ज्योतिरादित्य सिंधिया के आवास पर करीब 40 मिनट तक चली. पायलट की कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राहुल गांधी से भी मुलाकात नहीं हुई है.

ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था:
इससे पहले आज ज्योतिरादित्य ने पायलट के समर्थन में एक ट्वीट भी किया था. सिंधिया ने कहा कि सचिन पायलट को दरकिनार किए जाने से मैं दुखी हूं. ये दिखाता है कि कांग्रेस में काबिलियत और क्षमता की कोई अहमियत नहीं है. 

सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे:
बता दें कि सचिन पायलट सीएम गहलोत से नाराज चल रहे हैं. सूत्रों के अनुसार पायलट का आरोप है कि सीएम गहलोत उन्हें नजरअंदाज कर रहे हैं. सरकार के फैसलों में उन्हें अहमियत नहीं दी जाती है. वहीं गहलोत खेमा सचिन पायलट के बीजेपी के संपर्क में होने का आरोप लगा रहा है. 


 

Rajasthan Political Crisis: 3 विधायकों ने साफ कर दी तस्वीर, कहा- हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे

जयपुर: राजस्थान में चल रही सियासी हलचल में एक के बाद एक नया मोड सामने आ रहा है. अब 3 कांग्रेस विधायकों ने दिल्ली दौरे को लेकर तस्वीर साफ की है. रोहित बोहरा, दानिश अबरार और चेतन डूडी ने साफ कहा है कि गहलोत के नेतृत्व में 5 साल सरकार चलेगी. ये तीनों विधायक पायलट गुट के माने जाते हैं. 

हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे: 
इन विधायकों का कहना है कि आलाकमान ने गहलोत को हमारा नेता बनाया है हम उनके नेतृत्व में आगे भी काम करते रहेंगे. तीनों विधायकों ने माना की वो दिल्ली गए थे लेकिन दिल्ली जाने का कारण पारिवारिक बताया. हालांकि उन्होंने कांग्रेस नेताओं से मिलने की बात को भी स्वीकार किया है. हम कांग्रेस के सिपाही हैं और आखिरी सांस तक कांग्रेस के साथ रहेंगे. बता दें कि अशोक गहलोत ने सोमवार सुबह 10.30 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है. सभी विधायकों को जयपुर पहुंचने को कहा गया है. 

SOG की एफआईआर और पूछताछ की चिट्ठी के बाद बढ़ी नाराजगी:
सूत्रों की माने तो एसओजी (SOG) की एफआईआर और पूछताछ की चिट्ठी के बाद डिप्टी सीएम सचिन पायलट की नाराजगी बढ़ गई है. हालांकि एसओजी ने सीएम को भी ऐसी चिट्ठी भेजी है. लेकिन अब पायलट हाईकमान से मिलकर अपना पक्ष रखना चाहते हैं. आपको बता दें कि डिप्टी सीएम सचिन पायलट को एसओजी ने पूछताछ के लिए धारा 160 के तहत पूछताछ का नोटिस भेजा है. इसमें एसओजी ने सरकार गिराने के षड्यंत्र के मामले में पूछताछ करने की बात कही है.
 

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता आएंगे जयपुर, विधायकों के साथ करेंगे बैठक

Rajasthan Political Crisis: दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता आएंगे जयपुर, विधायकों के साथ करेंगे बैठक

जयपुर: राजस्थान में सियासी संकट के चलते पार्टी आलाकमान एक्शन मोड में आ गया है. दिल्ली से कांग्रेस के 3 बड़े नेता जयपुर आएंगे. सोनिया गांधी ने अजय माकन, रणदीप सुरजेवाला और अविनाश पांडे को जयपुर जाने को कहा है. तीनों नेता कांग्रेस विधायकों के साथ बैठक करेंगे. कल सुबह 10:30 बजे मुख्यमंत्री आवास पर विधायक दल की बैठक होगी.

आज रात तक पायलट भी जयपुर पहुंच सकते हैं:
वहीं सूत्रों की माने तो पार्टी ने डिप्टी सीएम सचिन पायलट को भी निर्देश दिया है. ऐसे में आज रात तक पायलट भी जयपुर पहुंच सकते हैं. सचिन पायलट कांग्रेस के भेजे जा रहे पर्यवेक्षकों के साथ मीटिंग करेंगे और कल विधायक दल की बैठक में हिस्सा ले सकते हैं. बता दें कि अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच मतभेद खुलकर सामने आ गए हैं. पायलट पार्टी आलाकमान से मिलने के लिए दिल्ली में हैं. पायलट खेमे के 12 विधायक भी दिल्ली में हैं. 

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के नोटिस के बाद ये पूरी जंग शुरू हुई:
जानकारों की माने तो स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के नोटिस के बाद ये पूरी जंग शुरू हुई है. विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने सचिन पायलट को भी नोटिस भेजा था और बयान दर्ज कराने को कहा. कहा जा रहा है कि नोटिस मिलने के बाद पायलट, सीएम अशोक गहलोत से नाराज हैं. सचिन पायलट खेमे को उपमुख्यमंत्री से पूछताछ के लिए एसओजी का नोटिस स्वीकार्य नहीं है.


 

...तो सचिन पायलट इन विधायकों के साथ ज्वॉइन कर सकते हैं BJP !

जयपुर: विधायकों के खरीद फरोख्त प्रकरण मामले ने तूल पकडने के बाद राजस्थान की राजनीतिक गलियारों में हलचल तेज हो गई है. अब सचिन पायलट प्रकरण पर नया लेटेस्ट अपडेट मिला है. सूत्रों के मुताबिक फिलहाल किसी भी प्रकार के समझौते के मूड में पायलट नहीं है. शनिवार देर रात तक 21 पायलट समर्थक विधायक दिल्ली पहुंच चुके थे. दो दूसरे विधायक भी आस-पास के इलाके में  थे. इस प्रकार कुल 23 विधायक पायलट के खेमे में थे. जबकि पायलट का टारगेट 30 असंतुष्ट कांग्रेसी मंत्रियों-विधायकों को दिल्ली में जुटाने का था. इस प्रकार 7 विधायक शनिवार की मानेसर स्थित ITC भारत होटल की परेड में कम पड़ गए थे. 

12 पायलट समर्थक विधायक जयपुर में:
इन 7 विधायकों के नहीं पहुंचने के बारे में पायलट कैम्प के सूत्रों ने खुलासा किया है. कहा कि गहलोत द्वारा बॉर्डर सील कर दिए जाने के कारण कुल 12 पायलट समर्थक विधायक जयपुर में ही रह गए. अब इन 12 विधायकों में से कम से कम 7 विधायकों के आज किसी भी समय दिल्ली पहुंचने का इंतजार हो रहा. और यदि इस प्रकार ये सभी 30 विधायक कल दिल्ली में मौजूद रहे, तो पायलट इन सभी के साथ भाजपा ज्वॉइन कर सकते है. ऐसी सूरत में गहलोत सरकार को अल्पमत में लाने के लिए पांच विधायकों की कमी रहेगी और इस कमी को पूरा करने के लिए 7 गैर कांग्रेसी विधायकों को पायलट के पक्ष में लाने का जिम्मा जयपुर में अज्ञात शक्तियों ने लिया. अब इन UNKNOWN FORCES के निशाने किशनगढ़बास के 82 वर्षीय विधायक दीपचंद खैरिया, राजगढ़ के 85 वर्षीय विधायक जौहरीलाल मीणा, कठूमर के 70 वर्षीय बीमार चल रहे विधायक बाबूलाल बैरवा, मूलत: भाजपाई और मौजूदा तिजारा के बसपा से कांग्रेस में आए विधायक संदीप यादव,
बानसूर के गुर्जर विधायक शकुंतला रावत, चाकसू के कांग्रेस विधायक वेदप्रकाश सोलंकी और एक विधायक उदयपुर संभाग से हैं.

ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में भाजपा के बड़े नेता से मीटिंग:
इनमें से अधिकांश विधायक गहलोत और पायलट दोनों खेमों के संपर्क में है, लेकिन अब गुर्जर समुदाय का जबरदस्त दबाव है. सभी कांग्रेसी और गैर कांग्रेसी गुर्जर विधायकों पर पायलट का समर्थन देने के लिए दबाव है और ये दबाव अब सचमुच काम कर भी रहा है. इसकी पहली कड़ी गुर्जर विधायक डॉ. जितेन्द्र सिंह बने. सूत्रों के अनुसार गहलोत कैम्प में रहते हुए भी इन्होंने अपने समर्थन का पत्र पायलट कैम्प को सौंपा. शनिवार देर रात दिल्ली में एक फॉर्म हाउस पर पायलट की एक महत्वपूर्ण बैठक होनी थी. ज्योतिरादित्य सिंधिया की मौजूदगी में भाजपा के बड़े नेता से मीटिंग होनी थी.

RAS मुख्य परीक्षा परिणाम सवालों के घेरे में, अभ्यर्थियों ने कहा-जल्दबाजी में जारी किया गया परिणाम

घटनाक्रम पर भाजपा आलाकमान की पूरी नजर:
सूत्रों के मुताबिक अलबत्ता शनिवार को पायलट की जेपी नड्डा से फोन पर बात होने की खबर मिली है, लेकिन अभी तक इस बारे में शायद भाजपा कोई अंतिम फैसला नहीं कर पाई. क्योंकि अभी तक पायलट REQUIRED NUMBER नहीं जुटा पाए हैं. इस समूचे घटनाक्रम पर भाजपा आलाकमान की पूरी नजर है. पिछले दो दिनों से गजेन्द्र सिंह शेखावत-सतीश पूनिया-राजेन्द्र राठौड़ खासे सक्रिय है, लेकिन वसुंधरा कैम्प ने मौन साध रखा है. अब कुल मिलाकर सब लोगों को एक ही बात का इंतजार है, क्या सचमुच 30 बागी कांग्रेस विधायकों का समर्थन जुटाकर सोमवार को भाजपा में पायलट चले जाएंगे ? वैसे पायलट का खुद का मन शायद एक थर्ड फ्रंट बनाने का है, यदि सचमुच पायलट खेमा भाजपा में चला गया ? तो फिर मध्यप्रदेश पैटर्न पर इन सभी लोगों का "राजनैतिक पुनर्वास" होगा. इनमें से कुछ विधायक बनेंगे मंत्री, कुछ को बोर्ड और कॉर्पोरेशन में चेयरमैन का पद मिलेगा और कुछ दूसरे लोगों के सरकार में पेंडिंग पड़े काम पूरे होंगे.

कांग्रेस आलाकमान नेतृत्व परिवर्तन के मूड में नहीं:
गहलोत सरकार का साथ छोड़कर जाने वाले ऐसे सभी कांग्रेसी और गैर कांग्रेसी विधायकों को उनके निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा का टिकट भी मिलेगा. इस सारे घटनाक्रम पर जानकार सूत्रों ने खुलासा किया. सूत्रों ने कहा कि वैसे तो गहलोत सरकार से निराश होकर कांग्रेस छोड़ने का मन पायलट बना चुके हैं, लेकिन फिर भी कुछ शुभचिंतक और मध्यस्थ  एक आखिरी प्रयास कर रहे. इन प्रयासों के चलते आज राहुल और पायलट के बीच फोन पर लंबी बात हुई, लेकिन पायलट ने राहुल को उनके पुराने वायदे याद दिलाए और फिर से अपनी मांग दोहराई. लेकिन कांग्रेस आलाकमान के अधिकांश नेता नेतृत्व परिवर्तन के मूड में नहीं है.

गहलोत और पायलट कैम्प्स के बीच गतिरोध:
जिस भाषा और जिस ढंग से SOG ने जारी किया नोटिस उस पर भी आपत्ति पायलट ने जताई. ऐसे में अब शायद ही कोई हल मौजूदा राजनीतिक संकट का निकले? फिर भी औपचारिकता के नाते पायलट समर्थक सभी विधायक एक बार सोनिया गांधी से मिल सकते है और अपने "मिशन" में सफलता न मिलने पर ये लोग फिर BJP ज्वॉइन कर सकते है, लेकिन अभी तक न तो इन लोगों ने मांगा सोनिया से समय और न ही सोनिया ने आगे बढ़कर इन लोगों को बुलाया. इस प्रकार गहलोत और पायलट कैम्प्स के बीच गतिरोध अभी भी बरकरार चल रहा है.

अमिताभ बच्चन के बाद ऐश्वर्या राय और आराध्या भी कोरोना पॉजिटिव, जया बच्चन की रिपोर्ट आई नेगेटिव

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 153 नए पॉजिटिव केस, अलवर में सर्वाधिक 42 पॉजिटिव मरीज मिले

Rajasthan Corona Updates: पिछले 12 घंटे में 4 मौत, 153 नए पॉजिटिव केस, अलवर में सर्वाधिक 42 पॉजिटिव मरीज मिले

जयपुर: राजस्थान में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.पिछले 12 घंटे में 4 मरीजों की मौत हो गई. जबकि 153 नए पॉजिटिव केस सामने आये है. जयपुर, नागौर, सिरोही और टोंक में 1-1 मरीज की मौत हो गई. अकेले अलवर में सर्वाधिक 42 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले. अजमेर में 25,बांसवाड़ा में 2,बाड़मेर में 7,बूंदी में 4,जयपुर में 31, झुंझुनूं में 4,करौली में 8,कोटा में 14,सिरोही में 13, दूसरे राज्य के 3 मरीज पॉजिटिव मिले है. प्रदेश में मौत का आंकड़ा 507 पहुंच गया है. कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 23 हजार 901 पहुंच गई है.

अमिताभ बच्चन और अभिषेक बच्चन की रिपोर्ट आई कोरोना पॉजिटिव,  फैंस में छाई मायूसी

पॉजिटिव से नेगेटिव हुए 17 हजार 902 मरीज:
प्रदेश में कुल 17 हजार 902 लोग पॉजिटिव से नेगेटिव हुए है. वहीं कुल 17 हजार 541 लोग इलाज के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए है. वहीं बात करें एक्टिव मरीजों की तो प्रदेश में 5 हजार 492 मरीज अस्पताल में उपचाररत एक्टिव मरीज है. कुल कोरोना पॉजिटिव प्रवासियों की संख्या 5 हजार 992 पहुंच गई है.

शनिवार को आये थे 574 पॉजिटिव मरीज:
शनिवार को राजस्थान में 6 मरीजों की मौत हो गई थी. जबकि 574 नए पॉजिटिव मरीज सामने आये थे. बीकानेर में शनिवार को सबसे ज्यादा 105 मरीज सामने आये थे. जबकि इन जिलों में नए केस दर्ज किए गए है, अजमेर 7, अलवर 45, बांसवाड़ा 2, बारां 2, बाड़मेर 30,भरतपुर 24, भीलवाड़ा 5, बीकानेर 105, चूरू 8, दौसा 3, धौलपुर 2, डूंगरपुर 7, गंगानगर 1, हनुमानगढ़ 4, जयपुर 53, जालौर 45, झुंझुनूं 4, जोधपुर 81, करौली 3, कोटा 1, नागौर 28, पाली 23, प्रतापगढ़ 3, राजसमंद 14, सवाईमाधोपुर 8, सीकर 8,सिरोही 18,टोंक 1, उदयपुर 36, वहीं अन्य राज्य से 3 केस सामने आये थे. 

Covid-19 Update: पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 28 हजार नए मामले, देश में अब करीब साढ़े 8 लाख कोरोना पॉजिटिव केस

Open Covid-19