नई दिल्ली राफेल सौदे में बिचौलिये को 9.5 करोड़ रुपये के भुगतान को लेकर राहुल का मोदी पर निशाना

राफेल सौदे में बिचौलिये को 9.5 करोड़ रुपये के भुगतान को लेकर राहुल का मोदी पर निशाना

राफेल सौदे में बिचौलिये को 9.5 करोड़ रुपये के भुगतान को लेकर राहुल का मोदी पर निशाना

नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल सौदे के भुगतान को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है कि व्यक्ति जो कर्म करता है उसका फल सामने आ जाता है तथा इससे कोई बच नहीं सकता.

सौदे में एक बिचौलिये को 11 लाख यूरो का हुआ था भुगतान:
सौदे में एक बिचौलिये को 11 लाख यूरो (करीब 9.5 करोड़ रुपये) का भुगतान किए जाने के दावे संबंधी फ्रांसीसी मीडिया की एक खबर को लेकर मंगलवार को सरकार पर निशाना साधा. और कहा कि व्यक्ति जो कर्म करता है उसका फल सामने आ जाता है तथा इससे कोई बच नहीं सकता. उन्होंने ट्वीट किया है कि कर्म  किसी के कार्यों का लेखाजोखा. कोई इससे बच नहीं सकता.

कर्म- किये कराये का बही खाता।

इससे कोई नहीं बच सकता।#Rafale

— Rahul Gandhi (@RahulGandhi) April 6, 2021


मुख्य विपक्षी पार्टी सुरक्षा बलों को कमजोर करने का प्रयास कर रही है: BJP
उल्लेखनीय है कि फ्रांसीसी समाचार पोर्टल मीडिया पार्ट ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि फ्रांसीसी भ्रष्टाचार निरोधक एजेंसी (AFA) ने खुलासा किया है कि राफेल की निर्माता कंपनी दसॉंल्ट ने एक बिचौलिये को 11 लाख यूरो का कथित तौर पर भुगतान किया था. कांग्रेस ने इस खबर का का हवाला देते हुए सोमवार को इस मामले में निष्पक्ष और गहन जांच की मांग की थी तो भाजपा ने आरोपों को पूरी तरह निराधार करार देते हुए आरोप लगाया था कि मुख्य विपक्षी पार्टी सुरक्षा बलों को कमजोर करने का प्रयास कर रही है.

राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है: सुरजेवाला 
कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला संवाददाताओं से कहा कि फ्रांस के एक समाचार पोर्टल ने अपने नये खुलासे से कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी के इस रुख को सही साबित किया है कि राफेल विमान सौदे में भ्रष्टाचार हुआ है.

इस पर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ये आरोप पूरी तरह निराधार हैं तथा उच्चतम न्यायालय ने भी इस मामले की जांच कराने संबंधी मांग को खारिज कर दिया था और नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) ने इसमें कुछ गलत नहीं पाया था।
 

और पढ़ें