मीडिया समूहों पर छापे, लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास: कमलनाथ

मीडिया समूहों पर छापे, लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास: कमलनाथ

मीडिया समूहों पर छापे, लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का प्रयास: कमलनाथ

भोपाल: मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कर चोरी के आरोप में दैनिक भास्कर और भारत समाचार मीडिया समूहों पर छापेमारी लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने और सच बाहर आने से रोकने का प्रयास है.

उन्होंने कहा कि दैनिक भास्कर के खिलाफ भोपाल, जयपुर, अहमदाबाद, नोएडा और देश के कुछ अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है. समाचार चैनल भारत समाचार के लखनऊ स्थित परिसरों और उसके प्रमोटरों व कर्मचारियों के यहां छापेमारी हुई है. इन छापों को लेकर आयकर विभाग या उसके नीति निर्माण निकाय, केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड की ओर से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

मोदी सरकार चौथे स्तंभ को दबाने और सच रोकने का कार्य कर रही है:
इसे लेकर केन्द्र सरकार पर निशाना साधते हुए कमलनाथ ने ट्वीट किया कि  मोदी सरकार में प्रजातंत्र के चौथे स्तंभ को दबाने का, सच को रोकने का काम शुरु से ही किया जा रहा है. पेगासस जासूसी मामले में भी कई मीडिया संस्थान और उससे जुड़े लोग निशाने पर रहे हैं. और अब सरकार की निरंतर पोल खोल रहे, सच को देश भर में निर्भिकता से उजागर कर रहे दैनिक भास्कर मीडिया समूह को दबाने का काम शुरु हो गया है? अपने विरोधियों को दबाने के लिए, सच को सामने आने से रोकने के लिए ईडी, आईटी व अन्य एजेंसियों का दुरुपयोग यह सरकार शुरु से ही करती रही है और यह काम आज भी जारी है?’’

सत्य परेशान हो सकता है पराजित नहीं: 
उन्होंने कहा कि लेकिन ध्यान रखें कि सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया कि भोपाल के प्रेस परिसर में स्थित दैनिक भास्कर कार्यालय सहित समूह के आधा दर्जन परिसरों में कर अधिकारी मौजूद हैं. सूत्रों ने कहा कि भास्कर समूह के खिलाफ कार्रवाई में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में इसके प्रमोटरों के आवासीय परिसरों की तलाशी शामिल है.

भोपाल के एमपी नगर जोन -1 इलाके में स्थित प्रेस कॉम्पलेक्स में प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों ने मीडिया समूह भास्कर के कई कर्मचारियों को कार्यालय में प्रवेश नहीं करने दिया. उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र (एमएच) में पंजीकृत चार पहिया वाहनों से छापामार दल सुबह करीब चार बजे यहां पहुंचा.

और पढ़ें