VIDEO: रेलवे ने मान लिया फरवरी तक कोहरा, 18 ट्रेनों को किया रद्द, देखिये ये खास रिपोर्ट

VIDEO: रेलवे ने मान लिया फरवरी तक कोहरा, 18 ट्रेनों को किया रद्द, देखिये ये खास रिपोर्ट

जयपुर: रेलवे द्वारा लंबे समय से यात्रियों को बेहतर सुविधा देने का वादा किया जाता रहा है. लेकिन वास्तविकता में धरातल पर कोई सुधार नहीं हुआ है. यह इस बात से साबित होता है कि रेलवे प्रशासन ने उत्तर-पश्चिम रेलवे से जुड़ी 18 ट्रेनों को अभी से रद्द कर दिया है. ये ट्रेनें दिसंबर से फरवरी तक 3 माह के लिए रद्द की गई हैं. 

कोहरे में ट्रेनों की स्पीड बढ़ाने और उन्हें लेटलतीफी से बचाने के लिए रेलवे के पास कोई कारगर उपाय नहीं है. हालांकि इसके लिए लंबे समय से अलग-अलग तकनीक और डिवाइस बनाई जाती रही हैं. लेकिन करीब 25 सालों से सिर्फ इनका प्रयोग ही चल रहा है. दरअसल रेलवे प्रशासन पिछले कई वर्षों से दिसंबर से मार्च तक कई ट्रेनों को कोहरे के पूर्वानुमान के चलते रद्द कर देता है. वहीं हर साल जनवरी तक रद्द की जाने वाली 10 से भी अधिक ट्रेनों को बाद में बढ़ाते हुए मार्च तक रद्द कर दिया जाता है. रेलवे प्रशासन ने एक बार फिर कोहरे का पूर्वानुमान लगाते हुए 18 ट्रेनों को फरवरी माह के अंत तक रद्द कर दिया है. इसके साथ ही 2 ट्रेनों का संचालन आंशिक रूप से रद्द रहेगा. रेलवे के संचालन से जुडे एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन ट्रेनों के कैंसिलेशन को आगे भी बढ़ाया जा सकता है. जल्द ही कुछ और ट्रेनों के संचालन दिनों को कम करने और ट्रेनों को डायवर्ट किए जाने का भी आदेश निकल सकता है.

उत्तर-पश्चिम रेलवे से जुड़ी ये 18 ट्रेनें रद्द

- 1 दिसंबर से 28 फरवरी 2022 तक 18 ट्रेनें रहेंगी रद्द

- ट्रेन नंबर 02988 अजमेर-सियालदाह, 02987 सियालदाह-अजमेर रद्द

- ट्रेन 05014 काठगोदाम/रामनगर-जैसलमेर, 05013 जैसलमेर-काठगोदाम/रामनगर रद्द

- ट्रेन 05624 कामाख्या-भगत की कोठी, 05623 भगत की कोठी-कामाख्या रद्द

- ट्रेन 05909 डिब्रूगढ़-लालगढ़, 05910 लालगढ-डिब्रूगढ़ रद्द

- ट्रेन 02458 बीकानेर-दिल्ली सराय, 02443 दिल्ली सराय-जोधपुर रद्द

- ट्रेन 02444 जोधपुर-दिल्ली सराय, 02457 दिल्ली सराय-बीकानेर रद्द

- ट्रेन 09611 अजमेर-अमृतसर, 09614 अमृतसर-अजमेर रद्द

- ट्रेन 09403 अहमदाबाद-सुल्तानपुर, 09404 सुल्तानपुर-अहमदाबाद रद्द

- ट्रेन 09407 अहमदाबाद-वाराणसी, 09408 वाराणसी-अहमदाबाद रद्द

- ट्रेन 04712 श्रीगंगानगर-हरिद्वार आंशिक रद्द, सहारनपुर स्टेशन तक ही जाएगी

- ट्रेन 04711 हरिद्वार-श्रीगंगानगर आंशिक रद्द, हरिद्वार की बजाय सहारनपुर से आएगी

उत्तर-पश्चिम रेलवे ने ट्रेनों को समय पर दौड़ाने के लिए करीब तीन साल पहले चारों मंडलों के इंजनों में 500 से भी अधिक फॉग सेफ्टी डिवाइस लगाई थी. अकेले जयपुर मंडल में 200 डिवाइस लगाई गई थीं. लेकिन इसके बावजूद ट्रेनें लगातार घंटों तक की देरी से संचालित होती हैं. जयपुर जंक्शन से जुड़ी करीब 50 ट्रेनों में डिवाइस लगाई गई हैं. लेकिन फिर भी ट्रेनें लेट हो रही हैं. ऐसे में रेलवे की ये डिवाइस फेल साबित हो रही है. वहीं अब इसी डिवाइस को रेलवे ने 'कवच' नाम देकर, फिर से करोड़ों रुपए खर्च करने की योजना बनाई है.

ट्रेन रद्द होने से नुकसान कितना

- मेल या एक्सप्रेस ट्रेन की 1 ट्रिप रद्द होने पर 2.50 लाख का घाटा

- सामान्यत: ट्रेन में 21 कोच लगे होते हैं, करीब 1200 यात्री यात्रा करते हैं

- 3 माह के कोहरे के सीजन में रेलवे को 300 करोड़ से भी ज्यादा का होगा नुकसान

रेलवे सूत्रों के मुताबिक कोहरे से निपटने के लिए पिछले लंबे समय से ट्रेन प्रोटेक्शन वार्निंग सिस्टम, एंटी कोलिजन सिस्टम और टैरेन इमेजिंग फॉर डीजल ड्राइविंग सिस्टम के साथ फॉग लाइट्स लगाने की तैयारी की जा रही है. लेकिन इन सभी तकनीकों का केवल अध्ययन ही चल रहा है. अभी करीब 100 इंजनों में ही सिस्टम लगाया गया है. जो कि अभी तक ट्रायल पर ही हैं. जयपुर रेल मंडल में जयपुर से दिल्ली, मथुरा, आगरा और जयपुर से सवाई माधोपुर, इंद्रगढ़, सुमेरगंज मंडी सेक्शन पर सबसे अधिक ट्रेनें लेट रहती हैं. कुलमिलाकर जरूरत इस बात की है कि रेलवे प्रशासन एक स्थाई समाधान तलाश करे, जिससे ट्रेनें रद्द नहीं करनी पड़ें और यात्रियों को भी असुविधा न हो.

और पढ़ें