VIDEO: कल से फिर शुरू होगी सदन की कार्यवाही, सीएम गहलोत से बात के बाद स्पीकर ने बदला अपना फैसला

VIDEO: कल से फिर शुरू होगी सदन की कार्यवाही, सीएम गहलोत से बात के बाद स्पीकर ने बदला अपना फैसला

जयपुर: बुधवार को सत्ता पक्ष के रवैए से नाराज होकर स्पीकर सीपी जोशी ने सदन की कार्रवाई कर दी थी अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी थी. 15 वीं विधानसभा के छठे सत्र के तीसरे चरण के चौथे दिन सत्ता पक्ष के रवैए से नाराज होकर विधानसभा सत्र को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने वाले विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से वार्ता के बाद अपना फैसला बदलते हुए कल से फिर सदन की कार्यवाही शुरू करने का निर्णय लिया है.

सदन में गुरुवार को सुबह 11 बजे सदन की कार्यवाही फिर से प्रश्नकाल से शुरू होगी. सदन की कार्रवाई शुरू करने को लेकर विधानसभा स्पीकर की ओर से नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और सत्ता पक्ष के विधायकों को सूचित कर दिया गया है.मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से  वार्ता के बाद स्पीकर सीपी जोशी ने दोबारा सदन की कार्यवाही शुरू करने को लेकर हामी भरी.

विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने भले ही कार्य सलाहकार समिति में 18 सितंबर तक सदन चलाने के फैसले को पलटते हुए विधानसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी हो लेकिन सदन की कार्यवाही को फिर से शुरू करने का अधिकार भी विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी को है और इन्हीं अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने फिर से सदन की कार्यवाही शुरू करने का फैसला लिया है. बुधवार को सदन में राजस्थान राज्य पथ परिवहन (बिना टिकट यात्रा निवारण ) संशोधन विधेयक पर चर्चा के दौरान सदन में हंगामा और शोर शराबा हुआ था जिसके चलते सदन की कार्यवाही को दो बार स्थगित करना पड़ा था. 

इसके बाद जब सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो आसन पर आए विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने सत्ता पक्ष के रवैए से नाराज होकर यहां तक कह दिया था कि वे चाहे ह तो उन्हें विधानसभा स्पीकर से हटा दें उन्हें कोई दुख नहीं. इस दौरान स्पीकर सीपी जोशी की संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल से भी नोक झोंक हुई थी, जिसके बाद नाराज विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी ने सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी थी. जिस पर सत्ता पक्ष विपक्ष के सदस्य सदस्यों ने स्पीकर सीपी जोशी को मनाने का भी प्रयास किया था . लेकिन सीपी जोशी अपने फैसले पर अड़े रहे, जिस पर 17 व 18 सितंबर को सदन में रखे जाने वाले 9 बिल भी अधरझूल में लटक गए थे. अब 1300 करोड़ से अधिक की अलग अलग वि भागो को अनुपूरक अनुदान मांगों को पूरा कराया जायेगा. विनियोग विधेयक,FRBM संशोधन बिल,रजिस्ट्रेशन संशोधन विधेयक ,एमबीएम संशोधन बिल पेश किए जायेंगे.शनिवार को प्रश्नकाल नही होगा. विधानसभा सचिवालय से बुलेटिन जारी करेगा सदन चलाने को लेकर. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें