VIDEO: आखिर पिछले दिनों क्या हुई आलाकमान और पूर्व CM राजे के बीच बातचीत ? जानकार सूत्रों ने किया खुलासा

जयपुर: राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा से करीब 45 मिनट नई दिल्ली में मुलाकात की. अब इस बैठक को लेकर जानकार सूत्रों ने खुलासा करते हुए बताया कि मैडम द्वारा नड्डा के सामने बार-बार एक ही बात कहे जाने की चर्चा है. राजे ने खुद को 2023 के चुनाव का चेहरा घोषित किए जाने की मांग की है. 

इससे जुड़े दूसरे सभी पहलुओं पर भी मैडम ने नड्डा के सामने अपना पक्ष रखा है. राजस्थान के मौजूदा भाजपा संगठन में हो रही अपनी अनदेखी और उपेक्षा को लेकर भी इस दौरान बात हुई. वहीं इस दौरान अपने जन्मदिन 8 मार्च या उसके बाद भी नई या समानांतर पार्टी बनाए जाने की चर्चाओं को केवल शरारतपूर्ण अफवाह बताया है. लेकिन इन सबके बावजूद नड्डा इस संवेदनशील विषय पर पूरी तरह मौन रहे और मैडम को 2023 के चुनाव का चेहरा घोषित करने का कोई पक्का आश्वासन नहीं दे सके. क्योंकि इन दिनों भाजपा किसी भी राज्य में चुनाव से पहले अपना चेहरा घोषित नहीं कर रही है. चुनाव के बाद विधायक दल की बैठक में ही नए मुख्यमंत्री का चयन होता है.    

इस सिलसिले में भाजपाई क्षेत्रों में कई बार चलती है एक दिलचस्प चर्चा:
ऐसे में अंतिम क्षणों तक किसी को भी आलाकमान के फैसलों की भनक नहीं लगती है. इस सिलसिले में भाजपाई क्षेत्रों में कई बार एक दिलचस्प चर्चा चलती है. जब आलाकमान ने 17 मार्च 2017 में जेपी नड्डा को उत्तराखंड विधायक दल की बैठक में नए नेता के चयन के लिए पर्यवेक्षक बनाकर भेजा था तो जानकारों के अनुसार जब देहरादून एयरपोर्ट पर उतरे नड्डा, तब तक उन्हें नए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत के नाम का अहसास नहीं था. 

5 मिनट पहले ही उन्हें आलाकमान से नए सीएम को लेकर संदेश मिला:
उसके बाद भाजपा के दफ्तर पहुंचने तक नड्डा को आलाकमान का कोई संदेश नहीं मिला था. ऐसे में उत्तराखंड भाजपा के सूत्रों के अनुसार नड्डा ने आलाकमान को फोन कर नए नाम को जानने के लिए अपनी उत्सुकता जताई. लेकिन फिर भी संभवत: आलाकमान से नहीं आया तुरंत कोई जवाब. इसके बाद जब नड्डा विधायक दल की बैठक में पहुंचे तो शायद 5 मिनट पहले ही उन्हें आलाकमान से नए मुख्यमंत्री रावत के नाम पर आम सहमति बनाने का संदेश मिला. ऐसे में आलाकमान की इस कार्यप्रणाली में आखिर कैसे तीन साल पहले घोषित हो सकता कोई 2023 के लिए चेहरा?


  
  

 


 

और पढ़ें