Rajasthan Budget 2021: राज्य की जनता की उम्मीदों का बजट, कर भार नहीं, राहत की अधिक उम्मीद

जयपुर: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बुधवार को विधानसभा में वित्तीय वर्ष 2021-2022 का बजट पेश करेंगे.कोरोना महामारी से धीरे-धीरे उबर रहे प्रदेश के व्यापार व उद्योग को इस बजट से उम्मीद है कि सरकारी खजाने में राजस्व की कमी के बावजूद मुख्यमंत्री आम जनता पर किसी कर का भार नहीं डालेंगे और राहत देने की कोशिश करेंगे.

बड़ी घोषणाएं होने की आस:

राज्य में उद्योग व कारोबार से जुड़े लोगों का मानना है कि सरकार को बजट पूर्व की बैठकों के माध्यम से अनेक सुझाव मिले हैं, उम्मीद है इन सुझावों पर सकारात्मक पहल के साथ मुख्यमंत्री कुशल वित्तीय प्रबंधन का प्रमाण देंगे. पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान आम आदमी को राज्य बजट में इन पर लागू भारी-भरकम वेट दर में कमी की घोषणा होने की जहां उम्मीद है, वहीं MSME सेक्टर, पेयजल, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, महिला विकास आदि क्षेत्रों में भी बड़ी घोषणाएं होने की आस है.  

राज्य बजट में अपेक्षाओं को लेकर  फेडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एण्ड इण्डस्ट्रीज अर्थात फोर्टी के पदाधिकारियों ने फ़र्स्ट इंडिया न्यूज़ के वरिष्ठ विशेष संवाददाता विमल कोठारी से खुलकर की बातचीत.  

राज्य की जनता की उम्मीदों का बजट कल:
- जनता को " कर " भार नहीं, राहत की अधिक उम्मीद
- उद्यमियों और कारोबारियों को भी है "आस" पूरी होने की उम्मीद
- FORTI पदाधिकारियों ने की फ़र्स्ट इण्डिया न्यूज़ से चर्चा
- काेरोना महामारी से उबरने के लिए सरकार से काफी उम्मीद
- राजस्व की कमी के बावजूद बजट में होगी कारोबारियों की आस पूरी
- वैट के पुराने प्रकरणों के निपटारे के लिए आ सकती है एमनेस्टी योजना
- MSME सेक्टर के लिए सरकार कर सकती है विशेष घोषणा
- पेयजल, स्वास्थ्य और शिक्षा क्षेत्र में भी विकास की गति होगी तेज
- रोज़गार और महिला विकास के लिए भी सरकार का रहेगा फोकस 

...फ़र्स्ट इंडिया के लिए विमल कोठारी की रिपोर्ट

और पढ़ें