Rajasthan By Election 2021: वल्लभनगर और धरियावद का दंगल, PCC चीफ डोटासरा ने संभाली कमान, देखिए ये खास रिपोर्ट

Rajasthan By Election 2021: वल्लभनगर और धरियावद का दंगल, PCC चीफ डोटासरा ने संभाली कमान, देखिए ये खास रिपोर्ट

जयपुर: कांग्रेस की एकता का चौपर मेवाड़ की धरती पर उतर चुका है.किसी भी तरह की अंतर कलह को थामने के लिए पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा खुद वल्लभनगर और धरियावद के दौरे पर है. डोटासरा के सारथी के रूप में रणनीतिकार के तौर पर धर्मेंद्र राठौड़ ने मोर्चा संभाल रखा है. चुनावी जीत की दहलीज पर तभी पहुंचा जा सकता है जब दल के अंदर एकता काबिज रहे.

कांग्रेस के अंदर एकता की शुरुआत तभी नजर आ गई थी. जब सीएम अशोक गहलोत, PCC प्रभारी अजय माकन,पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट का हेलीकॉप्टर मेवाड़ की सरजमीं पर उतरा था. वल्लभनगर सीट पर कांग्रेस और बीजेपी के टिकटों की घोषणा के साथ ही बगावत की बयार भी बह गई थी. कांग्रेस के टिकट को लेकर शक्तावत परिवार के अंदर कलह पनपी थी इसे लेकर कांग्रेस  डैमेज कंट्रोल में जुट गई है, रणनीतिकार धर्मेंद्र राठौड़ ने एकता के प्रयासों की दिशा में काम किया. कांग्रेस ने इमोशनल कार्ड खेलते हुए दिवंगत विधायक गजेंद्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति को टिकट दिया है, कांग्रेस सर्वे में यही नाम आगे था. पीसीसी चीफ डोटासरा के दौरे में वल्लभनगर की कांग्रेस एकता पर काफी काम हुआ है. 

धरियावद विधानसभा उप चुनाव में कांग्रेस ने पूर्व विधायक नगराज मीणा पर भरोसा जताया. उधर कांग्रेस में भी नगराज मीणा के टिकट के बाद अंदुरूनी कलह पनप गई है ,प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा का कैंप नगराज मीणा के खिलाफ था,रामलाल मीना अपनी पत्नी इंदिरा का टिकट चाहते थे,इंदिरा जिला प्रमुख भी है , हालांकि यहां भी डैमेज कंट्रोल की दिशा में कांग्रेस ने बड़ी पहल कर दी है ,रामलाल को सरकार में अहम पद दिया जा सकता है. मतदान से पहले जो पार्टी की आंतरिक बगावत को थाम लेगा वो जीत की दहलीज पर नजर आएगा. एकता के chopar ka संदेश मतदान तक नजर आना चाहिए. पीसीसी चीफ डोटासरा का दौरे का सबसे बड़ा मकसद एकजुट कांग्रेस.

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट

और पढ़ें