जयपुर Rajasthan Cabinet Reshuffle: मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद सभी का ध्यान विभागीय बटवारों पर, आज शाम शपथ ग्रहण के बाद सभी मंत्रियों को सौंपे जाएंगे विभाग

Rajasthan Cabinet Reshuffle: मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद सभी का ध्यान विभागीय बटवारों पर, आज शाम शपथ ग्रहण के बाद सभी मंत्रियों को सौंपे जाएंगे विभाग

Rajasthan Cabinet Reshuffle: मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद सभी का ध्यान विभागीय बटवारों पर, आज शाम शपथ ग्रहण के बाद सभी मंत्रियों को सौंपे जाएंगे विभाग

जयपुर: राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल में फेरबदल के तहत 15 विधायकों को आज मंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी. इसमें 11 कैबिनेट और चार राज्य मंत्री होंगे. मंत्रिमंडल पुनर्गठन के बाद अब सभी का ध्यान विभागों के वितरण पर है, आज शाम शपथ ग्रहण के तुरंत बाद सभी मंत्रियों विभाग घोषित होंगे, जिसको लेकर गहलोत एवं माकन कर सारा 'होमवर्क' पूरा कर चुके है. आलाकमान के स्तर पर भी इसकी मंजूरी ली जा चुकी है. सूत्रों के अनुसार विभागों का पुनर्वितरण ड़े पैमाने पर होगा, जनसेवा से जुड़े अधिकांश विभागों के मंत्री आज बदलें जाएंगे. विद्युत, जलदाय एवं जनसेवा जैसे विभागों के बदलेंगे मंत्री. अलबत्ता शांति धारीवाल के विभागों में नहीं होगा कोई परिवर्तन, इस प्रकार से आज गहलोत कैबिनेट का चेहरा नए सिरे से चमकाया जाएगा. 

इन नए चेहरों को किया गया है शामिल:
मुख्यमंत्री कार्यालय (CMO)  द्वारा जारी सूची के अनुसार कैबिनेट मंत्री के रूप में हेमाराम चौधरी, महेंद्रजीत मालवीय, रामलाल जाट, महेश जोशी, विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा, ममता भूपेश, भजनलाल जाटव, टीकाराम जूली, गोविंद राम मेघवाल व शकुंतला रावत को शपथ दिलाई जाएगी. वहीं, विधायक जाहिदा खान, बृजेंद्र ओला, राजेंद्र गुढ़ा व मुरारीलाल मीणा को राज्यमंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी. 

इनमें ममता भूपेश, भजनलाल जाटव व टीकाराम जूली इस समय राज्यमंत्री हैं. उन्हें पदोन्नत कर कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ दिलाई जाएगी जबकि सरकार के मौजूदा तीन प्रमुख मंत्रियों को हटाया गया है. 

इस सूची के नए नामों में हेमाराम चौधरी, मुरारीलाल मीणा व बृजेंद्र ओला को पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट का करीबी माना जाता है। इसके अलावा पिछले साल मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व के खिलाफ बगावती रुख अपनाए जाने के समय पायलट के साथ पद से हटाए गए विश्वेंद्र सिंह व रमेश मीणा को फिर से मंत्रिमंडल में शामिल किया जा रहा है, जबकि बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से कांग्रेस में आए छह विधायकों में से राजेंद्र गुढ़ा को भी मंत्री पद की शपथ दिलाई जाएगी. 

इससे पहले, शनिवार शाम मंत्रिमंडल की बैठक में सभी मंत्रियों ने अपने इस्तीफे सामूहिक रूप से पार्टी आलाकमान को सौंप दिए, मुख्यमंत्री गहलोत रात में राजभवन में राज्यपाल कलराज मिश्र से मिले. गहलोत ने अपने कैबिनेट मंत्री रघु शर्मा, हरीश चौधरी और राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा के इस्तीफे राज्यपाल को सौंपे जिन्हें उन्होंने स्वीकार कर लिया. इन तीनों मंत्रियों ने संगठन में काम करने की मंशा के साथ अपने इस्तीफे पहले ही कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेज दिए थे.  सेानिया गांधी ने इन तीनों के इस्तीफे स्वीकार कर लिए हैं. 

अब होगा विभागीय बटवारां:
गहलोत मंत्रिमंडल में इन नए मंत्रियों के आने से अधिकतम 30 मंत्रियों का कोटा पूरा हो जाएगा.  आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि मंत्रिमंडल फेरबदल की प्रक्रिया पूरी होने के बाद 15 विधायकों को संसदीय सचिव व सात को मुख्यमंत्री का सलाहकार नियुक्त किया जाएगा. उन्होंने बताया कि नए मंत्रिमंडल में अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय से चार सदस्य और अनुसूचित जनजाति (एसटी) समुदाय से तीन सदस्य होंगे. इसके अलावा एक मुस्लिम चेहरा के साथ तीन महिलाएं भी शामिल होंगी. 

हर तरफ माकन की वाह-वाही:
वहीं इस बार के मंत्रिमडल विस्तार में हर कोई अजय माकन की तारीफ कर रहा है.  गहलोत और पायलट दोनों कैम्प से माकन की वाह- वाही सुनाई दे रही है. कहा जा रहा है कि माकन ने अपनी भुमिका बखूबी निभाई है. गहलोत ने भी माकन को पूरा मान सम्मान दिया है और आज माकन की मेहनत का नतीजा है सबके सामने है.

और पढ़ें