अजय माकन का आत्मविश्वास, जाने अनजाने में खुद को ही बता दिया 'दिल्ली' अर्थात् आलाकमान !

अजय माकन का आत्मविश्वास, जाने अनजाने में खुद को ही बता दिया 'दिल्ली' अर्थात् आलाकमान !

जयपुर: कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) आज विधायक और पदाधिकारियों से संवाद के बाद वापस दिल्ली लौट गए हैं. इससे पहले कांग्रेस के पदाधिकारियों से संवाद के बाद अजय माकन का आत्मविश्वास देखने को मिला है. जाने अनजाने में उन्होंने खुद को ही "दिल्ली" अर्थात् आलाकमान बता दिया. माकन गांधी परिवार के पुराने वफादार हैं और शायद इसी भावना से प्रेरित होकर उन्होंने ऐसा उत्साही बयान दे डाला. यदि सचमुच आलाकमान ने मान ली माकन की सारी सिफारिशें तो कई वर्षों बाद AICC जनरल सेक्रेटरी के पद का रुतबा बढ़ेगा और इस पद की DILUTE हुई प्रतिष्ठा और 'अथॉरिटी' फिर से कायम होगी. 

आपको बता दें कि पत्रकारों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि 2023 में हम लोग कांग्रेस पार्टी की सरकार कैसे वापस ला सकते हैं इस बारे में सबसे चर्चा हुई. पीसीसी में भी आज हमने पदाधिकारियों से इस बारे में संवाद किया. इस दौरान कई ऐसे बिंदुओं पर विचार किया गया जिससे कांग्रेस के संगठन और सरकार में बेहतर समन्वय हो सके ताकि 2023 में हम लोग मिलकर वापस कांग्रेस को वापस लेकर आ सकें.

सरकार के विकास कार्यों को जन-जन तक पहुंचाएंगे:
इससे आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है इस बात कि संवाद के दौरान सभी विधायकों ने अपने विधानसभा क्षेत्र में हुए अभूतपूर्व विकास कार्यों की जमकर तारीफ की. आज कार्यकारिणी की बैठक में भी हमने यही बात दौहराते हुए कहा कि सरकार के विकास कार्यों को जन-जन तक पहुंचाएंगे. दूसरी मुझे इस बात कि भी खुशी हुई है कई ऐसे लोग भी मिले जिन्होंने मेरे से कहा कि अगर जरूरत पड़े तो सरकार के पद को छोड़कर संगठन को मजबूत करेंगे. हमें ऐसे लोगों पर गर्व जो सरकार के पदों को छोड़कर संगठन के लिए काम करने लिए आतुर हैं. माकन के इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे हैं. क्या हटेंगे मंत्री? इस दौरान उन्होंने खुद का भी उदाहरण देते हुए कहा कि कैसे मैं मंत्री का पद छोड़कर संगठन में गया था. 

अच्छे लोगों की अच्छी जगह नियुक्ती होगी:
अजय माकन ने संगठन और मंत्रिमंडल पर बोलते हुए कहा कि अच्छे लोगों की अच्छी जगह नियुक्ती होगी. वहीं सचिन पायलट की भूमिका के सवाल पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि किसी को लेकर कोई शक और संशय नहीं है. इसके साथ ही माकन ने एक बार फिर बोलते हुए कहा कि आलाकमान तो भूमिका तय करेगा वो सबकों मंजूर है. 

और पढ़ें