सचिन पायलट ग्रुप के इन चार विधायकों की चुप्पी का क्या है राज? चर्चाओं का बाजार गरम...

सचिन पायलट ग्रुप के इन चार विधायकों की चुप्पी का क्या है राज? चर्चाओं का बाजार गरम...

सचिन पायलट ग्रुप के इन चार विधायकों की चुप्पी का क्या है राज? चर्चाओं का बाजार गरम...

जयपुर: राजस्थान कांग्रेस (Congress) की राजनीति में इन दिनों सियासी हलचल देखने को मिल रही है. राजस्थान में सचिन पायलट (Sachin Pilot) समर्थक एक-एक विधायक एक बार फिर से खुलकर सामने आने लग गये हैं. लेकिन इस पूरे मामले में सचिन पायलट ग्रुप के चार विधायकों की चुप्पी चर्चा का विषय बनी हुई है. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल तो यह खड़ा होता है कि आखिर इन चार विधायकों की चुप्पी का राज क्या है? 

इन चार विधायकों में रमेश मीणा, बृजेन्द्र ओला, दीपेंद्र शेखावत व हरीश मीणा के नाम को लेकर सियासी गलियारों में अलग-अलग अटकलें लगाई जा रही है. ये चारों विधायक दो दिन से चल रही मुलाकात में भी नहीं आए. पायलट ग्रुप से सबसे पहले भंवरलाल शर्मा छिटके थे, वो पायलट खेमा छोड़कर अशोक गहलोत के पास आ गए थे. इसके बाद विश्वेंद्र सिंह व पीआर मीणा ने सीएम गहलोत की तारीफ की. 

पीआर मीणा ने कहा- पायलट साहब कहेंगे मरना है तो मर जाएंगे
हालांकि शुक्रवार को दौसा के भंडाना में राजेश पायलट की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि देने के बाद मीडिया से बात करते हुए पीआर मीणा ने कहा-जहां पायलट साहब कहेंगे वहां जाएंगें. वहीं मुख्यमंत्री के बारे में कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया. इस दौरान पीआर मीणा ने कहा कि अगर पायलट साहब कहेंगे मरना है तो मर जाएंगे. उल्लेखनीय है कि पीआर मीणा ने एक दिन पहले ही मुख्यमंत्री से मुलाकात की थी. 

चुप्पी वाले चार विधायकों की भी चल पड़ी चर्चा:
वहीं इन सबके बाद अब चुप्पी वाले चार विधायकों की भी चर्चा चल पड़ी है. ये चारों विधायक मंत्रिमंडल, राजनीतिक नियुक्ति या अन्य मांग नहीं कर रहे हैं. ऐसे में अब सबसे बड़ा सवाल यह खड़ा होता है कि क्या ये चारों विधायक भी अब अपनी रणनीति बदल रहे हैं? हालांकि इस बारे में अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी. वैसे गहलोत के नजदीकी लगातार इनके संपर्क में हैं. 

और पढ़ें