ब्लैक फंगस के इंजेक्शन की किल्लत होगी दूर, RMSCL ने टेण्डर कर कम्पनियों को दिए आदेश

जयपुर:  प्रदेश में कोरोना के कोहराम की रोकथाम के लिए गहलोत सरकार ने मरीजों के लिए एडवांस कैटेगिरी की दवाओं पर फोकस शुरू कर दिया है.फिर चाहे वो पोस्ट कोविड के रूप में सामने आ रहे ब्लैक फंगस के इलाज में उपयोगी इंजेक्शन हो या फिर डिफेंस रिसर्च एण्ड डवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन की 2-डीजी दवा.इस तरह की कई दवाओं की खरीद-फरोख्त के लिए राजस्थान मेडिकल सर्विस कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने एक्शन प्लान बनाकर काम शुरू कर दिया है.आइए आपको बताते है कि मरीजों के लिए किन दवाओं की होगी खरीद.

कोरोना की पहली वेव में बीमारी की रोकथाम के लिए गहलोत सरकार ने शुरूआती फेज में ही एग्रेसिव काम किया.सीएम गहलोत की संवेदनशीलता का ही परिणाम है कि मरीजों को महंगे मोल के रेमडेसिविर, टोसिलीजुमैब जैसे इंजेक्शन फ्री में उपलब्ध कराए गए.जिसके चलते हजारों मरीजों की न सिर्फ जान बच पाई, बल्कि कोरोना की जंग भी वे काफी कम समय में जीत गए.लेकिन अब हालात पहली वेव से काफी भयावह हो चले है.एक्टिव मरीजों का आंकड़ा एक लाख को पार कर गया है, न सरकारी और न ही निजी अस्पतालों में बैड उपलब्ध हो रहे है.ऐसे हालात में एकबार फिर से मरीजों की जान बचाने के लिए सीएम गहलोत ने अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे जीवन बचाने में उपयोगी कोई भी दवा हो, उसकी खरीद की जाए.ताकि लोगों को इलाज के अभाव में जान नहीं गंवानी पड़े.ऐसे में चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा की मॉनिटरिंग में एडवांस कैटेगिरी की दवाओं की खरीद का एक्शन प्लान बनाया गया है.

"ब्लैक फंगस" के इंजेक्शन की किल्लत होगी दूर:
-RMSCL ने टेण्डर कर कम्पनियों को दिए आदेश
-लाइपोजोमल एम्फोटेरिसिन बी की आपूर्ति के दिए निर्देश
-RMSCL एमडी आलोक रंजन के निर्देश में चल रहा काम
-भारत सरकार के DRDO ने विकसित की दवाएं 2-डीजी
-इसके अलावा रोश फार्मा की "एंटीबॉडी कॉकटेल" दवा भी विकसित
-कैसेरिविमैब व इम्डेविमैब का कॉकटेल कॉबिनेशन है यह दवा
-इन सभी दवाओं की खरीद के लिए विशेष समिति को दिया गया जिम्मा
-एसएमएस हॉस्पिटल की विशेषज्ञ समिति कर रही इनका परीक्षण
-समिति की अप्रूवल मिलने पर दवाओं की खरीद प्रक्रिया होगी शुरू

उधर, ग्रामीण इलाकों में संक्रमण की चैन तोड़ने के लिए सरकार हर घर तक कोरोना ट्रीटमेंट कीट पहुंचाने की दिशा में भी काम कर रही है.किट में एजिथ्रोमाइसिन, जिंक समेत अन्य सभी जरूरी दवाएं उपलब्ध होगी.इन दवाओं की खरीद के लिए RMSCL ने रेट कांट्रेक्ट कर लिया है.इतना ही नहीं तीसरी लहर का बच्चों पर सर्वाधिक प्रभाव पड़ने की आशंका के चलते अभी से ही दवाओं की उपलब्धता पर काम शुरू कर दिया गया है.छोटे बच्चों के संक्रमण की संभावना को देखते हुए उनके उपचार में काम आने वाली दवाओं की आपूर्ति के लिए क्रयादेश जारी कर दिए गए हैं.

प्रदेश के हर नागरिक के घर पहुंचेगी कोरोना दवा किट:
-कोविड-19 दवा किट के लिए क्रयादेश जारी
-किट में शामिल दवाइयां हैं Azithromycin, Paracetamol,
-Levocetirizine, Zinc Sulphate & Ascorbic Acid
-RMSCL ने दवा खरीद के लिए किए आदेश जारी

राज्य सरकार एक तरफ जहां एडवांस दवाओं के प्रोक्योमेंट पर फोकस कर रही है, वहीं दूसरी ओर केन्द्र की तरफ से आंवटित दवाओं की आपूर्ति को लेकर भी एक्शन मोड में है.केंद्र  सरकार द्वारा 11 मई को जारी आवंटन अनुसार राजस्थान को टोसिलीजूमेब इंजेक्शन 80 एम.जी. की 2,185 मात्रा आवंटित की गई है.ऐसे में  RMSCL ने जल्द आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए आदेश जारी किए है.

और पढ़ें