निर्वाचित सरपंच की आयु 15 साल से कम होने पर राजस्थान हाईकोर्ट में चुनौती, कोर्ट ने कहा- क्यों ना निर्वाचन निरस्त किया जाए

निर्वाचित सरपंच की आयु 15 साल से कम होने पर राजस्थान हाईकोर्ट में चुनौती, कोर्ट ने कहा- क्यों ना निर्वाचन निरस्त किया जाए

निर्वाचित सरपंच की आयु 15 साल से कम होने पर राजस्थान हाईकोर्ट में चुनौती, कोर्ट ने कहा- क्यों ना निर्वाचन निरस्त किया जाए

जयपुर: धौलपुर की पिपरौन ग्राम पंचायत की निर्वाचित सरपंच की उम्र 14 साल ही है. हाल ही में स्थानीय निवासी भूपेन्द्र कुमार ने आरटीआई के तहत जुटायी दस्तावेजों से ये जानकारी सामने आयी है. जिसके बाद अब भुपेन्द्र कुमार ने सरपंच रेखा देवी के निर्वाचन को राजस्थान हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुनौती दी है. जस्टिस अशोक गौड़ की एकलपीठ ने याचिका पर सुनवाई के बाद भरतपुर संभागीय आयुक्त, जिला कलक्टर धौलपुर, निर्वाचित सरपंच रेखा देवी सहित अन्य को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है. कोर्ट ने नोटिस जारी कर पूछा है कि क्यों ना सरपंच का निर्वाचन निरस्त कर दिया जाए. 

क्या है मामला: 
जनवरी में हुए पंचायत चुनावों में पिपरौन ग्राम पंचायत से रेखादेवी निर्वाचित हुई. स्थानीय निवासी भुपेन्द्र कुमार ने रेखा देवी से संबंधित सरकारी स्कूल से सूचना के अधिकार कानून के तहत सूचना मांगी. आरटीआई के तहत मिले दस्तावेजों में रेखा देवी की जन्म तिथि 20 जून 2005 दर्शायी गयी थी. इन दस्तावेजों के अनुसार चुनाव के समय सरपंच की उम्र करीब 14 साल छह माह ही होती है. याचिका में कहा गया कि रेखादेवी ने अधिकारियों से मिलीभगत कर अपने आप को 21 साल की उम्र का बताकर मतदाता कार्ड हासिल किया और उसके आधार पर सरपंच पद पर नामाकंन पत्र भरा था. इसी वजह से रेखा देवी के सरपंच पद पर निर्वाचन को रद्द करने के साथ कार्रवाई होनी चाहिए.  

और पढ़ें