VIDEO: राजस्थान हाउसिंग बोर्ड अब रियल एस्टेट मार्केट में बना रिकॉर्ड मशीन, एक पखवाड़े में ही बेची 135 करोड़ की 500 संपत्तियां

VIDEO: राजस्थान हाउसिंग बोर्ड अब रियल एस्टेट मार्केट में बना रिकॉर्ड मशीन, एक पखवाड़े में ही बेची 135 करोड़ की 500 संपत्तियां

जयपुर: राजस्थान हाउसिंग बोर्ड अब रियल एस्टेट मार्केट में रिकॉर्ड मशीन बन गया है. प्रॉपर्टी बेचने में विश्व रिकॉर्ड समेत कई रिकॉर्ड बना चुके हाउसिंग बोर्ड ने इस बार एक अनूठा रिकॉर्ड बनाया है. बोर्ड ने सिर्फ एक पखवाड़े में ही 135 करोड़ की 500 संपत्तियां बेच दी है. ऐसा इससे पहले प्रदेश में कभी नहीं हुआ.  

हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की प्लानिंग और नेतृत्व से सुस्त पड़े रियल एस्टेट जगत में हाउसिंग बोर्ड ने एक नई जान फूंकी है. संपत्तियों को बेचने में विश्व रिकॉर्ड बना चुके हाउसिंग बोर्ड में इस बार एक अनूठा रिकॉर्ड बना दिया है. जिससे रियल एस्टेट जगत के पंडित भी अचंभित है. 

- हाउसिंग बोर्ड बना रियल एस्टेट मार्केट की "रिकॉर्ड मशीन"
- इस बार हाउसिंग बोर्ड ने बनाया एक अनूठा ही रिकॉर्ड
- सिर्फ एक पखवाड़े में ही बेच दी 135 करोड़ की 500 सम्पत्तियां
- मलमास ख़त्म होते ही हाउसिंग बोर्ड ने किया यह कमाल
- इतने कम समय में किसी निजी और सरकारी संस्थान ने नहीं किया ऐसा प्रदर्शन
- हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की प्लानिंग और नेतृत्व से बोर्ड ने किया यह कमाल

मलमास ख़त्म होने के तुरन्त बाद ही हाउसिंग बोर्ड ने रियल एस्टेट मार्केट में फिर से धूम मचा दी है. जहां कोरोना के बाद रियल एस्टेट मार्केट में मंदी बढ़ती ही जा रही है. वहीं हाउसिंग बोर्ड की सम्पत्तियों को उम्मीद से बढ़कर रिस्पॉन्स मिल रहा है. इस पखवाड़े में बिकी सम्पत्तियों की बात करें तो जगतपुरा के महल रोड पर 2400 वर्गमीटर का एक भूखंड 15 करोड़ में बिका है. जगतपुरा के महल रोड के इस भुखण्ड को लेकर रियल एस्टेट से जुड़े लोग काफी अचंभित है. 

वहीं मानसरोवर आतिश मार्केट में 40 वर्गमीटर का एक भूखंड 3 लाख 45 हजार रुपये प्रतिवर्गमीटर की दर से बिका है. प्रताप नगर में स्तिथ आयुष मार्केट में 6 दुकानें 3 करोड़ में बिकी हैं वहीं मानसरोवर के आतिश मार्केट में 8 दुकानों की बिक्री से बोर्ड को 10 करोड़ 8 लाख रुपये मिले हैं. बोर्ड की प्रीमियम सम्पत्तियों को लेने के लिए भी लोगों में क्रेज बरकरार है. इस पखवाड़े में 70 प्रीमीयम सम्पत्तियों की बिक्री से बोर्ड को 92 करोड़ 73 लाख रुपये का राजस्व मिला है. रोचक बात यह रही कि आतिश मार्केट में भूखण्ड संख्या 66 अपने निर्धारित न्यूनतम बोली मूल्य से 4 गुना कीमत में बिका है इस भूखण्ड का निर्धारित बोली मूल्य 80 हजार रूपये प्रति वर्ग मीटर था जो कि 3 लाख 40 हजार रूपये प्रति वर्ग मीटर में बिका. इसी तरह आयुष मार्केट में 1 भूखण्ड अपने निर्धारित बिक्री मूल्य से साढ़े तीन गुना कीमत में बिका है.  

बोर्ड को फिर से ब्राण्ड बनाने के विजन को हाउसिंग बोर्ड बखूबी पूरा कर रहा: 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और UDH मंत्री शांति धारीवाल के हाउसिंग बोर्ड को फिर से ब्राण्ड बनाने के विजन को हाउसिंग बोर्ड बखूबी पूरा कर रहा है. अपनी आकर्षक योजनाओ से बोर्ड एक और जहां बड़ी संख्या में लोगों का आवास का सपना साकार कर रहा है तो वहीं अपनी साख के दम पर सम्पत्तियों की बिक्री से बड़ी संख्या में राजस्व भी अर्जित कर रहा है. यह हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा की प्लानिंग का ही कमाल है कि सिर्फ जयपुर जैसे बड़े शहर में ही नहीं बल्कि कई जिला मुख्यालयों और कस्बों में भी बोर्ड की संपत्तियों को बड़ी संख्या में खरीददार मिलते जा रहे हैं. इसी पखवाड़े में बोर्ड ने हनुमानगढ़ जैसे छोटे जिले में सिर्फ 1 दिन में ही 28 मकानों की बिक्री की है. बोर्ड को इससे 1 करोड़ 74 लाख रुपये का राजस्व मिला है. 

जयपुर वृत्त प्रथम, द्वितीय और तृतीय में 60 सम्पत्तियां बिकी:
हाउसिंग बोर्ड कमिश्नर पवन अरोड़ा ने बताया कि जयपुर वृत्त प्रथम, द्वितीय और तृतीय में 60 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 8 करोड़ 2 लाख रूपये का राजस्व मिला, जोधपुर वृत्त प्रथम और द्वितीय में 81 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 7 करोड़ 40 लाख रूपये का राजस्व मिला, कोटा वृत्त में 52 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 4 करोड़ 6 लाख रूपये का राजस्व मिला, बीकानेर वृत्त में 120 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 10 करोड 76 लाख रूपये का राजस्व मिला, उदयपुर वृत्त में 66 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 6 करोड 68 लाख रूपये का राजस्व मिला और अलवर वृत्त में 51 सम्पत्तियां बिकी, जिससे मण्डल को 5 करोड़ 40 लाख रुपये का राजस्व मिला है. 

और पढ़ें