सूर्य सप्तमी: एकमात्र ऐसा मंदिर जहां पत्नी के साथ विराजमान है भगवान सूर्य नारायण, यहां आकर पांडव भी हुए थे पाप मुक्त

सूर्य सप्तमी: एकमात्र ऐसा मंदिर जहां पत्नी के साथ विराजमान है भगवान सूर्य नारायण, यहां आकर पांडव भी हुए थे पाप मुक्त

झुंझुनूं: आज सूर्य सप्तमी है. जिसका पूरे देश में खास महत्व है. लेकिन आज हम राजस्थान के उस सूर्य मंदिर के बारे में आपको बताते है जहां भगवान सूर्य नारायण अपनी पत्नी छाया देवी के साथ विराजमान है. यही नहीं इसी सूर्य मंदिर क्षेत्र में आकर पांडव पाप मुक्त हुए थे. उनके लोहे के अस्त्र शस्त्र गल गए थे. जिसके बाद से इस सूर्य क्षेत्र को लोहार्गल के रूप में पहचान मिली. 

कई आयोजन हो रहे है. हर साल यहां पर सूर्य सप्तमी के मौके पर तीन दिवसीय आयोजन ब्रह्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है. मंदिर के महंत स्वामी अवधेशाचार्य ने बताया कि इस सूर्य मंदिर और यहां पर स्थित सूर्य कुंड की खासी महत्ता है. यहां पर स्नान करने से चर्म रोग दूर होते है. वहीं पूजा अर्चना के बाद गृह दोष खत्म होते है. सूर्य नारायण की आराधना करने से सूर्य प्रबल होता है. जिसके कारण यश—कीर्ति बढ़ती है.

इसी मंदिर के क्षेत्र में पांडव महाभारत काल के दौरान दो बार आए:
स्वामी अवेधाशाचार्य ने बताया कि पूरे विश्व में सूर्य भगवान के 44 मंदिर है. लेकिन लोहार्गल का सूर्य मंदिर एक ऐसा एकमात्र मंदिर है. जहां पर सूर्य भगवान अपनी पत्नी छाया देवी के साथ विराजमान है. यह मंदिर अनादिकाल से है. इसी मंदिर के क्षेत्र में पांडव महाभारत काल के दौरान दो बार आए. युद्ध से पहले भीम गुफा में पांच दिन रहे. वहीं सोमवती अमावस्या का श्राप दिया. वहीं युद्ध के बाद जब वे गोत्ररता के पाप से ग्रसित थे. तो उनके पाप यहां के पानी से अस्त्र शस्त्र गलने से उतरा. भगवान परशुराम का यज्ञ पूर्ण करवाने के लिए भगवान सूर्य नारायण अपनी पत्नी के साथ यहां आए और यहां पर विराजमान हो गए.

झुंझुनूं के लोहार्गल को मिनी हरिद्वार भी बोला जाता है: 
झुंझुनूं के लोहार्गल को मिनी हरिद्वार भी बोला जाता है. यहां पर अमावस्या के दिन और सोमवती अमावस्या के दिन कुंड में स्नान करने के लिए लाखों श्रद्धालु दूर-दूर से आते हैं. यहां के सूर्य मंदिर की अपनी अलग महत्ता है. जो केवल देश और प्रदेश में नहीं, बल्कि पूरे विश्व में है. क्योंकि सपत्निक सूर्य भगवान केवल और केवल लोहार्गल स्थित मंदिर में विराजमान है. 


 

और पढ़ें