close ads


Rajasthan Lockdown: इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर सब बंद, सड़कों पर पसरा सन्नाटा,पुलिस की बढ़ी सख्ती 

 Rajasthan Lockdown: इमरजेंसी सेवाओं को छोड़कर सब बंद, सड़कों पर पसरा सन्नाटा,पुलिस की बढ़ी सख्ती 

जयपुर: कोरोना से बचाव के लिए राजस्थान के कई क्षेत्रों में 21 दिन के लॉकडाउन का असर दूसरे दिन भी देखने को मिला. जहां इंसान आपस में दूरी बनाए समान लेते दिखाई दिए. हालांकि, राजस्थान में  राज्य सरकार ने पहले ही लॉकडाउन कर रखा था. ऐसे में यहां लॉकडाउन का चौथा दिन है. प्रदेश की राजधानी जयपुर की सडकों पर सन्नाटा छाया रहा है. इमरजेंसी सेवाओं को छोडकर सभी बाजार बंद रहा है. दवा, दूध और जरूरी सामानों की दुकानें खुली हुई हैं. लोग खरीददारी कर रहे हैं, लेकिन भीड़ नहीं है.

Rajasthan Corona Updates: राजस्थान में कोरोना के नए मामले आये सामने, पॉजिटिव मरीजों की संख्या हुई 39

जरूरत के सामान की होम डिलेवरी:
पहले केन्द्र और राज्य सरकार ने आमजन को कह दिया है कि कोई भी जरूरी सामान की कमी नहीं आएगी. अब पुलिस की पहल के बाद तमाम कंपनियां घर-घर जाकर खाने के सामान की डिलेवरी कर रही है. जानकारी के मुताबिक 24 घंटे ये सुविधा उप्लब्ध करवाई जाएगी. जिससे बाजारों में भीड़ नहीं लगे. इसके साथ ठेलों के माध्यम से भी सब्जियां पहुंचाई जाएगी. वहीं गुरुवार को भी जयुपर के परकोटे इलाके में शहर के अन्य हिस्सों की तुलना में लॉकडाउन का असर कम नजर आया. 

पुलिस की सख्ती बढ़ी:
सरकार और प्रशासन के अलर्ट करने के बाद भी लोग लॉकडाउन को जो उल्लंघन कर रहे है, अब पुलिस उनके लिए सख्ती से बर्ताव कर रही है. पहले ही कह दिया है कि यह आपके जीवन के लिए लॉकडाउन है, लेकिन आमजन समझ ही नहीं है. गुरुवार को भी चौराहों पर तैनात पुलिस ने घरों से बाहर आए युवकों से पूछताछ की और उन्हें घर भेजा. वैशाली नगर में पुलिस ने दुकानदारों को हिदायत दी कि वह भीड़ न लगने दें. दुकान के बाहर खड़े लोगों से भी पुलिस ने दूर-दूर खड़े रहने के लिए कहा. पुलिसवालों ने दुकानदारों से कहा है कि दुकान के बाहर एक बोर्ड लगाएं, जिसमें बिना मास्क के सामान नहीं देने की बात लिखी हो.

Corona Update: कोरोना की वजह से 14 लोगों की मौत, एक जम्मू कश्मीर में तो दूसरी महाराष्ट्र में हुई मौत, संक्रमित लोगों की संख्या हुई 629

लॉकडाउन को किया उल्लंघन तो होगी सजा:
लॉकडाउन का पालन नहीं करने वालों पर महामारी रोग कानून-1897 के उल्लंघन का मामला दर्ज हो रहा है. यह आईपीसी की धारा-188 के तहत दंडनीय अपराध है. इसे तोड़ने वालों को छह माह तक की जेल या एक हजार रुपए जुर्माना या फिर दोनों सजा साथ हो सकती है. इसलिए हमारी आपसे अपील है कि घरों में रहे, लॉकडाउन का पालन करें. ये सब आपके लिए किया जा रहा है. कोरोना महामारी को रोकने का बस यही तरीका है आप घरों में रहे है. दूरी बनाये रखे. 

और पढ़ें