Video: Rajasthan: Reet Exam 2021 की नई तारीख घोषित, EWS अभ्यर्थियों से जुलाई माह में मांगे जाएंगे आवेदन

Video: Rajasthan: Reet Exam 2021 की नई तारीख घोषित, EWS अभ्यर्थियों से जुलाई माह में मांगे जाएंगे आवेदन

जयपुर: लंबे इंतजार के बाद अब राजस्थान शिक्षक पात्रता परीक्षा (REET Exam 2021) रीट परिक्षा को लेकर राज्य शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Doatsara) ने बड़ा फैसला लेते हुए परिक्षा तिथि का ऐलान कर दिया है. आवेदन कर चुके 16 लाख से अधिक अभ्यर्थियों का परीक्षा तिथि का इंतजार खत्म हो गया है. इस परीक्षा के लिए जुलाई में EWS कोटे के लिए आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी.  

सिंतबर माह में होगी परिक्षा:
शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने ट्वीट करते हुए कहा है कि रीट परिक्षा 26 सिंतबर को आयोजित की जाएगी. वही पर EWS अभ्यर्थियों के लिए आवेदन 21 जून से 5 जुलाई तक लिए जाएँगे. बहुत जल्द माध्यमिक शिक्षा बोर्ड संशोधित विज्ञप्ति जारी करेगा. बताया कि शिक्षा विभाग ने परिक्षा को लेकर तैयारीयां शुरू कर दी है. डोटासरा ने आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से चर्चा करने के बाद ये फैसला लिया है.

#रीट परीक्षा 26 सितंबर को आयोजित करने का निर्णय लिया गया है।

EWS अभ्यर्थियों के लिए आवेदन 21 जून से 5 जुलाई तक लिए जाएँगे। बहुत जल्द माध्यमिक शिक्षा बोर्ड संशोधित विज्ञप्ति जारी करेगा।

— Govind Singh Dotasra (@GovindDotasra) June 16, 2021

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड जल्द करेगा संशोधित विज्ञप्ति जारी:
राजस्थान शिक्षक पात्रता परिक्षा की नई तिथी घोषित होने के बाद अब माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Board of Secondary Education) इसके लिए जल्द ही संशोधित विज्ञप्ति जारी करेगा. EWS के अभ्यर्थियों को भी अलग से लाभ मिलेगा. इनके आवेदन 21 जून से 5 जुलाई तक लिए जाएंगे. आपकों बता दे की लंबे समय से अभ्यर्थियों  की परिक्षा तिथी घोषित करने की मांग चल रही थी. इसके लिए अभ्यर्थियों  ने सोशल मीडिया सहित अन्य कई तरिकों से अभियान भी चलाया था. 

दो बार बदली गई रीट परिक्षा की तारीख: 
आपकों बता दे कि राजस्थान शिक्षक पात्रता परिक्षा को लेकर दो बार तारिखें निश्चित कर दी गई थी. पहले 25 अप्रैल को ये परिक्षा होनी थी उसके बाद इसे पोस्टपोंड कर 20 जून को तय किया गया उसको भी निरस्त कर के अब नई तारिख का ऐलान किया गया है. कोरोना काल में कई महत्वपुर्ण परिक्षाओं को रद्द किया गया है. 

आपकों बता दे कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का मानना था कि अभ्यर्थियों को पुरा समय मिलना चाहिए जिससे वें परिक्षा में सहूलियत फील कर सके.

और पढ़ें