Rajasthan: पहली बार पेश किया जाएगा कृषि बजट, राज्य सरकार के स्तर पर जोर-शोर से की जा रही तैयारियां

Rajasthan: पहली बार पेश किया जाएगा कृषि बजट, राज्य सरकार के स्तर पर जोर-शोर से की जा रही तैयारियां

जयपुर: अगले वित्त वर्ष के लिए फरवरी माह में राज्य सरकार की ओर से पहली बार कृषि बजट पेश किया जाएगा. कृषि बजट तैयार करने के लिए राज्य सरकार के स्तर पर जोर-शोर से तैयारियां चल रही हैं. कृषि विभाग बजट में आमजन से सुझाव लेने का कार्य भी कर रहा है. कृषि विभाग के अधिकारी संभागवार बैठकें कर रहे हैं. 

लालचंद कटारिया प्रदेश के पहले कृषि मंत्री होंगे जो कृषि के लिए अलग से बजट पेश करेंगे. अभी तक प्रदेश में केवल आम बजट पेश करने की परम्परा रही है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पहल पर पहली बार कृषि का अलग बजट पेश किया जाएगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस बारे में वर्ष 2021-22 की बजट घोषणा में भी कहा था कि वित्तीय वर्ष 2022-23 से राज्य में अलग से कृषि बजट पेश किया जाएगा. 

संभाग स्तरीय बजट पूर्व चर्चा बैठकें आयोजित की जा रही:
कृषि बजट तैयार करने की प्रक्रिया में राज्य स्तर पर कृषि, पशुपालन, सहकारिता आदि विभागों के स्टेक होल्डर्स और प्रगतिशील किसानों के साथ चर्चा बैठकें की जा रही हैं. सभी संभाग मुख्यालयों पर संभाग स्तरीय बजट पूर्व चर्चा बैठकें आयोजित की जा रही हैं. अब तक बीकानेर संभाग में 3 दिसंबर, जोधपुर में 7 दिसंबर, उदयपुर में 9 दिसंबर को बैठकें हो चुकी हैं. अब जयपुर में 11 दिसम्बर को और भरतपुर में 14 दिसम्बर को बैठकें आयोजित की जाएंगी. अजमेर संभाग की बैठक सबसे पहले 25 नवम्बर को ही आयोजित की जा चुकी है. सबसे आखिर में कोटा संभाग में कृषि बजट पूर्व चर्चा बैठक की जाएगी. 

आम किसान इस तरह दे सकते हैं सुझाव:-
- ‘कृषि आयुक्त, पंत कृषि भवन, जनपथ, जयपुर’ को पत्र लिखकर दे सकते सुझाव
- ई-मेल आईडी [email protected] पर लिखकर भेज सकते सुझाव
- प्रमुख सुझावों को राज्य स्तरीय बजट पूर्व चर्चा बैठक में प्रस्तुत किया जाएगा
- इस तरह उपयोगी सुझावों को बजट में किया जा सकता है शामिल 

इन बैठकों में कृषि, पशुपालन, कृषि विपणन, राजस्थान वेयर हाउस कॉर्पोरेशन, सहकारिता, ग्रामीण विकास, ऊर्जा, जल संसाधन, कृषि विश्वविद्यालय आदि कृषि से सम्बद्ध विभागों के प्रतिनिधियों को शामिल किया जा रहा है. इनमें संबधित संभाग के सभी जिलों से प्रगतिशील किसान, प्रगतिशील पशुपालक, कृषि प्रसंस्करण इकाईयों से जुड़े लोगों को शामिल किया जा रहा है. साथ ही कृषि उद्यमों के प्रमुख प्रतिनिधि, सिंचाई जल प्रबंधन इकाइयों के प्रतिनिधि, प्रगतिशील मत्स्य पालक, कृषक उत्पादन संगठनों के प्रतिनिधि, सहकारी समितियों के प्रतिनिधि भी शामिल हो रहे हैं. साथ ही संबंधित संभागीय आयुक्त, संभाग मुख्यालय के जिलों के कलक्टर, सम्बद्ध विभागों के राज्य स्तरीय अधिकारी तथा संभाग एवं जिला स्तर पर संबंधित विभागों के प्रमुख अधिकारी भाग ले रहे हैं. बैठकों में सभी सुझाव लिए जा रहे हैं, जिन्हें एकत्रित कर कृषि बजट के लिए प्रस्तुत किया जाएगा.

आज जयपुर में बैठक आयोजित की जाएगी:
बजट पर चर्चा के लिए शनिवार को कृषि विभाग में जयपुर में बैठक आयोजित की जाएगी. इस बैठक में कृषि मंत्री लालचंद कटारिया प्रमुख किसान प्रतिनिधियों से मिलेंगे. बजट पूर्व चर्चा के दौरान किसानों से जुड़े प्रमुख मुद्दों को बजट में समाहित करने का प्रयास किया जाएगा. कुल मिलाकर राज्य सरकार की यह पहल अन्नदाताओं के लिए नए आयाम लेकर आएगी. 

और पढ़ें