Rajasthan: कांग्रेस का डिजिटल सदस्यता अभियान, पीसीसी के सामने चुनौती 50 लाख सदस्य हासिल करना; विधायकों को निर्देश अभियान के प्रति गंभीरता बरते

Rajasthan: कांग्रेस का डिजिटल सदस्यता अभियान, पीसीसी के सामने चुनौती 50 लाख सदस्य हासिल करना; विधायकों को निर्देश अभियान के प्रति गंभीरता बरते

जयपुर: कांग्रेस के ट्रेनिंग कैंप के आयोजन में शिरमौर बनने के बाद प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने डिजिटल सदस्यता अभियान को सफल बनाने की ओर कदम आगे बढ़ा दिया है. अभियान के तहत राज्य पीसीसी का लक्ष्य है देश भर की कांग्रेस कमेटियों में अग्रणी बनने का. तय समय में 50 लाख से अधिक सदस्य बनाने का दावा किया प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने. विधायकों को निर्देश अभियान के प्रति बरते गंभीरता देखते हैं खास रिपोर्ट... 

कोरोना के कारण प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पास एक ही चारा है कि कांग्रेस के नए सदस्य डिजिटल सदस्यता अभियान के जरिए ही बनाए जाए. समय काल और परिस्थितियों के अनुसार पीसीसी इसमें जुट भी गई है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने मंत्रियों, विधायकों, जिला अध्यक्षों, पीसीसी पदाधिकारियों से लेकर पंच प्रधान तक को डिजिटल अभियान में भागीदारी का लक्ष्य दे दिया है.

---कैसे पूरा होगा 50 लाख सदस्य बनाने का टारगेट---

- डिजिटल मेंबरशिप अभियान के तहत कोई भी युवा और व्यक्ति ₹5 की फीस जमा कर कांग्रेस के डिजिटल मेंबरशिप अभियान एप पर अपनी जानकारी सबमिट कर के कांग्रेस का डिजिटल मेंबर्स बन सकता है. 

- डिजिटल मेंबर बनने वाले व्यक्ति को पार्टी की ओर से डिजिटल कार्ड भी उपलब्ध करवाया जाएगा. 

- सभी विधानसभा क्षेत्रों में प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र से दो-दो नाम लिये जाकर डिजिटल मेम्बरशिप प्रभारी बनाये जायेंगे.  

- प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में 7-7 चीफ इनरोलर भी नियुक्त किये जायेंगे. 

- जिनके पास उक्त विधानसभा क्षेत्र के 30 से 40 बूथों का प्रभार होगा.

- राजस्थान के सभी 50062 बूथों पर दो-दो कार्यकर्ता नियुक्त किये जायेंगे. 

- डिजिटल माध्यम से अपने बूथों पर 100 व्यक्तियों को कांग्रेस का सदस्य बनायेंगे.

- 200 विधानसभा क्षेत्रों में 400 पर्सन ऑफ कांटेक्ट्स का चयन किया गया है. 

- इन्हें डिजिटल मेंबरशिप अभियान का प्रशिक्षण दिया जायेगा.

- प्रशिक्षण लेने वाले पर्सन ऑफ कांटेक्ट को डिजिटल कार्ड और लोगों की डिजिटल मेंबरशिप कराएंगे. 

- एक पर्सन ऑफ कॉन्टेंक्ट्स अधिकतम 500 लोगों की डिजिटल मेंबरशिप ही करा सकेगा. 

पीसीसी चीफ़ डोटासरा ने सभी विधायकों को निर्देश दे दिए है कि समय अवधि के भीतर ही सदस्यता फार्म की बुकलेट प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में जमा करा दें, साथ ही डिजिटल मेम्बरशिप हेतु प्रदेश स्तर पर कॉर्डिनेटर के नाम पीसीसी को भेजे. हालांकि प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व इस बात से नाराज है कि डिजिटल मेंबरशिप को लेकर हुई पीसीसी अध्यक्ष की पहली VC में विधायकों की भागीदारी कम थी. जबकि मंत्रियों ने पूरी रुचि दिखाई. बहरहाल प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन तक पूरी रिपोर्ट जा रही है, समय रहते विधायकों ने डिजिटल सदस्यता अभियान के प्रति गंभीरता नहीं बरती तो पीसीसी अपनी ओर से उनके विधानसभा क्षेत्र में उन्हीं के क्षेत्र से कोऑर्डिनेटर की नियुक्ति कर देगी, पीसीसी के सामने चुनौती है 50 लाख के लक्ष्य को हासिल करना. 

...फर्स्ट इंडिया के लिए योगेश शर्मा की रिपोर्ट 

और पढ़ें