जयपुर Rajasthan: 'भ्रष्ट होंगे दंडित' ! राज्यपाल कलराज मिश्र के 3 वर्ष पूरे, अगले 2 वर्ष के लिए ये रहेंगी महामहिम की प्राथमिकताएं

Rajasthan: 'भ्रष्ट होंगे दंडित' ! राज्यपाल कलराज मिश्र के 3 वर्ष पूरे, अगले 2 वर्ष के लिए ये रहेंगी महामहिम की प्राथमिकताएं

जयपुर: राज्यपाल कलराज मिश्र के कार्यकाल के 3 वर्ष पूरे हो गए हैं. राज्यपाल ने प्रदेश में पिछले 3 वर्षों में कई नवाचार शुरू किए और उन्हें बरकरार रखा है. शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए राज्यपाल ने विगत 3 वर्ष में किए गए प्रमुख कार्यों को गिनाया और भविष्य की कार्य योजनाओं की भी जानकारी दी. इस दौरान उन्होंने सीएम गहलोत और राज्य सरकार से रिश्तों पर भी साफगोई से बात की और विश्वविद्यालयों में बढ़ते भ्रष्टाचार के मामलों को लेकर भी स्पष्ट संदेश दिया. 

राज्यपाल कलराज मिश्र ने उच्च शिक्षा को लेकर स्पष्ट संदेश दिया है. उनके कार्यकाल के 3 वर्ष पूरे होने के मौके पर मीडिया से बातचीत में राज्यपाल बोले कि पिछले समय में 2 विश्वविद्यालयों के कुलपति भ्रष्टाचार के आरोप में पकड़े गए. अजमेर और कोटा के आरटीयू के कुलपति एसीबी द्वारा रिश्वत लेते पकड़े गए. जो रिश्वत लेगा, भ्रष्टाचार करेगा, वह अवश्य दंडित होगा. इस मामले में किसी को बख्शा नहीं जा सकता. राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालयों में भ्रष्टाचार किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. 

राज्य सरकार से अपने रिश्तों को लेकर राज्यपाल ने कहा कि पिछले 3 वर्ष में मेरे सरकार के साथ बेहतर रिश्ते रहे हैं. परस्पर संवाद और वार्ता बनी रहनी चाहिए. मेरा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से लगातार मिलना होता रहता है. शासन अच्छी तरह से चले, ये हम दोनों का प्रयास रहता है. विश्वविद्यालयों में बतौर कुलाधिपति राज्यपाल के अधिकार कम किए जाने और उन्हें केवल विजिटर रखे जाने को लेकर राज्य सरकार के बिल लाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि विधिक रूप से ऐसी कोई प्रक्रिया सामने नहीं आई है. राज्य सरकार द्वारा बगैर राज्यपाल की अनुमति के विधानसभा सत्र बुलाने को लेकर राज्यपाल ने कहा कि विधानसभा का सत्रावसान नहीं हुआ था, तो किसी भी समय सत्र बुला सकते हैं. सत्रावसान होने पर ही नए सत्र को राज्यपाल आहूत करते हैं. 

राज्यपाल की बड़ी बातें:- 
- CM गहलोत के साथ रिश्ते बेहतर, उनसे निरंतर संवाद
- प्रदेश के कई विश्वविद्यालयों में VC और अन्य पद रिक्त हैं, उन्हें भरेंगे
- कुलपति बाहरी राज्यों के लगाए जाने संबंधी विवाद पर कहा,
- मुख्यमंत्री गहलोत के साथ वार्ता कर कुलपति लगाते हैं, इसे और निर्विवाद बनाएंगे
- कुलपति की योग्यता को लेकर सवाल नहीं उठें, इसके प्रयास जारी हैं
- गुरुकुल यूनिवर्सिटी फर्जीवाड़े पर नहीं बोले
- कहा, निजी विश्वविद्यालयों को मान्यता देना सरकार का काम
- विश्वविद्यालयों में फर्जी डिग्री का विषय गंभीर, राज्य सरकार इसे देखेगी
- विश्वविद्यालयों में पारदर्शिता ला रहे, एडमिशन, परीक्षा में एकरूपता लाई जा रही
- SUMS और ई-समीक्षा तंत्र से विश्वविद्यालयों में पारदर्शिता आएगी

राज्यपाल कलराज मिश्र से मुलाकात करने आने वाले आगंतुकों के लिए राजभवन में स्वागत ऑनलाइन अपॉइंटमेंट सॉफ्टवेयर लागू होगा. साथ ही जनजातीय क्षेत्र के 49 गांवों को आदर्श ग्रामों के रूप में विकसित किया जाएगा. राज्यपाल ने इस मौके पर अपनी भावी कार्य योजना और प्राथमिकताओं को लेकर बात रखी. उन्होंने कहा कि बीते तीन वर्षों में उन्होंने संविधान की संस्कृति की जागरुकता के लिए निरंतर कार्य किया है. युवा पीढ़ी संविधान की मूल भावना और उच्च आदर्शों के बारे में जान-समझ सके, इस उद्देश्य से उन्होंने प्रदेश के राज्य वित्त पोषित विश्वविद्यालयों में संविधान पार्कों के निर्माण की पहल की है. राजभवन में भी संविधान पार्क बनाया जा रहा है. संविधान समिति के गठन से लेकर संविधान के निर्माण और इसे लागू किए जाने तक की पूरी यात्रा के महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाक्रमों को संविधान पार्क में प्रदर्शित किया जा रहा है.

अगले 2 वर्ष के लिए ये रहेंगी महामहिम की प्राथमिकताएं:- 
- जनजातीय क्षेत्र में आवंटित बजट का शत-प्रतिशत उपयोग हो
- जनजातीय क्षेत्र के लोगों को शिक्षा और रोजगार के पर्याप्त अवसर देने पर जोर
- प्रदेश के विश्वविद्यालयों में नई शिक्षा नीति समग्रता में लागू होगी
- विश्वविद्यालयों में एक समान पाठ्यक्रम लागू करने के लिए सिलेबस अपडेट होंगे
- भूतपूर्व सैनिकों व आश्रितों के लिए जयपुर में सैनिक कल्याण भवन बनेगा
- भूतपूर्व सैनिकों व आश्रितों की समस्याओं के निराकरण के लिए ऑनलाइन सिस्टम बनेगा
- इनके भत्तों, छात्रवृत्ति राशि तथा चिकित्सकीय आर्थिक सहायता बढ़ाई गई
- बांसवाड़ा के गोविन्द गुरु जनजातीय विश्वविद्यालय में वैदिक शोध पीठ बनेगी
- राज्यपाल राहत कोष का दायरा बढ़ाकर पीड़ितों की मदद की जाएगी
- राहत कोष का एप बनाकर ऑनलाइन सहयोग लिया जाएगा

इस मौके पर राज्यपाल कलराज मिश्र के तीन वर्ष के कार्यकाल पर आधारित ‘‘संकल्प से सिद्धि-प्रतिबद्धता के तीन वर्ष‘‘ पुस्तक का विमोचन किया गया. उनके भाषणों एवं व्याख्यानों के संकलन ‘‘अप्प दीपो भव‘‘ और अंग्रेजी पुस्तक "कंस्टीट्यूशन, कल्चर एण्ड नेशन" का लोकार्पण भी इस मौके पर किया गया. राज्यपाल के प्रमुख सचिव सुबीर कुमार ने शुरुआत में उनका अभिनंदन किया. इस मौके पर राज्यपाल के प्रमुख विशेषाधिकारी गोविन्द राम जायसवाल भी मौजूद रहे.

और पढ़ें