जयपुर Rajasthan By-Election 2021: 3 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में संभावित चेहरों को लेकर भाजपा में अंदरूनी मंथन तेज, इन नामों पर चल रहा विचार

Rajasthan By-Election 2021: 3 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में संभावित चेहरों को लेकर भाजपा में अंदरूनी मंथन तेज, इन नामों पर चल रहा विचार

Rajasthan By-Election 2021: 3 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव में संभावित चेहरों को लेकर भाजपा में अंदरूनी मंथन तेज, इन नामों पर चल रहा विचार

जयपुर: 3 विधानसभा क्षेत्रों के उपचुनाव की तारीखों के ऐलान के साथ ही संभावित चेहरों को लेकर भाजपा ने अंदरूनी मंथन को तेज कर दिया है. चूरू जिले के सुजानगढ़ उपचुनाव में फिलहाल तो भाजपा किसी मेघवाल पर ही फोकस करने की जुगत में है. इस फेहरिस्त में पूर्व प्रधान संतोष मेघवाल का नाम टॉप पर है.
संतोष के टिकट के फिलहाल तो सबसे ज्यादा चांसेज बताए जा रहे हैं. इसी के साथ दूसरा नाम पूर्व विधायक खेमाराम मेघवाल का भी है जिस पर विचार किया गया है. तीसरी फेहरिस्त में यूनुस खान के पूर्व osd बीएल भाटी भी हैं जो लगातार पिछले दिनों से टिकट के दावेदारी जता रहे हैं. भाटी ने पिछले चुनाव में भी टिकट मांगा था. भाटी ने भी टिकट के लिये पूरा जोर लगा रखा है. हालांकि यदि गैर मेघवाल के नाम पर यदि विचार किया जाता है तो फिर वासुदेव चावला के नाम पर भी किया जा सकता है.

चूरू की भाजपा सियासत राजेंद्र राठौड़ के इर्द-गिर्द:  
भले ही चुनाव व टिकट मुद्दे पर सतीश पूनिया फ्रीहैंड हों लेकिन पूनिया की जन्मभूमि भी चूरू है ऐसे में पूनिया इस क्षेत्र की शह मात की पूरी जानकारी रखते हैं. दूसरी तरफ राजेंद्र राठौड़ की सियासत भी चूरू में बरसों पुरानी है. या कहे तो चूरू की भाजपा सियासत राजेंद्र राठौड़ के इर्द-गिर्द घूमती है. ऐसे में राजेन्द्र राठौड़ के परामर्श को भी बड़ा आधार बनाया जाएगा. पार्टी की आगामी बैठक में इन नामों पर विचार किया जाना है. 

सहाड़ा में किसी जाट चेहरे पर दाव खेलने की उम्मीद:
वहीं सहाड़ा विधानसभा क्षेत्र के लिए कांग्रेस के संभावित धामण चेहरे को देखते हुए इस बात की पूरी उम्मीद है कि भाजपा किसी जाट चेहरे पर दाव फिर से खेलेगी. इस फेहरिस्त में डॉ रतनलाल जाट का नाम टॉप पर है. पार्टी के स्तर पर रतनलाल के नाम पर भी विचार हुआ है. हालांकि कुछ लोग दे रहे उनकी ज्यादा उम्र का हवाला दे रहे हैं लेकिन पूर्व विधायक रतनलाल के नाम पर भाजपा में फिलहाल ज्यादा सहमति है. कुछ भाजपाई युवा को टिकट देने की भी वकालत कर रहे हैं. इस फेहरिस्त में पिछली बार 7 हजार वोटों से हारे रूपलाल जाट के नाम पर भी चर्चा हुई है. साथ ही आईआरएस रहे मनफूल चौधरी का नाम भी पार्टी के सामने आया है. भाजपा का एक धड़ा पूर्व विधायक बद्री चौधरी के लिए भी जोर आजमाइश कर रहा है.

राजसमंद विधानसभा क्षेत्र में दीप्ति माहेश्वरी का नाम टॉप पर चल रहा: 
राजसमंद विधानसभा क्षेत्र में इस वक्त की अपडेट पर यदि गौर फरमाएं तो स्व किरण माहेश्वरी की पुत्री दीप्ति माहेश्वरी का नाम टॉप पर चल रहा है. बताया जा रहा है कि दीप्ति माहेश्वरी को पार्टी की ओर से कोई इशारा भी हुआ है. जिस लिहाज से वह क्षेत्र में लगातार मेहनत कर रही है. फिलहाल तो दीप्ति पर ही दाव की खबर निकलकर सामने आई है. अब भाजपा के कई खेमे भी जोर आजमाइश में जुटे हैं. कई नेता टिकट को लेकर दावेदारी जता रहे हैं. कुछ की दलील है कि बाहरी को टिकट न दिया जाए और परिवार में टिकट दिया जाना आम कार्यकर्ता के साथ कुठाराघात होगा. तो कुछ का कहना कि सर्वाधिक आबादी वाली जाती ब्राह्मण को टिकट दिया जाए तो पार्टी की फतेह हो सकती है. बहरहाल भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया फ्री हैंड हैं. लेकिन नेता प्रतिपक्ष कटारिया और दिया कुमारी व सीपी जोशी का भी अहम रोल होगा. अन्य नेताओं के सलाह मशविरे भी मायने रखेंगे.

राजनीतिक दांवपेच और नूरा कुश्ती के खेल में कौन रहेगा टॉप पर: 
हालांकि फिलहाल इन नामों की चर्चा है लेकिन राजनीतिक दांवपेच और नूरा कुश्ती के खुले और अंदरूनी खेल में आगामी दिनों में कौन चेहरा टॉप पर होता है और किसे राजनीतिक समीकरणों के लिहाज से टिकट प्राप्त करने में सफलता मिलती है यह देखने वाली बात होगी. देखा जाएगा कि इन तीनों उपचुनाव से संबंधित भाजपा की बैठक में भाजपा आलाकमान के पास किन नामों को भेजती है.

...फर्स्ट इंडिया न्यूज के लिए एश्वर्य प्रधान की रिपोर्ट

और पढ़ें