फिलहाल एक बार फिर टल गया है मंत्रिमंडल विस्तार, पायलट कैम्प के साथ-साथ सत्ता पक्ष में भी नहीं बन पा रही आम सहमति !

फिलहाल एक बार फिर टल गया है मंत्रिमंडल विस्तार, पायलट कैम्प के साथ-साथ सत्ता पक्ष में भी नहीं बन पा रही आम सहमति !

जयपुर: राजस्थान में चल रहे सियासी घटनाक्रम के बीच मंत्रिमंडल फेरबदल (Cabinet Reshuffle) पर लेटेस्ट अपडेट आई है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार फिलहाल एक बार फिर मंत्रिमंडल विस्तार (Cabinet Expansion) टल गया है. पायलट कैम्प के साथ-साथ सत्ता पक्ष में भी आम सहमति नहीं बन पा रही है. 102 वफादार विधायकों में से मंत्री चुनने पर आम सहमति नहीं है. 

पायलट कैम्प में भी अनिश्चितता का माहौल:
दूसरी ओर पायलट कैम्प में भी अनिश्चितता का माहौल है, किसके नाम की सिफारिश करें और किसके नाम की नहीं करें ? अभी तक आलाकमान ने पायलट को कोई ऑफर नहीं दिया. पायलट की ओर से अजय माकन ने भी आलाकमान को तीन या 5-6 मंत्री बनाने के लिए कोई प्रस्ताव नहीं दिया. अभी तक सबकुछ केवल हवा में है. प्रियंका गांधी के दिल्ली लौटने पर ही पायलट से 'फाइनल डायलॉग' होगा और इसके बाद ही पायलट कैम्प आगे की रणनीति बनाएगा. 

सचिन पायलट का दिल्ली में आज छठा दिन:
आपको बता दें कि सचिन पायलट का दिल्ली में आज छठा दिन है लेकिन अभी तक उनकी मुलाकात पार्टी आलाकमान से नहीं हो पाई है. ऐसे में अब यह सवाल खड़ा हो रहा है कि वो जयपुर कब आएंगे? क्या दिल्ली से अपनी बातों को मनवा कर आएंगे या अपने लिए कोई नया रास्ता तैयार करेंगे. क्योंकि देखा जाए तो सचिन के समर्थक कुछ विधायक अब समय को भांपकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गुणगान करने लगे हैं. 

काजी निजामुद्दीन और पायलट की अहम मुलाकात:
इससे पहले पायलट ने मंगलवार को उत्तराखंड का दौरा किया. इस दौरान उन्होंने राहुल गांधी के करीबी और पार्टी के राष्ट्रीय सचिव काजी निजामुद्दीन से मुलाकात की. कुछ दिनों पहले काजी निजामुद्दीन की मां का इंतकाल हो गया था. इस दौरान करीब एक घंटे तक काजी निजामुद्दीन और सचिन पायलट की मुलाकात अकेले में हुई है, जो कि महत्वपूर्ण है. मुलाकात के दौरान राजस्थान की सियासी अटकलों को लेकर चर्चा होने की बात भी सामने आ रही है. 
 

और पढ़ें